जमशेदपुर : इस गांव के लोगों ने 40 साल पहले ही प्लास्टिक के खतरे को पहचाना, आज पेश कर रहे मिसाल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 21 दिसंबर 2019

जमशेदपुर : इस गांव के लोगों ने 40 साल पहले ही प्लास्टिक के खतरे को पहचाना, आज पेश कर रहे मिसाल

villege-who-identify-plastic-problame
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता) पूर्वी सिंहभूम जिले के मुसाबनी प्रखंड के छोटे से गांव रोहिणीबेड़ा में लगभग 40 साल से लोग प्लास्टिक और थर्माकोल के प्लेट का इस्तेमाल नहीं करते हैं. यहां के लोग साल के पत्ते से प्लेट और कटोरा बनाते हैं और बाजारों में बेचने के साथ-साथ खुद भी इसका इस्तेमाल करते हैं. प्लास्टिक मुक्त कर पर्यावरण संरक्षण की मुहिम को बढ़ावा देने के लिए सरकार कई कार्यक्रम चला रही है. लेकिन इससे कुछ अलग पूर्वी सिंहभूम जिले के मुसाबनी प्रखंड के छोटे से गांव रोहिणीबेड़ा में लगभग 40 साल से लोग प्लास्टिक और थर्माकोल के प्लेट का इस्तेमाल नहीं करते हैं. इस गांव के 20 से 25 घर हैं. वह लोग जंगल से साल के पत्ते लाकर पत्ते का थाली और कटोरा बनाते हैं. गांव वालों का कहना है कि यह हम लोगों के पूर्वजों को देन है, इसीलिए आज भी यह परंपरा चलती आ रही है. महिलाएं कहती हैं वे कई वर्षों से साल के पत्तों का थाली और कटोरा बनाते हैं और बेचते हैं. उनका कहना है कि इसमें खास मुनाफा तो नहीं होता था, लेकिन जब से प्लास्टिक मुक्त भारत का अभियान चलाया गया है तब से थोड़ी बिक्री तो बढ़ी है. गांव के पुरुष का कहना है कि यह उनके पूर्वजों की विरासत है. इसको संभाल के अभी तक रखे हुए हैं. उनका कहना है कि प्लास्टिक मुक्त भारत तो अभी की योजना है. वे तो पिछले 40 साल से यही काम करते आ रहे हैं. हां जब से प्लास्टिक मुक्त भारत अभियान चलाया गया है यहां के साल पत्तों की थाली और कटोरी की मांग बाजारों में बहुत तेजी से बढ़ रही है और मुनाफा भी हो रहा है.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...