अफवाह से अमन को अगवा करने की कोशिश : नकवी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 20 दिसंबर 2019

अफवाह से अमन को अगवा करने की कोशिश : नकवी

try-for-rumors-naqvi
नयी दिल्ली, 20 दिसंबर, अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शुक्रवार को कहा कि ‘‘झूठ के झाड़’’ से  “सच के पहाड़” को नहीं छुपाया जा सकता है। श्री नकवी ने यहां मौलाना आज़ाद एजुकेशन फाउंडेशन एवं केंद्रीय वक्फ कौंसिल की संयुक्त बैठक में कहा कि नागरिकता कानून और एनआरसी को लेकर बेबुनियाद और झूठी कहानियाँ गढ़ , अफ़वाह से अमन को अगवा करने की कोशिश हो रही है। उन्होंने कहा कि मौलाना आज़ाद एजुकेशन फाउंडेशन , केंद्रीय वक्फ़ कौंसिल के सदस्य देश भर में शैक्षिक संस्थानों , धार्मिक प्रतिनिधियों , गैर-सरकारी संगठनों , आम लोगों से संपर्क-संवाद कर समाज के बड़े वर्ग में पैदा की जा रही ‘ सियासी साजिश ’ से भरपूर गलतफ़हमी को दूर कर सच्चाई की ताकत से झूठ और दुष्प्रचार को बेनकाब करने का अभियान शुरू करेंगे। श्री नकवी ने कहा कि हमें पूरी तरह से होशियार रहना चाहिए , ऐसी साज़िशों से जो समाज के सौहार्द के ताने-बाने को अपने सियासी फायदे के लिए तार-तार करने पर उतारू हैं। ‘ एनआरसी के नाम पर अनार्की ’ इसी का जीता-जागता प्रमाण है। उन्होंने कहा कि वर्ष 1951 से असम में चल रही एनआरसी प्रक्रिया सिर्फ असम तक सीमित है , देश के किसी अन्य हिस्से में यह लागू नहीं है। एनआरसी को मुसलमानों की नागरिकता से जोड़ना सफ़ेद झूठ ही नहीं भ्रम एवं भय का भूत खड़ा करने की कोशिश है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...