बिहार बंद के समर्थन में पटना में कैंडल मार्च - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 18 दिसंबर 2019

बिहार बंद के समर्थन में पटना में कैंडल मार्च

candel-march-left-for-bihar-bandh
पटना 18 दिसंबर (आर्यावर्त संवाददाता)  वाम दलों द्वारा 19 दिसंबर को आयोजित बिहार बंद की तैयारी में आज पटना में शाम 5 बजे कैंडल मार्च का आयोजन किया गया. जीपीओ गोलबंर से आरंभ यह मार्च न्यू मार्केट, पटना जंक्शन होते हुए बुद्धा स्मृति पार्क पहुंचा, जहां एक सभा आयोजित की गई. मार्च का नेतृत्व भाकपा-माले के पोलित ब्यूरो सदस्य काॅ. धीरेन्द्र झा, सीपीआई के पटना जिला सचिव रामलला सिंह, सीपीआई-एम के पटना जिला सचिव मनोज चंद्रवंशी ने किया. मार्च में बड़ी संख्या में छात्र-नौजवान उपस्थित थे. बुद्धा स्मृति पार्क पर सभा को संबोधित करते हुए वाम नेताओं ने कहा कि कल का बिहार बंद ऐतिहासिक होने वाला है. मोदी-अमित शाह के द्वारा देश में तानाशाही थोपने के प्रयासों को जनता ने रिजेक्ट कर दिया है. आज नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देश की बड़ी आबादी सड़कों पर है. इस कानून की वापसी तक हमारी लड़ाई जारी रहेगी. राजधानी पटना में नागरिकता संशोधन कानून रद्द करो, संविधान का मजाक उड़ाना बंद करो के केंद्रीय नारे के साथ फ्लैक्सों से सजा प्रचार वाहन के द्वारा प्रचार किया गया. जिसका नेतृत्व आइसा के बिहार राज्य अध्यक्ष मोख्तार, आइसा नेता कार्तिक पासवान, एटक नेता हरदेव ठाकुर और एसएफआई के अवधेश कुमार आदि ने किया. राजधानी के सुल्तानगंज, आलमगंज, सब्जीबाग, पटना मार्केट, पटना विश्वविद्यालय गेट, रमना रोड, पटना स्टेशन, गांधी मैदान, अनीसाबाद, चितकोहरा, मछुआ टोली आदि इलाकों में नुक्कड़ सभाओं का भी आयोजन किया गया. इस बीच इंसाफ मंच ने भी 19 दिसंबर के बिहार बंद को अपने सक्रिय समर्थन देने की घोषणा की है. इंसाफ मंच के राज्य सचिव कयामुद्दीन अंसारी ने कहा कि इस समय हम सबको मिलकर संविधान बचाने की लड़ाई लड़नी होगी. पटना के अलावा अरवल, दरभंगा, गया, मुजफ्फरपुर, सिवान, आरा, नालंदा, नवादा, रोहतास, गोपालगंज आदि जिलों में भी 19 दिसंबर के बिहार बंद में प्रचार संगठित लिया. 

कोई टिप्पणी नहीं: