राजधानी समेत पूरा उत्तर भारत में भीषण ठंड का प्रकोप जारी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 30 दिसंबर 2019

राजधानी समेत पूरा उत्तर भारत में भीषण ठंड का प्रकोप जारी

cold-in-north-india
नयी दिल्ली, 30 दिसंबर, राजधानी दिल्ली समेत पूरा उत्तर भारत इस समय भीषण ठंड और ठिठुरन की चपेट में है और शनिवार को घने कोहरा पड़ने से आसमान से लेकर जमीन तक यातायात प्रभावित होने के साथ ही जन जीवन पर भी बुरा असर हुआ है। उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में घने कोहरे और तेज गति का कहर एक परिवार पर टूटा। बीती रात तेज गति की मारुति अर्टिगा कार से ड्राईवर नियंत्रण खो बैठा और रास्ता दिखाई नहीं देने से गाड़ी नहर में गिर गई और एक परिवार के छह सदस्यों की इस हादसे में मौत हो गई है। इस हादसे में पांच लोग घायल भी हुए हैं, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मृतकों में दो नाबालिग भी शामिल हैं। ये सभी लोग हयातनगर संभल से दिल्ली एक गृह प्रवेश के पूजा कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे थे। यह घटना दनकौर थाना क्षेत्र के खेरली गांव के पास हुई । इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर घने कोहरे की वजह से सुबह छह बजे से ही यातायात पर व्यापक असर पड़ा। दृश्यता कम रह जाने से केवल कैट 3 बी प्रौद्योगिकी से लैस विमान और इसके लिए प्रशिक्षित पायलट ही टेक आफ और लेंडिग कर सके । घने कोहरे की वजह से छह उड़ाने रद्द करनी पड़ी तथा 21 उड़ानों को डायवर्ट किया गया। इसके अलावा बड़ी संख्या में उड़ानों की आवाजाही भी प्रभावित हुई । दिल्ली आने वाली विभिन्न राजधानी गाड़ियों के अलावा बड़ी संख्या में कई अन्य रेलगाड़िया कई-कई घंटों की देरी से चल रही हैं । घने कोहरे की वजह से दृश्यता कम रहने के कारण सड़क यातायात पर भी असर पड़ा और चालकों को पीली बत्ती जलाकर वाहन चलाना पड़ा। मौसम विभाग के अनुसार राजधानी दिल्ली में आज का दिन पिछले 119 वर्षों में सबसे ठंडा दिन रहा है। दिल्ली में 14 दिसम्बर से ही कड़ाके की सर्दी पड रही है। शनिवार को सुबह कुछ इलाकों में न्यूनतम तापमान दो डिग्री सेल्सियस से भी नीचे दर्ज किया गया था। रविवार सुबह सबसे कम तापमान आया नगर में 2.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। शनिवार को यहां तापमान 1.7 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया था। दिसम्बर माह में 29 दिसंबर तक औसत तापमान 19.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। यह स्तर 1997 के 17.3 डिग्री के बाद का सबसे कम है। वर्ष 1901 के बाद यह दूसरा मौका है जब दिल्लीवासियों को इतने लंबे समय तक शीतलहर का प्रकोप झेलना पड़ा है। राहत की बात यह है कि स्कूलों में छोटे बच्चों के लिए शीतकालीन अवकाश शुरू हो गया है। सफदरजंग में सोमवार सुबह न्यूनतम तापमान 2.6 और पालम में 2.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। दिल्ली के अलावा एनसीआर के नोएडा , गुरूग्राम , फरीदाबाद और गाजियाबाद समेत अन्य क्षेत्रों में कोहरे छाया हुआ है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...