मोदी, शाह, नड्डा ने महाराष्ट्र की स्थिति पर किया विचार विमर्श - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 26 नवंबर 2019

मोदी, शाह, नड्डा ने महाराष्ट्र की स्थिति पर किया विचार विमर्श

modi-shah-nadda-discussed-the-situation-in-maharashtra
नयी दिल्ली 26 नवंबर, महाराष्ट्र के राजनीतिक संकट पर उच्चतम न्यायालय का निर्णय आने के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह और कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ विचार विमर्श किया।संसद भवन परिसर में प्रधानमंत्री श्री मोदी के कक्ष में हुई इस बैठक के बारे में सूत्रों ने बताया कि बैठक में उच्चतम न्यायालय के फैसले पर विचार विमर्श के दौरान ही श्री अजीत पवार के इस्तीफे की सूचना मिली। इसके बाद निर्णय हुआ कि देवेंद्र फड़णवीस भी मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देे दें।सूत्रों ने बताया कि अपराह्न श्री फड़णवीस ने भी राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को त्यागपत्र सौंप दिया।महाराष्ट्र में शुक्रवार रात भर चले गोपनीय घटनाक्रम के बाद शनिवार को सुबह करीब साढ़े सात बजे अचानक श्री फड़णवीस को मुख्यमंत्री और श्री अजीत पवार को उप मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलाये जाने के बाद देश में राजनीतिक हड़कंप मच गया। सोमवार को संसद के दोनों सदनों में विपक्ष के अभूतपूर्व हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित करनी पड़ी थी और कोई विधायी कामकाज नहीं हो पाया था।शनिवार रात को कांग्रेस ने उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर की जिस पर रविवार एवं सोमवार की सुनवाई के बाद आज मंगलवार को फैसला सुनाया गया। उच्चतम न्यायालय ने इस संकट का कानूनी निपटारा करते हुए तीन न्यायाधीशों की विशेष पीठ ने अपने आदेश में कहा कि कल प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति के बाद शाम पांच बजे तक विधायकों को शपथ दिलाई जाएगी। उसके बाद कल ही बहुमत परीक्षण किया जाएगा।उच्चतम न्यायालय के इस फैसले के बाद विपक्ष ने महाराष्ट्र को लेकर संसद में विरोध प्रदर्शन करने का कदम वापस ले लिया और दोनों सदनों में कार्यवाही सामान्य ढंग से चलने लगी।

कोई टिप्पणी नहीं: