निर्भया केस में सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 18 दिसंबर 2019

निर्भया केस में सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका खारिज कर फांसी की सजा रखी  बरकरार
sc-dissision-on-nirbhaya
निर्भया केस में सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया केस के एक दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका खारिज कर दोषी अक्षय सिंह की सज़ा - ए - मौत बरकरार रखी है। आज सुप्रीम कोर्ट ने अक्षय के वकील एपी सिंह की ओर से तमाम दलील सुनने के बाद पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी। अक्षय के वकील ने कहा था कि उसे मौत की सजा न दी जाए यह मानवाधिकार के खिलाफ है। बता दें कि याचिका पर जस्टिस आर भानुमति , अशोक भूषण और ए एस बोपन्ना की बेंच ने सुनवाई की। जस्टिस भानुमति ने फैसला पढ़ते हुए कहा कि याचिकाकर्ता ने मुकदमे पर ही सवाल उठाए और इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती है। जांच में कमी की बात पर ट्रायल कोर्ट , हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर चुका है।  रिव्यू में उन्हीं बातों की नए सिरे से सुनवाई नहीं हो सकती। दोषी यह बातें पहले भी कह चुका है। इसलिए पुनर्विचार याचिका खारिज करते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: