महाराष्ट्र में सरकार बनाने के मुद्दे पर पवार ने सोनिया से मिलेंगे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 14 नवंबर 2019

महाराष्ट्र में सरकार बनाने के मुद्दे पर पवार ने सोनिया से मिलेंगे

pawar-will-meet-sonia-to-firm-government
मुंबई, 14 नवंबर, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार 17 नवंबर को दिल्ली में मुलाकात कर सकते हैं और महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर शिवसेना से गठबंधन के मुद्दे पर चर्चा हो सकती है। सूत्रों ने गुरुवार को यह जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस और राकांपा शिवसेना के साथ न्यूनतम साझा कार्यक्रम (सीएमपी) बनाने पर काम करेंगे जिसपर सोनिया गांधी और शरद पवार की बैठक के दौरान चर्चा होगी। बहरहाल, यह स्पष्ट नहीं है कि न्यूनतम साझा कार्यक्रम को अंतिम रूप देने के लिए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे दोनों नेताओं से मिलेंगे या नहीं। उन्होंने बताया कि कांग्रेस और राकांपा की 10 सदस्यीय समन्वय समिति की बैठक बुधवार को सीएमपी पर प्राथमिक चर्चा के लिए हुई। सूत्रों ने बताया कि समन्वय समिति में लिए गए फैसले के तहत महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख बालासाहेब थोराट और राकांपा प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल ने गुरुवार सुबह ठाकरे से मुलाकात की। उन्होंने बताया, ‘‘उन्होंने (थोराट और पाटिल) ने ठाकरे के साथ प्राथमिक चर्चा की। अब तीनों पार्टियों के राज्य नेता गुरुवार को दोबारा मिलेंगे और न्यूनतम साझा कार्यक्रम बनाएंगे जिसे मंजूरी के लिए तीनों पार्टियों के शीर्ष नेताओं को भेजा जाएगा।’’  उल्लेखनीय है कि भाजपा और शिवसेना ने 21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनाव में साथ लड़ा था और क्रमश: 105 और 56 सीटों पर जीत दर्ज की थी जो 288 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत से अधिक है। ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद की शिवसेना की मांग पर सहमति नहीं बनी और भाजपा ने सरकार बनाने से इनकार कर दिया। दूसरी और तीसरी सबसे बड़ी पार्टी शिवसेना और राकांपा ने भी बाद में कहा कि वह सरकार बनाने का तत्काल दावा नहीं करेगी। इसके बाद मंगलवार को राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...