सीएए पर दुर्भावनापूर्ण अभियान चला रही है कांग्रेस: सम्बित पात्रा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 23 दिसंबर 2019

सीएए पर दुर्भावनापूर्ण अभियान चला रही है कांग्रेस: सम्बित पात्रा

congress-sadfull-caimpaign-sambit-patra
जम्मू, 22 दिसंबर, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस पर नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर दुर्भावनापूर्ण अभियान चलाने का आरोप लगाते हुए रविवार को कहा कि यह कानून देश के किसी भी समुदाय की नागरिकता छीनने वाला नहीं है, बल्कि यह पीड़ित अल्पसंख्यकों को नागरिकता प्रदान करेगा। एक दिवसीय यात्रा पर यहां पहुंचे श्री पात्रा ने मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बार-बार आश्वस्त किया है कि यह कानून कुछ दमित समुदायों को नागरिकता देने के लिए हैऔर यह किसी भी समुदाय के खिलाफ नहीं है। उन्होंने कहा, “यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि विपक्षी दल, विशेष रूप से कांग्रेस एक दुर्भावनापूर्ण अभियान शुरू करके इस कानून के खिलाफ लोगों को भड़काने की कोशिश कर रही है।” उन्होंने कहा कि लोग कांग्रेस पार्टी के विभाजनकारी और कुटिल मंसूबों के बारे में जान चुके हैं। उन्होंने कहा, “हम कांग्रेस और अन्य दलों को देश में अपने विभाजनकारी एजेंडे को आगे बढ़ाने की अनुमति नहीं देंगे। पार्टी ने इस मुद्दे पर पूरे देश में लोगों तक पहुंचने का फैसला किया है।” इस कानून के खिलाफ जारी छात्रों और बुद्धिजीवियों के आंदोलन की ओर उनका ध्यान आकर्षित कराये जाने पर उन्होंने कहा कि जब अफजल गुरु और याकूब मेनन जैसे आतंकवादियों को फांसी दी गयी थी, तब भी कुछ लोगों ने इसी तरह के विरोध-प्रदर्शन आयोजित किए थे। श्री पात्रा ने स्पष्ट किया कि सीएए को अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बंगलादेश के धार्मिक अल्पसंख्यकों को न्याय देने के लिए पारित किया गया है और यह भारत के किसी भी समुदाय के खिलाफ नहीं है। उन्होंने लोगों को शांति बनाये रखने का आग्रह करते हुए कहा कि 2003 में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार के दौरान पूर्व वित्त मंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने बंगलादेश से आये हिंदू शरणार्थियों को नागरिकता प्रदान करने के लिए नागरिकता कानून में उपयुक्त संशोधन की मांग की थी।  

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...