भारत-बंगलादेश के संबंध आदर्श: वेंकैया नायडु - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 17 दिसंबर 2019

भारत-बंगलादेश के संबंध आदर्श: वेंकैया नायडु

indo-bangladesh-relation-ideal-venkaiah
नयी दिल्ली, 17 दिसंबर, उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडु ने पड़ोसी देशों के लिए भारत-बंगलादेश के संबंधों को आदर्श करार देते हुए मंगलवार को कहा कि सशक्त, स्थिर और समृद्ध बंगलादेश भारतीय हितों के पक्ष में है। श्री नायडु ने यहां उप राष्ट्रपति भवन में बंगलादेश के प्रशिक्षु राजनयिकों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत अपने राजनयिक संबंधों में बंगलादेश को सर्वोच्च प्राथमिकता देता है। उन्होंने कहा, “ बंगलादेश हमारे लिये महत्वपूर्ण है। इसलिए आपकी भारत यात्रा हमारे लिए खास है।” उन्होंने कहा कि भारत हमेशा से सशक्त, स्थिर और समृद्ध बंगलादेश के पक्ष में है क्योंकि यह भारत के अनुुरुप है। उन्होंने कहा,“ वर्ष 2041 तक भारत के विकसित देश बनने की यात्रा में हम बंगलादेश को अपना भागीदार बनाना पसंद करेंगे।” उन्होंने कहा कि भारत- बंगलादेश अपने भूमि और समुद्री सीमा सहित सभी लंबित मुद्दाें का समाधान करने के सक्षम है। भारत- बंगलादेश के द्विपक्षीय संबंध सभी पड़ोसी देशों के लिए अादर्श है। उन्होंने कहा कि भारत अपने पड़ोसी देशों में शांति, स्थिरता और मित्रवत् संबंध के पक्ष में है। उप राष्ट्रपति ने कहा कि भारत और बंगलादेश में बंगाल की खाडी का पूरा इस्तेमाल करने की क्षमता है और इसके लिए दोनों देशों को बिम्सटेक में सक्रिय भूमिका निभानी चाहिए। श्री नायडु ने कहा कि विश्व को बहुध्रुवीय होना चाहिए और भारत इसके लिए प्रयास कर रहा है। पूरे विश्व को प्रभावित करने वाली नीतियों के निर्धारण में केवल कुछ देशों की भूमिका नहीं होना चाहिए। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र अौर अन्य बहुस्तरीय विश्व संस्थाओं के पुनर्गठन में बंगलादेश के सहयोग की मांग की। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र तथा अन्य संस्थाओं में पूरे विश्व की भावनायें परिलक्षित होनी चाहिए।  

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...