केरल के राज्यपाल ने मुख्य सचिव को तलब किया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 29 दिसंबर 2019

केरल के राज्यपाल ने मुख्य सचिव को तलब किया

keral-governor-call-chief-secretery
तिरुवनंतपुरम , 29 दिसंबर, कन्नूर विश्वविद्यालय में भारतीय इतिहास कांग्रेस (आईएचसी) में विरोध झेलने के एक दिन बाद रविवार को केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने राज्य के मुख्य सचिव टॉम जोस को राजभवन तलब किया ।  राजभवन सूत्रों ने बताया कि मुख्य सचिव ने राज्यपाल से मुलाकात की।  आईएचसी का शुभारंभ करने वाले राज्यपाल को संशोधित नागरिकता कानून का जिक्र करने के कारण कुछ प्रतिनिधियों और छात्रों की ओर से विरोध झेलना पड़ा था ।  खान ने यह भी कहा था कि इतिहास कांग्रेस में उनके शुभारंभ संबोधन के दौरान नामी इतिहासकार इरफान हबीब ने बाधा डालने की कोशिश की और अलग-अलग राय को लेकर उनकी असहिष्णुता ‘‘अलोकतांत्रिक’’ थी । खान ने कहा कि वह तो केवल पिछले वक्ताओं द्वारा उठाए गए बिंदुओं पर प्रतिक्रिया देकर संविधान की रक्षा के अपने दायित्व को पूरा कर रहे थे। राज्यपाल ने कहा था कि इतिहासकार ने उनके एडीसी और सुरक्षा अधिकारी को भी धक्का दिया ।  बहरहाल, कन्नूर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ गोपीनाथ रविंद्रन ने स्वीकार किया कि राज्यपाल के खिलाफ प्रदर्शन में प्रोटोकॉल का उल्लंघन हुआ ।  उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा कि इतिहासकार इरफान हबीब का नाम वहां वक्ताओं की सूची में नहीं था ।  हबीब ने आईएचसी में प्रोटोकॉल के किसी भी तरह के उल्लंघन से इनकार किया और विरोध करने वाले प्रतिनिधियों और छात्रों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई के लिए माकपा नीत एलडीएफ सरकार पर निशाना साधा। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...