बिहार : नीतीश कुमार की टिप्पणी पर भड़के तेजस्वी यादव - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 21 सितंबर 2019

बिहार : नीतीश कुमार की टिप्पणी पर भड़के तेजस्वी यादव

tejaswi-react-on-nitish-statement
पटना, 20 सितंबर, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों पर टिप्पणी के बाद राजद नेता तेजस्वी यादव ने उन पर निशाना साधा है। कुमार ने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों पर निशाना साधते हुए कहा था कि जिन लोगों को राजनीति का कखगघ भी नहीं आता है वे भी अगर उनके खिलाफ बोलते हैं तो मीडिया में उन्हें खूब जगह मिलती है।  कुमार की अध्यक्षता में जद (यू) की प्रदेश परिषद की बैठक हुई। बैठक को संबोधित करते हुए उन्होंने बिना किसी पार्टी या नेता का नाम लिए प्रतिद्वंद्वियों पर प्रहार करते हुए कहा कि कुछ नेता प्रचार पाने के लिए अक्सर उनपर निजी हमला करते हैं ।  इस पर, यादव ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘मुख्यमंत्री जी कहते है मुझे कुछ नहीं आता? ठीक है चाचा, कुछ नहीं आता फिर क्यों मुझे उपमुख्यमंत्री बनाया था? मेरे विभागीय कार्यों को देखकर क्यों बेचैनी होने लगी थी? अगर आपको नेता प्रतिपक्ष के प्रति ऐसी अशोभनीय टिप्पणी करने में मानसिक सुख प्राप्त होता है तो कृपया आप ऐसा प्रतिदिन करिए।’’  एक के बाद एक ट्वीट में यादव ने कहा, ‘‘नीतीश जी, मैं नेता प्रतिपक्ष हूं और आप मुख्यमंत्री। अगर आपके कुप्रबंधन, लूट और नाकामियों को जनता के समक्ष रखना आपको मेरा अज्ञान लगता है तो यह आपका अज्ञान है।’’  यादव ने कहा, ‘‘ससम्मान कहता हूं, जितनी मेरी उम्र है उससे ज़्यादा आपका अनुभव, फिर भी आपकी पसंद के किसी भी विषय पर खुली बहस की विनम्र चुनौती देता हूँ। माफ करिए चाचा जी, मेरी उम्र भले ही कम हो लेकिन आपकी तरह मैंने नीति, सिद्धांत और विचार का सौदा करना नहीं सीखा। आप 15 साल से मुख्यमंत्री है फिर भी आपमें अकेले चुनाव लड़ने का माद्दा नहीं है। तेजस्वी यादव ने ट्वीट में कहा, ‘‘आप विचार कीजिए क्या कमी है कि सदैव आपको बैसाखी की जरूरत होती है? इस पर भी जनता का ज्ञानवर्धन कीजिए।’’ 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...