नोटबंदी की तीसरी बरसी पर कांग्रेस का देशभर में विरोध प्रदर्शन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 8 नवंबर 2019

नोटबंदी की तीसरी बरसी पर कांग्रेस का देशभर में विरोध प्रदर्शन

congress-protests-across-the-country-on-the-third-anniversary-of-demonetisation
नयी दिल्ली 08 नवंबर, कांग्रेस ने नोटबंदी के तीन साल पूरे होने पर शुक्रवार को देशभर में विरोध प्रदर्शन कर रैलियां निकाली और कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने इस ‘तुगलकी फरमान’ के लिए देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए।कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में युवक कांग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी के नेतृत्व में रिजर्व बैंक के सामने धरना प्रदर्शन किया और कहा कि श्री मोदी का यह ‘आतंकी’ फैसला था और उनके इस ‘तुगलकी फरमान’ से देश को भारी नुकसान हुआ है तथा कई लोगों की जान गयी है। उन्होंने कहा कि श्री मोदी को कम से कम उन लोगों के परिजनों से माफी मांगनी चाहिए जिन्होंने इस फरमान के कारण अपने लोगों को खोया है।उन्होंने कहा कि उनके कार्यकर्ता देशभर में इस फैसले के खिलाफ विरोध कर रहे हैं। युवक कांग्रेस के कार्यकर्ता राज्यों की राजधानियों तथा जिन शहरों में रिजर्व बैंक की शाखाएं हैं वहां भी प्रदर्शन कर रहे हैं। दिल्ली में संगठन के मुख्यालय से करीब पांच सौ कार्यकर्ता रिजर्व बैंक की तरफ जुलूस बनाकर निकले लेकिन संसद मार्ग पर रिजर्व बैंक के नजदीक परिवहन भवन के सामने पुलिस ने उन्हें रोक दिया।विरोध प्रदर्शन में शामिल कांग्रेस कार्यकर्ता हाथों में तख्तियां और बैनर लिए मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। प्रदर्शनकारियों में महिलाएं और नोटबन्दी से प्रभवित आम आदमी भी शामिल थे। प्रदर्शनकारियों ने देश की खराब अर्थव्यस्था के लिए मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि कि वे आठ नवंबर का दिन अपने जीवन में भूल नही सकते क्योंकि इसी दिन तीन साल पहले उन्हें नोटेबन्दी का दंश झेलना पड़ा था।प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ताओं ने यूनीवार्ता से बातचीत में कहा कि नोटबन्दी से लाखों नौकरियां चली गयी और आर्थिक विकास प्रभावित हुआ। असंगठित क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित हुआ और कई छोटी कम्पनियां बर्बाद हो गई।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...