झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 26 अक्टूबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 26 अक्तूबर 2019

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 26 अक्टूबर

सैयदना साहब का आशीर्वाद हमेशा मुझ पर रहा है... विधायक कांतिलाल भूरिया
बोहरा समाज एक शांतिप्रिय समाज है ........कलेक्टर प्रबल सिपाहाव्यापारी ही होते हैं बोहरा समाज के लोग .....एसपी विनीत जैन
jhabua news
मेघनगर । दाऊदी बोहरा समाज के 53 वें धर्मगुरु सैयदना आली कदर मुफद्दल सैफुद्दीन साहब (ता उ सा) की तरफ से झाबुआ नवनिर्वाचित विधायक कांतिलाल भूरिया को थांदला आमील साहब शेख अली हुसैन भाई खेड़ी वाला द्वारा शाल ओढ़ाकर दीपावली पर्व की शुभकामनाएं दी गई साथ ही जिले के कलेक्टर प्रबल सिपाहा एवं पुलिस कप्तान विनीत जैन को भी सैयदना साहब की तरफ से आमील साहब द्वारा साल भेंट की गई वह आने वाले पर्व दीपावली के मुबारकबाद दी गई इस अवसर पर जिला कलेक्टर ने कि बोहरा समाज एक शांतिप्रिय समाज है समाज जन धर्मगुरु के अनुआई है एवं सैयदना साहब ने समाज के उत्थान के लिए अनेकों योजनाएं समाज जन के लिए संचालित की है जिसका लाभ भी बोहरा समाज ले रहा है साथी पुलिस कप्तान ने कहा कि बोहरा समाज व्यापारी वर्ग में गिना जाता है जो हमेशा सैयदना साहब की मंशा अनुसार व्यापार करने में ज्यादा विश्वास रखते हैं और इमानदारी से व्यापार भी करते हैं झाबुआ नव निर्वाचित विधायक कांतिलाल भूरिया ने सैयदना साहब का आभार मानते हुए आमील साहब सहित समाज जन को भी दीपावली की बधाई दी और कहा कि उनकी विजय में सैयदना साहब का आशीर्वाद भी उन्हें मिला हुआ है व सैयदना साहब द्वारा  देशभर में  सफाई अभियान की मुहिम चलाई थी  जिससे  हर समाज फायदा ले रहा हैं । इस अवसर पर आमील साहब थांदला के साथ मुल्ला मुर्तुजा भाई कल्याणपुरा वाला ,शेख असगर भाई पटवारी, ताहेर भाई पर्वत वाला उपस्थित थे उक्त जानकारी बोहरा समाज मेघनगर के अध्यक्ष वह वाली मुल्ला अली असगर ईज्जी दे दी है।

हटरी मे बिराजित हुए भगवान गोवर्धननाथ, दीपमालाओं की परिक्रमा कर किया वंदन अनुष्ठान
दीपदान दे हटरी बैठे नवलाल गोवर्धनधारी
jhabua news
झाबुआ ।  पुष्टिमार्ग में सभी धार्मिक पर्वो को अलग ही अंदाज में मनाया जाता है। भगवान गोवर्धननाथजी एकादशी से दीपवली तक सेठ की भूमिका में रहते है  तथा हटरी अर्थात गादी पर बिराजित होकर अपने भक्तों को अपने हिसाब से यथा योग्य वस्तुयें ,आशीर्वाद आदि प्रदान करते है । श्री गोवर्धननाथ मंदिर में गुरूवार को  रामा एकादशी के दिन भगवान गोवर्धननाथजी को हटरी पर बिराजित किया गया ।जहां  सावरिया सेठ की भूमिका में व्यापार करते हुए दिखाई दिये । कीर्तनकार पण्डित रमेश त्रिवेदी ने जानकारी देते हुए बताया कि  पुष्टिमार्ग में मान्यता है कि भगवान गोवर्धननाथ रमा एकादशी से दीपावली पर्व तक सेठ बन कर भक्तों को दर्शन देते है  । इस अवसर पर एकादशी को  उनके इस सेठ स्वरूप की अर्चना,वंदना एवं नमन  का काफी महत्व रहता है। गोवर्धननाथजी का आकर्षक श्रृंगार करके उनके चंर ढोले गये तथा पूरे मंदिर को दुल्हन की तरह सजाया गया । वही भगवान के श्री विग्रह के सम्मुख दीपमाला लगाइ्र गई जिसमें 108 दीपक से रोशनाई की गई । इसके पूर्व यमुना मंडल की महिलाओ ं ने पट खुलने के पूर्व भगवान के भजन प्रस्तुुत किये । पट खुलने के साथ ही गोवर्धननाथजी की जय जय कारों से पूरा वातावरण भक्तिमय हो गया । पण्डित रमेश त्रिवेदी ने हटरी कीर्तन ’’ दीप दान दे  हटरी बैठे, नवलाल गोवर्धनधारी ’’ प्रस्तुति किया संगीत मय इस नाम संकीर्तन में पण्डित गोकुलेश आचार्य, कान्हा अरोडा ने उनकी संगत की । शयन के समय महा मंगल आरती के बादभगवान के पट बंद हुए । वही  भगवान के समक्ष स्थापित किये गये 108 दीप मालीका की महिलाओं ने  परिक्रमा की  और भगवान की वंदना की ।  दुग्ध प्रसादी के बाद रमा एकादशी पर्व का समापन हुआ । दीपावली तक प्रतिदिन श्री गोवर्धननाथजी की हवेली मे सेठ के रूप  में भगवान गोवर्धननाथ के दर्शनों का क्रम चलेगा तथा प्रभूुू का आशीष प्राप्त होगा ।

ज्योतिष सम्राट आचार्य ऋषभचंद्रसूरिष्वरजी ने दीपावली पूजन के मुहर्त बताये विधि विधान से की गई पूजा का पफल मिलता ही है -

jhabua news
झाबुआ ।  ज्योतिष सम्राट आचार्य श्रीमद ऋषभचन्द्र सूरी जी महाराज द्वारा वीर संवत  2547 के शुभारंभ  एवं 28 अक्तुबर को नववर्ष की शुभ मंगलकामनायें देते हुए धन तेरस, दीपावली शारदा पूजन एवं नूतनवर्ष पर द्रुकान खोलने के मुहुर्त की जानकारी दी है  । आचार्यश्री ने चोपडा लाने का मुहुर्त चित्र नक्षत्र में 27 अक्तुबर कार्तिक 14 को देते हुए बताया कि इस मुहर्त में धन पूजा श्री कुबेर पूजा का मुहूर्त बताते हुए कहा है कि शुक्रवार 25 अक्तुबर श्रुक्रवार को सायंकाल 5-58 से रात्री 8-32 तक का मुहुर्त श्रेष्ठ  हैै वही कार्तिक विदी चतुर्दशी 27 अक्तुबर को  दीपावली शारदा पूजन  में चंचल बेला में प्रातः 8-11 सेक गादी बिछाने का अभिजित मुहुर्त रहेगा, लाभ, अतृत वेता में प्रातः 9-34 से 12-21 तक तथा अभिजित वेला में प्रातः 11-59 से 3-09 तक  फेक्ट्री व बेंकिंक में पूजा करने का अभिजित मुहुर्त रहेगा तथा कुंभ लग्न में दोपहर 2-27 बजे से 3-58 तक आफीसर, दुकान में पूजा करने का मुहर्त शुभ रहेगा । आचार्य श्री के अनुसार नूतन वर्षमें दुकान खसालने का मुहर्त दूसरे दिन प्रातः 28 अक्तुबर सोमवार को अमृत बेला में प्रातः 6-48 से 7-30 बजे तक, शुभ वेता में प्रातः 9-34 से 10 58 तक  श्री महालक्ष्मी पूजन सामग्री को यथा स्थान रखने का मुहर्त, अभिजित वेला में प्रातः 11-59  से 12-44 तक, चंचल बेला में दोपह र 1-45 से 3-08 तक एवं लाभ एवं अमृत बेला में दोपहर 3-08 बजे से सायंकाल 5-55 तक का मुहुर्त रहेगरा । 1 नवम्बर शुक्रवार को कार्तिक सुदी पंचमी को चल, लाभ, अमृतवेला में प्रातः 6-50 से 10-45 तक सूर्योदय से साढे चार घंटे तक स्वीकार्य रहेगें । उन्होने  धनतेरस पर धनपूजा,श्री यंत्र, कुबेरयंत्र या सिद्धचक्र यंत्र की पंचामृत पूजा कर कमल पुष्प् मंत्रोच्चार के साथ करने की सलाह दी हे । वही दीपावली पूजन भी विधि विधान से किये जाने से धन संपत्ति में विपूल बढोत्री होने की बात कहीं है ।

लावारिस नवजात षिषु को देखने जिला चिकित्सालय के एसएनसीयू केंद्र पहुंची जिला बाल कल्याण समिति की टीम, कंेद्र प्रभारी डाॅ. आईएस चैहान से चर्चा कर जानी स्थिति

jhabua news
झाबुआ। गत 20 अक्टूबर को ग्राम खरड़ू छोटी में अज्ञात महिला ने एक बच्चे को जन्म देकर लावारिस अवस्था में झाड़ियों में फैंक दिया था, बाद उसे झाबुआ पुलिस द्वारा जिला चिकित्सालय के गहन इकाई चिकित्सा केंद्र में भर्ती करवा दिया गया। 21 अक्टूबर की समाचार-पत्रों के माध्यम से जिला बाल कल्याण समिति को सूचना प्राप्त होने पर सीडब्ल्यूसी के वरिष्ठ सदस्य यषवंत भंडारी के नेतृत्व में सदस्य गोपालसिंह पंवार, ममता तिवारी एवं चेतना सकलेचा आदि ने एनएससीयू पहुंचकर यहां केंद्र प्रभारी डाॅ. आईएस चैहान से बच्ची के स्वास्थ्य संबंधी विस्तृत जानकारी ली। सीडब्ल्यूसी के वरिष्ठ सदस्यों को केद्र प्रभारी डाॅ. चैहान ने बताया कि बच्ची का जन्म मां के गर्भ में 9 माह पूर्ण होने के बाद ही हुआ है तथा उसका जन्म 2 किलो 700 ग्राम है। बच्ची का जन्म होते ही उसकी मां द्वारा झाड़ियों में फैंकने से षिषु के ब्लड में इंफेक्षन हो गया है, जिसका यहां उपचार जारी है। डाॅ. चैहान ने बताया कि बच्ची को पूर्ण स्वस्थ होने मे करीब एक सप्ताह का समय लगेगा।

प्रत्येक दो दिन में जानकारी देने हेतु किया निर्देषित
समिति के सदस्यों ने इस संबंध में प्रकरण की प्रभारी से चर्चा कर विस्तृत जानकारी चाही। गहन चिकित्सा केंद्र में बच्चें के स्वास्थ्य के संबंध में जानकारी लेने के पश्चात् समिति ने कंेद्र प्रभारी को बालिका का व्यवस्थित उपचार करने का निर्देष देते हुए प्रत्येक दो दिन के अंतराल में बच्ची के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी देने हेतु डाॅ. चैहान को निर्देषित किया।

स्वस्थ होने के पश्चात् षिषु गृह भेजा जाएगा
समिति के सदस्य गोपालसिंह पंवार ने बताया कि जेजे एक्ट के तहत किसी भी लावारिस नवजात षिषु को 21 दिन तक चिकित्सालय में रखा जा सकता है। इसी बीच यदि षिषु पूर्ण स्वस्थ हो जाता है, तो उसे बाल कल्याण समिति के माध्यम से इंदौर के षिषु गृह में भेज दिया जाएगा, जहां पर उसका ठीक तरीके से पालन-पोषण हो सकेगा।

धनतेरस पर विद्युत कर्मचारी सहकारी साख संस्था द्वारा सदस्यों को लाभांष का नगद वितरण किया गया, ताकि धनतेरस एवं दीपावाली मना सके खुषियों के साथ

झाबुआ। दीपावली एवं धनतेरस के पौराणिक महत्व को ध्यान में रखते हुए विद्युत कर्मचारी सहकारी साख संस्था मर्यादित झाबुआ द्वारा 25 अक्टूबर, शुक्रवार को अपनी संस्था से जुड़े सदस्यों को लाभांष का नगद वितरण किया गया, ताकि वे अपने परिवार के साथ धनतेरस एवं दीपावली पर्व खुषहाली के साथ मना सके। संस्था द्वारा यह कार्य झाबुआ और आलीराजपुर जिले में जारी रखा जाएगा। संस्था के सलाहकार भरत माहेष्वरी ने जानकारी देते हुए बताया कि सहकारी संस्था विगत 2 वर्षों से अपने सदस्यों को लाभांष का वितरण सदस्यों के क्षेत्र में जाकर नगद रूप से कर रहंी है, ताकि क्षेत्र विषेष के सदस्यों को उनके क्षत्र से दूर जाकर अनावष्यक आर्थिक खर्च ना करना पड़े, संस्था का मूलमंत्र सदस्यों का अधिकतम हित है। श्री माहेष्वरी ने आगे बताया कि संचालक मंडल के चुनावों में सदस्यों द्वारा जो विष्वास जाहिर किया गया था, उसको संचालक मंडल पूर्ण करने हेतु के लिए प्रयासरत है। समय पर लाभांष वितरण से सदस्यगण अपने परिवार के साथ धनतेरस, दीपावाली आदि सभी त्यौहार उत्साह ओर खुषी के साथ मना सकेंगे।

सदस्यों ने संस्था के सभी पदाधिकारी एवं संचालक मंडल के प्रति माना आभार
धनतेरस पर पेटलावद जाकर सदस्यों को लाभांष वितरण किया गया। इस हेतु क्षेत्र के सदस्यों ओर संचालकों भगवती प्रसाद जायसवाल, कैलाष पाटीदार एवं ठा. कोमलसिंह आदि ने संस्था के संचालक मंडल के प्रति आभार व्यक्त किया। संस्था के उपाध्यक्ष नंदकिषोर (ंनदुभाई) एवं मेनेजर भरत सांवरिया ने पेटलावद में जाकर लाभांष का वितरण सदस्यों को किया। इस कार्य के लिए पेटलावद के सदस्यों ने संस्था के सलाहकार पारस कटारिया, भरत माहेष्वरी एवं संस्था अध्यक्ष नरेष परमार का विषेष आभार व्यक्त किया है। लाभांष का वितरण झाबुआ में भी संस्था से जुड़े सदस्यों को किया जा रहा है। शीघ्र ही आलीराजपुर में भी किया जाएगा।

आसरा पारमार्थिक ट्रस्ट द्वारा 30 अक्टूबर को पैलेस गार्डन पर मनाया जाएगा दीपावली मिलन समारोह, विषेष बैठक के साथ अन्न्कूट महोत्सव का होगा आयोजन 

झाबुआ। आसरा पारमार्थिक ट्रस्ट झाबुआ द्वारा प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी दीपावली मिलन समारोह का आयोजन आगामी 30 अक्टूबर को शहर के पैलेस गार्डन पर देर शाम 7 बजे से किया जाएगा। सर्वप्रथम विषेष बैठक होगी। बाद छोटा तालाब स्थित श्री राधा-कृष्ण मंदिर में अन्नकूट महोत्सव मनाते हुए भगवान को भोग लगाने के बाद प्रसादी वितरण किया जाएगा। जानकारी देते हुए आसरा पारमार्थिक ट्रस्ट के संस्थापक अध्यक्ष राजेष नागर ने बताया कि दीपावली मिलन समारोह पर आयोजित विषेष बैठक में ट्रस्ट के पदाधिकारी-सदस्य शामिल होकर वार्षिक गतिविधियों पर चर्चा, आय-व्यय के ब्यौरे के साथ आगामी किए जाने वाले कार्यों एवं गतिविधियो की रूपरेखा बनाए जाने एवं आसरा ट्रस्ट की समर्पण भोजनशाला को लेकर चर्चा के साथ ट्रस्ट के 30 नवंबर को आने वाले 16वें स्थापना दिवस धूमधाम से मनाए जाने पर चर्चा की जाएगी। बाद पैलेस गार्डन के समीप छोटे तालाब स्थित श्री राधा-कृष्ण बिहारी मंदिर में अन्नकूट महोत्सव मनाते हुए भगवान श्री राधे-कृष्णा को अन्नकूट का भोग लगाया जाएगा। अंत में आरती कर अन्नकूट प्रसादी वितरण होगा।

दीपावली मिलन समारोह में सहभागिता की अपील
आसरा ट्रस्ट की आजीवन अध्यक्ष श्रीमती वंदना व्यास, मेनेजिंग ट्रस्टी यषवंत भंडारी, संस्थापक सचिव नीरजसिंह राठौर, सेवा प्रकल्प परार्मषदाता सुधीरसिंह कुषवाह, अध्यक्ष रविराजसिंह राठौर, सचिव सुनिल चैहान, कोषाध्यक्ष पं. द्विजेन्द्र व्यास, वरिष्ठ सदस्य अषोक शर्मा, नटवरलाल सोनी, राजकुमार पाटीदार, मीडिया प्रभारी दौलत गोलानी, घनष्याम भाटी, अतिषय देषलहरा, महिलाओं में वरिष्ठ सदस्य श्रीमती कुंता सोनी, सुषीला भट्ट, पद्मावती त्रिवेदी, संगीता शर्मा आदि ने ट्रस्ट के सभी पदाधिकारी-सदस्यों से इस अवसर पर उपस्थित रहकर आयोजन को सफल बनाने की अपील की है।

चतुर्थ विष्व आयुर्वेद दिवस पर शासकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय एवं जिले के सभी होम्योपैथिक एवं आयुर्वेदिक संस्थाओं पर भगवान धन्वंतरि की पूजन की गई, षिविरों का हुआ आयोजन 
वनस्पतियों एवं औषधियों की लगाई गई प्रदर्षनी
jhabua news
झाबुआ। चतुर्थ विष्व आयुर्वेद दिवस पर 25 अक्टूबर, शुक्रवार को शासकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय झाबुआ एवं जिले के सभी होम्योपैथिक एवं आयुर्वेदिक चिकित्सालयों तथा ंसंस्थाओं पर धनतेरस पर भगवान धन्वंतरिजी की पूजन की गई। बाद षिविर का आयोजन हुआ। इस अवसर पर वनस्पतियों एवं औैषधियों की प्रदर्षनी भी लगाकर लोगों को इसके बारे में जानकारी दी गई। जानकारी देते हुए जिला आयुष अधिकारी डाॅ. मीना भायल ने बताया कि स्थानीय आफिसर्स काॅलोनी स्थित शासकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय में सुबह 10 बजे से षिविर आरंभ हुआ। सर्वप्रथम चिकित्सालय परिसर में भगवान धन्वंतरि के चित्र माल्यार्पण कर दीप प्रज्जवलन कर विधि-विधान से पूजन डाॅ. मीना भायल ने की। इस अवसर पर चिकित्सालय प्रभारी डाॅ. दीपेष कटोता, राकेष खरादे, श्रीमती रत्नाप्रेम, शकूर बामनिया, ओमप्रकाष राठौर, मंजुला देराश्री आदि भी उपस्थित थी।

127 रोगियों का हुआ आयुर्वेदिक पद्धति से उपचार
पूजन बाद निःषुल्क षिविर लगाया गया। जिसमें जिला आयुष अधिकारी डाॅ. मीना भायल एवं डाॅ. दीपेष कटोता ने रोगियों के रोगों संबंधी जांच कर आवष्यक परामर्ष दिया। बाद औषधियां वितरित की गई। इस अवसर पर चिकित्सालय में वनस्पतियों और औषधियों की प्रदर्षनी लगाकर आने वाले लोगांे को इनकी जानकारी देने के साथ ही आयुर्वेदिक पद्धति से उपचार का महत्व एवं इस प्राचीन पद्धति के महत्व के बारे में बताया। षिविर में कुल 127 रोगियों का आयुर्वेदिक पद्धति से उपचार हुआ। इसके साथ ही जिला चिकित्सालय के समीप जिला आयुषविंग झाबुआ एवं जिला आयुष कार्यालय पर भी इस दिन विषेष रूप से भगवान धन्वंतरि की पूजन का आयोजन हुआ।

जिले में प्रषिक्षण लेने आये अधिकारियों को कलेक्टर श्री सिपाहा ने बताई प्रषासनिक प्रकिया
कलेक्टर कार्यालय के सभा कक्ष में अन्य विभागो के अधिकारियो ने बताई योजनाये
jhabua news
झाबुआ । प्रषासनिक एकेडमी मसूरी में प्रषिक्षण प्राप्त कर रहे आईएएस, आईएफएस प्रषिक्षु अधिकारियों को झाबुआ जिले में भ्रमण के बाद कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने झाबुआ में कलेक्टर कार्यालय के सभा कक्ष में प्रषासनिक प्रक्रिया से अवगत कराया। प्रषिक्षु अधिकारियों ने जिले के ब्लाॅको का भ्रमण कर जिले के बारे में अपने अनुभव कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा से साझा किये। उन्होंने जिले में चल रहे कार्यो के बारे में भी फीडबेक दिया। सभी प्रषिक्षु अधिकारियो को कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा के मार्ग दर्षन में उद्यानिकी विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, कृषि विभाग, ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों नें विभागीय योजनाों के बार में जानकारी दी।

आदिवासी युवाओं हेतु आर्मी भर्ती षिविर 31 अक्टूबर एवं 1 नवंबर को

झाबुआ । म0प्र0 आदिवासी वित्त एवं विकास निगम झाबुआ द्वारा आदिवासी वर्ग का ष्षैक्षणिक एवं आर्थिक उत्थान करने हेतु संकल्पित है। इसी के अन्तर्गत उज्जैन जिले में 20 नवम्बर 2019 से 30 नवम्बर 2019 तक आर्मी भर्ती रैली प्रस्तावित है, जिसमें झाबुआ जिला भी षामिल है। इस आर्मी भर्ती रेली हेतु पंजीयन 04 नवम्बर 2019 तक किये जायेगे।
म0प्र0आदिवासी वित्त एवं विकास निगम झाबुआ ने यह निर्णय लिया है कि होने वाली आर्मी भर्ती रेली में अधिक से अधिक युवाओं का चयन कराया जा सके इस हेतु युवाओ को निःषुल्क प्रषिक्षण दिया जायेगा। जिले के ऐसे युवा जिनकी उम्र साढे 17 वर्ष से 23 वर्ष के बीच हो, 8 वी , 10 एवं 12 वी कक्षा उतीर्ण हो आर्मी भर्ती हेतु प्रषिक्षण के लिये अपना आवेदन 31 अक्टूबर एवं 1 नवम्बर को डी आर पी लाइन झाबुआ में आयोजित षिविर में मूल दस्तावेज अंक सूची, स्थाई जाति प्रमाण पत्र, मूल निवासी प्रमाण पत्र, आधार कार्ड इत्यादी लेकर उपस्थित होवे।

दिपावली के दूसरे दिन रहेगा स्थानीय अवकाश
    
झाबुआ । कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने जिले के लिए 03 स्थानीय अवकाश घोषित किए है। दिपावली के दूसरे दिन भी संपूर्ण जिले में स्थानीय अवकाश घोषित किया है। यह स्थानीय अवकाश कोषालय,उप कोषालय एवं बैंको के लिए प्रभावषील नही रहेगा। जिन षैक्षिणिक संस्थाओ की परीक्षाए नियत है उन पर भी यह स्थानीय अवकाश प्रभावषील नही रहेगा। परीक्षाए निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार ही संचालित रहेगी।

आदिवासी अंचल क¨ मिलेंगी अंतर्राष्ट्रीय खेल सुविधाएँ

झाबुआ । प्रदेश में आदिवासी छात्र-छात्राअ¨ं की खेल प्रतिभा क¨ विकसित करने के मकसद से आदिम-जाति कल्याण विभाग द्वारा 23 खेल परिसर संचालित किये जा रहे हैं। इनमें 17 बालक अ©र 6 कन्या खेल परिसर हैं। ये खेल परिसर पूर्णतरू आवासीय हैं। प्रत्येक खेल परिसर में 100 विद्यार्थिय¨ं के लिये सीट स्वीकृत हैं। विभाग ने वर्तमान खेल परिसर¨ं में से 7 खेल परिसर¨ं में अंतर्राष्ट्रीय स्तर की खेल सुविधाएँ उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है। इन खेल परिसर¨ं में आदिवासी वर्ग के विद्यार्थिय¨ं क¨ राष्ट्रीय अ©र अंतर्राष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतिस्पर्धाअ¨ं के लिये विशिष्ट क¨चिंग सुविधा प्रदान की जा रही है।

खिलाड़िय¨ं क¨ प्र¨त्साहन राशि
आदिम-जाति कल्याण विभाग द्वारा आदिवासी खिलाड़िय¨ं के प्र¨त्साहन के लिये पुरस्कार दिये जाने की य¨जना भी संचालित की जा रही है। राष्ट्रीय स्तर पर प्रथम पुरस्कार प्राप्त करने वाले खिलाड़ी क¨ 21 हजार रुपये अ©र सामूहिक रूप से खेल में प्रथम स्थान प्राप्त करने पर प्रति खिलाड़ी 10 हजार रुपये की राशि दिये जाने का प्रावधान रखा गया है। द्वितीय पुरस्कार में व्यक्तिगत रूप से 15 हजार रुपये अ©र सामूहिक राशि के रूप में प्रत्येक खिलाड़ी क¨ 7 हजार रुपये, तृतीय पुरस्कार प्राप्त करने पर व्यक्तिगत रूप से 11 हजार रुपये अ©र सामूहिक रूप से 5 हजार रुपये की राशि प्रत्येक खिलाड़ी क¨ दिये जाने का प्रावधान किया गया है।

केन्द्र सरकार शीघ्र ही 6621.28 करोड़ रुपये की राहत राशि जारी करे
किसानों और प्रभावितों को राहत पहुँचाने में केन्द्र सहयोग करे मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ की नई दिल्ली में केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह से मुलाकात
झाबुआ । मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने नई दिल्ली में केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह से मुलाकात की। श्री नाथ ने केन्द्रीय गृह मंत्री को प्रदेश में पिछले दिनों अति-वृष्टि के कारण कई जिलों में आई बाढ़ से हुए नुकसान की जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय गृह मंत्री से कहा कि वे किसानों और अन्य प्रभावितों को तत्काल मदद दिए जाने के लिए राष्ट्रीय आपदा राहत कोष से शीघ्र ही 6621.28 करोड़ रुपए की राहत राशि जारी करे। मुख्यमंत्री श्री नाथ ने गृह मंत्री को सौंपे ज्ञापन में बताया कि बाढ़ के कारण 55 लाख से अधिक किसान और आम आदमी प्रभावित हुआ है। अधोसंरचना को भी भारी नुकसान पहुँचा है। श्री नाथ ने बताया कि राज्य में सामान्य से 46 प्रतिशत से अधिक वर्षा हुई है। प्रदेश के 52 में से 20 जिलों में सामान्य से 60 प्रतिशत अधिक वर्षा हुई है। किसानों की सभी फसलों को भारी नुकसान पहुँचा है। उन्होंने प्रदेश में भारी वर्षा के कारण आई त्रासदी को गंभीर आपदा की श्रेणी में रखने की माँग की। उल्लेखनीय है कि पूर्व में 4 अक्टूबर 2019 को मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को भी अति-वृष्टि और बाढ़ के कारण हुए नुकसान का ब्यौरा दिया था। श्री नाथ के आग्रह पर प्रधानमंत्री ने अति-वृष्टि से हुए नुकसान का फिर से केन्द्रीय अध्ययन दल से आकलन करवाया। अध्ययन दल ने 14 से 16 अक्टूबर के बीच प्रदेश के 16 जिलों में हुए नुकसान का  जायजा लेकर अपनी रिपोर्ट केन्द्र सरकार को सौंप दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आकलन होने के बाद अब केन्द्र सरकार तत्काल राज्य सरकार को राहत राशि दे ताकि सभी प्रभावितों, विशेषकर किसानों को हुए नुकसान की भरपाई की जा सके। केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री को हरसंभव सहायता देने का आश्वासन दिया।

अल्ट्रा सोनोग्राफी यूनिट संचालित करने के पूर्व पंजीयन कराना अनिवार्य 75 प्रतिशत से अधिक निरीक्षण वाले जिले पुरस्कृत होंगे

झाबुआ । राज्य में अल्ट्रा सोनोग्राफी यूनिट संचालित करने से पूर्व राज्य मेडिकल काउंसिल मे पंजीयन कराना अनिवार्य होगा अन्यथा कार्रवाई की जायेगी। यह अभिमत  स्वास्थ्य संचालनालय में हुई पी.सी.पी.एन.डी.टी. की राज्य सलाहकार समिति की बैठक में दिया गया। सदस्यों ने उन जिलों को प्रशंसा-पत्र दिये जाने का निर्णय लिया, जिन जिलों में 75 प्रतिशत से अधिक निरीक्षण के कार्य किये गये हैं। सलाहकार समिति की बैठक प्राध्यापक एवं विभागाध्यक्ष, शिशु रोग विशेषज्ञ गाँधी मेडिकल कॉलेज डॉ. ज्योत्सना श्रीवास्तव की अध्यक्षता में हुई। बैठक में राज्य में संचालित 1600 ए.आर.टी. केन्द्रों के निरीक्षण के संबंध में चर्चा की गयी। साथ ही राज्य पी.सी.पी.एन.डी.टी. प्रकोष्ठ के निरीक्षण प्रारूप की जानकारी सदस्यों को दी गयी। सदस्यों ने ड्रॉफ्ट में पेशेंट इन्फॉर्मेशन सीट जोड़े जाने की राय दी। बैठक में बताया गया कि पी.सी.पी.एन.डी.टी. एमआईएस के अंतर्गत समस्या के निराकरण के लिये मॉड्यूल तैयार कर लिया गया है। बैठक में यह भी तय हुआ कि जिला-स्तर पर गठित समिति में महिला-बाल विकास विभाग के अधिकारी को भी शामिल किया जाये।

देश के गाँधी स्मृति स्थलों का भ्रमण करेंगे आदिवासी विद्यार्थी
       
झाबुआ । प्रदेश के आदिवासी छात्रावासों और शालाओं के विद्यार्थियों को इस वर्ष देश के गाँधी स्मृति स्थलों का शैक्षणिक भ्रमण कराया जायेगा। आदिम जाति कल्याण विभाग ने भ्रमण कार्यक्रम के लिये जिला स्तरीय उत्कृष्ट छात्रावासों को छात्रावास 25-25 हजार रूपये और विशिष्ट विद्यालयों को 50-50 हजार रूपये की राशि स्वीकृत कर दी है। सभी सहायक आयुक्त और जिला संयोजक से कहा गया है कि शैक्षणिक भ्रमण कार्यक्रम में देश के प्रतिष्ठित औद्योगिक परिसरों और विशिष्ट शैक्षणिक महाविद्यालयों जैसे आईआईटी और आईआईएम परिसर को भी शामिल करें।

आदिवासी विद्यार्थियों की कोचिंग
    
झाबुआ । कक्षा 10 की परीक्षा में 60 प्रतिशत या उससे अधिक अंक प्राप्त अनुसूचित जनजाति के विद्यार्थीयों के लिये आकाँक्षा योजना शुरू की गई है। इसमें कक्षा 11वीं और 12वीं में अध्यनरत रहते हुए जे.ई.ई.,नीट,एम्स और क्लेट की राष्ट्रीय प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिये जबलपुर, इंदौर, भोपाल और ग्वालियर में आदिवासी विद्यार्थियों के लिये दो वर्षीय कोचिंग की व्यवस्था की गई है। आकांक्षा योजना में 800 विद्यार्थियों को कोचिंग दिये जाने की व्यवस्था की गई है। प्रत्येक कोचिंग सेन्टर में इंजीनियरिंग के लिये 100-100 तथा मेडिकल और क्लेट के लिये 50-50 विद्यार्थियों को कोचिंग दी जाएगी। इस योजना में जबलपुर की मोमेंटम कोचिंग क्लास के लिये करीब 49 लाख 22 हजार रूपये की राशि विभाग द्वारा जारी की गई है।

उपाय ऐप रू बिजली संबंधी शिकायतों का समाधान अब और आसान
   
झाबुआ । बिजली फॉल्ट एवं बिल संबंधी शिकायत दर्ज कराने के लिए टोल फ्री नंबर 1912 और 0755-2551222 के साथ ही मोबाइल एप “उपाय (न्च्।ल्)’’ पर भी शिकायतें दर्ज होंगी। इस एप से उपभोक्ता अपनी शिकायत सीधे कॉल सेंटर में दर्ज करा सकते हैं। कंपनी के आईटी विभाग द्वारा इस एप के जरिए उपभोक्ताओं को बिजली बिल भुगतान के अलावा विद्युत अवरोध एवं बिलिंग संबंधी शिकायतें दर्ज कराने की सुविधा भी उपलब्ध कराई है। उपाय (न्च्।ल्) एप को गूगल प्ले स्टोर से फ्री में डाउनलोड किया जा सकता है। इस एप को भोपाल, नर्मदापुरम, ग्वालियर और चंबल संभाग के बिजली उपभोक्ता उपयोग कर सकेंगे। एप में उपभोक्ता बिल में दर्ज आईवीआरएस या उपभोक्ता आईडी नंबर सबमिट करने से उपभोक्ता के कनेक्शन के सभी विवरण स्वतः खुल जाएंगे। यदि बिजली उपभोक्ता की शिकायत अन्य व्यक्ति या अन्य पते की है, तो अन्य व्यक्ति को शिकायत दर्ज कराने के लिए एप में अपने मोबाइल नंबर को दर्ज करना होगा। अपने सभी विवरण दर्ज कराने होंगे।  शिकायत के पते के लिये उपभोक्ता को शहरध्क्षेत्रध्कॉलोनी एवं मकान नंबर की जानकारी भरनी होगी। इसके बाद अपनी समस्या या मांग के अनुरूप शिकायत की श्रेणी चुनना होगा। ऐसा करने पर समस्या या मांग दर्ज हो जाएगी एवं एसएमएस से शिकायत दर्ज होने की पुष्टि होगी। शिकायत दर्ज होने के बाद अगले कुछ ही समय में कंपनी के कॉल सेंटर से कॉल आएगा। शिकायत वेरिफाई की जाएगी और उसे संबंधित बिजली जोन में फॉरवर्ड कर दिया जाएगा। इस एप के जरिए उपभोक्ता अपनी शिकायत की स्थिति भी जान सकेंगे। उपाय एप के जरिए उपभोक्ता बिजली संबंधी शिकायतें दर्ज करने के साथ ही ऑनलाइन बिजली बिल का भुगतान भी कर सकेंगे।

डेंगु से बचाने हेतु सावधानी बरतना आवश्यक
     
झाबुआ । डेगु डेन वायरस से फैलने वाली वायरस जनित संक्रामक रोग है, जो डेंगु संक्रमित व्यक्ति से स्वस्थ व्यक्ति में संचारी होता हैं। यह रोग संक्रमित मादा एडीज मच्छर के काटने से फैलता है। यह मच्छर दिन के समय प्रायः सुबह व शाम के समय काटता है। डेंगु का कोई टीका या दवा नहीं है। एडीज मच्छर के काटने से बचाव व संक्रमित मच्छरों के लार्वा का विनिष्टीकरण ही इसका एकमात्र उपाय हैं। एक बार शरीर में डेन वायरस का संक्रमण होने के बाद डेंगु बुखार के लक्षण  5-6 दिन पश्चात् प्रकट होते हैं। इस हेतु घबराने की जरूरत नहीं होती हैं इस अवस्था में रोगी को मच्छरदानी में पूर्ण आराम करने व जल-उपचार(जैसे-षिकंजी, नीबु पानी, ओआरएस, नारियल पानी, ग्लुकोस इत्यादि के द्वारा शरीर में जल की पूर्ति ) करने की सलाह दी जाती हैं। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बारिया ने बताया कि आमजन को डेंगु से बचाव के लिये निम्न सावधानियां बरतना चाहिए - डेंगु मच्छर के लार्वा घर के साफ पानी में पनपते है, घरों में लंबे समय तक बर्तनों में जल संग्रह ना करें, कुलर की पुरानी घास जला दें क्योंकि पुरानी घासों में डेंगु मच्छर का अंडे सूखी अवस्था में भी जीवित रहते है तथा कुलर का पानी सप्ताह में एक बार अवश्य ही खाली करें, घर के अंदर रखें बर्तनों, पक्षियों के सिकोरों व मवेशियों को पानी पिलाने के टंकियों व कंटेनरों की साफ सफाई रखें, घर के आसपास पानी जमा न होने दे निकासी की व्यवस्था करे निकासी न होने पर उसमें जला हुआ तेल/कैरोसीन डाल दें संक्रमण काल को देखते हुये स्वयं एवं स्कुली बच्चों को फुल आस्तीन के कपडें पहनायें क्योंकि बच्चों में प्रतिरक्षा तंत्र कमजोर होने के कारण यह सबसे पहले बच्चो को अपना शिकार बनाता हैं। घर की खिडकियों दरवाजों पर मच्छरप्रूफ जाली लगायें तथा घर में मच्छर भगाने वाली मेट ,काइल, लिक्विड का उपयोग अवश्य करे तथा सोते समय मच्छरदानी लगायें।

डेंगु बीमारी के लक्षण
सामान्य प्रकार के डेंगु में तेज सिरदर्द, आंखों के पीछे की ओर दर्द, शरीर पर लाल चकते या दाने, जोडों व मांसपेशियों मे दर्द होना दिखाई देता हैं। जब डेंगू घातक अवस्था में पहुँचता है तो उक्त लक्षणों के साथ-साथ मसुडों व आंतो से रक्त स्त्राव का होना अथवा खून में प्लेटलेट का कम होना लक्षण पाये जाते है इसमें तत्काल मरीज को नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर चिकित्सक की सलाह के अनुसार उपचार लेना चाहिये।

श्रमिकों के बच्चों से राष्ट्रीय छात्रवृत्ति के लिये आवेदन आमंत्रित
     
झाबुआ ।  प्रदेश के बीडी, चूना-पत्थर, डोलोमाइट, लौह मैग्नीज और क्रोम अयस्क खदान श्रमिकों के अध्ययनरत पुत्र-पुत्रियों से प्री-मेट्रिक और पोस्ट-मेट्रिक छात्रवृत्ति के लिये आवेदन आमंत्रित किये गये हैं। शिक्षा के लिये वित्तीय सहायता योजना में पात्र छात्र-छात्राएँ नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल ीजजचेरूध्ध्ेबीवसंतेीपचेण्हवअण्पदध्ीमसचकमेा-देच/हवअण्पद  पर आवेदन कर सकते हैं। पोस्ट-मेट्रिक छात्रवृत्ति के लिये 31 अक्टूबर, 2019 है। नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करने की पात्रता, जानकारी, शर्तें आदि प्रदर्शित हैं। योजना में कक्षा-एक से चार तक अध्ययनरत पात्र छात्र-छात्राओं को 250, पाँचवीं से आठवीं तक छात्रों को 500, छात्राओं को 940, कक्षा-नवीं में छात्रों को 700 और छात्राओं को 1140, कक्षा दसवीं के छात्रों को 1400 और छात्राओं को 1840, 11वीं और 12वीं के छात्रों को 2 हजार, छात्राओं को 2440, स्नातक, तीन वर्षीय डिप्लोमा एवं स्नातकोत्तर छात्र-छात्राओं को 3-3 हजार, अव्यावसायिक स्नातक-स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम, बीसीए, बीबीए, डीसीए और पीजीडीसीए छात्र-छात्राओं को 3-3 हजार, बी.ई., बी.टेक., एमबीबीएस, बीएएमएस, बीयूएमएस, बीएससी कृषि, एमसीए, एमबीए के छात्र-छात्राओं को 15-15 हजार और आईटीआई छात्र-छात्राओं को 10-10 हजार रुपये छात्रवृत्ति का प्रावधान है।  राज्य में श्रमिकों के बच्चे ऑनलाइन आवेदन करने में किसी प्रकार की समस्या के निदान के लिये जबलपुर कार्यालय के दूरभाष क्रमांक-0761-2626021, 2678595, ई-मेल wc-jabalpur/redffimail.com] sbd2020/redffimail.com सागर स्थित कल्याण प्रशासक कार्यालय के दूरभाष क्रमांक-7582-260675 या इंदौर में दूरभाष क्रमांक-0731-2703530, ई-मेल waind/mp.gov.in पर सम्पर्क कर सकते हैं।

मलेरिया, डेंगू व चिकुनगुनिया से बचाव के लिए सलाह
     
झाबुआ । सीएमएचओ डाॅ. बारिया ने बताया कि बारिश के दौरान मलेरिया, डेंगू एवं चिकुनगुनिया से बचाव के लिए एडवाइजरी जारी की गई है। एडवाइजरी में कहा गया है कि बारिश के मौसम में अपने आसपास नियमित साफ-सफाई करें। वर्षा के जल को एक जगह एकत्रित न होने दें। वर्षाकाल में जगह-जगह एकत्रित पानी में मच्छरों की उत्पत्ति व वृद्धि होती है। ये मच्छर, रोगी व्यक्ति को काटने पर संक्रमित हो जाते है व इन संक्रमित मच्छर के काटने से मलेरिया, डेंगू, चिकुनगुनिया, रोग होता है। इन बीमारियों से ग्रसित रोगी को बुखार सिरदर्द, बदन दर्द, उल्टी आना, ठंड लगना जैसे लक्षण होते हैं जिनका त्वरित उपचार आवश्यक है। कोई भी बुखार मलेरिया,, डेंगू,, चिकनगुनिया हो सकता है जिसका इलाज संभव है। किसी भी बीमारी के लक्षण दिखने पर शीघ्र स्वास्थ्य केन्द्र में निःशुल्क जांच करायें तथा चिकित्सक के परामर्श से पूर्ण उपचार लें। मलेरिया की जांच ग्राम स्तर तक आरोग्य केन्द्र व स्वास्थ्य केन्द्रो में निःशुल्क उपलब्ध है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...