नागरिकता संशोधन कानून को लेकर लोगों को किया जा रहा है भ्रमित : मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 22 दिसंबर 2019

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर लोगों को किया जा रहा है भ्रमित : मोदी

opposition-rumors-for-nrc-modi
नयी दिल्ली, 22 दिसम्बर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विपक्षी दलों पर झूठ को प्रचारित कर लोगों को भ्रमित करने का आरोप लगाया और विपक्षी के नेताओं को चुनौती दी कि यदि उनके किसी काम में भेदभाव नजर आता है तो उसे देश के समक्ष रखें। श्री मोदी ने रविवार को यहां रामलीला मैदान में एक विशाल रैली को संबोधित करते हुए कि विपक्षी दलों पर तीखा हमला किया और कहा कि उन्हें मोदी से नफरत है इसलिए उनके पुतले जलाएं। उनको निशाना बनाए लेकिन लोगों के घर नहीं जलाएं। उन्होंने विपक्षी दलों पर मुंह छिपाकर हिंसा का खेल खेलने का आरोप लगाया और कहा कि उन्हें समझ लेना चाहिए कि जिनको वे नुकसान पहुंचा रहे हैं वे सब हमारे अपने हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह विधेयक लोकसभा और राज्यसभा ने देश की जनता के हित में पारित किया है इसलिए सबको देश के सर्वोच्च सदनों का सम्मान करना चाहिए। लोकतंत्र के संसद का सम्मान सभी को करना चाहिए क्योंकि वहां जो भी विधेयक पारित होते हैं उनको देश के चुने हुए प्रतिनिधि पारित करते हैं। उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून संबंधी विधेयक के पारित होने के बाद कुछ राजनीतिक दल तरह-तरह की अफवाहें फैलाने में लगे हैं। ये लोगों को भ्रमित कर उनकी भावनाएं भड़काने का काम कर रहे हैं। विपक्षी दलों पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि सरकार ने जब दिल्ली की सैकड़ों कालोनियों को वैघ करने का काम किया तो किसी के धर्म या आस्था या पार्टी के समर्थक होने के बारे में किसी से नहीं पूछा। सभी को और देश के हर नागरिकों को इस कानून का फायदा मिला है। प्रधानमंत्री ने कहा कि वह देश के साथ लगाव के भाव से जीते हैं और ‘सबका साथ सबका विकास’ के भाव से काम करते हैं। एक ही सत्र में दो विधेयक पारित किए गये जिसमें से एक विधेयक में 40 लाख लोगों को अधिकार दिया गया लेकिन कुछ लोग झूठ फैला रहे हैं कि देश के लोगों के अधिकार छीने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने गरीबों के लिए जो भी योजना लागू की है उसे बिना भेदभाव के लागू किया जा रहा है। उन्होंने इस संबंध में उज्ज्वला योजना का उदाहरण दिया और कहा कि इस योजना के तहत देश के हर वर्ग और हर जाति के गरीब को फायदा पहुंचा है। इसी तरह से आयुष्मान योजना लागू की गयी और 70 लाख लोगों को इसका फायदा मिल रहा है। उन्होंने सवाल किया कि क्या इन योजनाओं का फायदा पहुंचाने के लिए किसी का धर्म पूछा गया या किसी की जाति पूछी गयी तो फिर किस कारण नागरिकता कानून को लेकर झूठ फैलाया जा रहा है। 

कोई टिप्पणी नहीं: