मधुबनी : जल-जीवन-हरियाली से संबंधित कार्यक्रम को लाइव वेबकास्ट के द्वारा सुना गया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 26 अक्तूबर 2019

मधुबनी : जल-जीवन-हरियाली से संबंधित कार्यक्रम को लाइव वेबकास्ट के द्वारा सुना गया

-----जिले में विभिन्न विभागों के 772 योजनाओं का हुआ उदघाटन एवं शिलान्यास 
jal-jivan-hariyali-live-web-cast
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) : जल-जीवन-हरियाली अभियान कार्यक्रम अंतर्गत संचालित विभिन्न योजनाओं के उद्घाटन से संबंधित कार्यक्रम का उद्घाटन पटना के ज्ञान भवन में माननीय मुख्यमंत्री,बिहार, श्री नीतीश कुमार जी के द्वारा किया गया। इस अवसर पर नगर भवन,मधुबनी में श्री सुमन महासेठ, माननीय विधान पार्षद,मधुबनी,श्री शीर्षत कपिल अशोक, जिला पदाधिकारी, मधुबनी, डॉ. सत्यप्रकाश, पुलिस अधीक्षक, मधुबनी के द्वारा दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर श्री अजय कुमार सिंह, उप-विकास आयुक्त, मधुबनी, श्री सुनील कुमार सिंह, अनुमंडल पदाधिकारी, सदर मधुबनी, श्री सुनील कुमार, विशेष कार्य पदाधिकारी, मधुबनी, श्री सुशील कुमार, जिला पदाधिकारी, मधुबनी, श्रीमती रेणु कुमारी, प्रभारी जिला सूचना एवं जनसंपर्क पदाधिकारी, मधुबनी उपस्थित थे। इस पूरे कार्यक्रम का  सीधा प्रसारण लाइव टेलीकास्ट के माध्यम से किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत बिहार गीत से हुआ। जल जीवन हरियाली से संबंधित जिले के विभिन्न विभागों के 772 योजनाओं का उदघाटन एवं शिलान्यास किया गया। इसके साथ ही जिले के सभी प्रखंडों में भी लाइव वेवकास्ट के माध्यम से लोगों द्वारा कार्यक्रम को देखा एवं सुना गया। लाइव प्रसारण के पश्चात जिला पदाधिकारी, मधुबनी के द्वारा बताया गया कि जिले में विभिन्न विभागों के द्वारा जल-जीवन-हरियाली अभियान के तहत विभिन्न योजनाओं में वर्षा जल का संचयन, कुओं का पुनरुद्धार, पेयजल संरक्षण, आहर-पाइन का जीर्णोद्धार, तालाब पोखरों का जीर्णोद्धार, सोख्ता का निर्माण किया जायेगा। उन्होंने सभी लोगों से प्राकृतिक संपदाओं का आवश्यकतानुसार उपयोग करें, साथ ही अधिक-से-अधिक वृक्षारोपण कर पर्यावरण को संतुलित रखने में सहयोग करें। इस अवसर पर कला जत्था के कलाकारों द्वारा जल-जीवन-हरियाली थीम पर कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...