बिहार की इंटर आर्ट्स टॉपर रोहिणी की दिल्ली में ट्रेन से कटकर मौत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 9 जनवरी 2020

बिहार की इंटर आर्ट्स टॉपर रोहिणी की दिल्ली में ट्रेन से कटकर मौत

bihar-topper-dead-in-delhi
पश्चिम चंपारण, 09 जनवरी। बीते वर्ष 2019 की इंटर स्टेट टॉपर रोहिणी रानी की आठ जनवरी की सुबह दिल्ली में ट्रेन की चपेट में आने से मौत हो गई। वह दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नातक की छात्रा थी। कोचिंग के लिए जाते समय यह दर्दनाक घटना हुई। बिहार की होनहार बेटी के निधन की इस खबर से शिक्षा जगत मर्माहत है। परिवार समेत क्षेत्र के लोगों में मातम पसर गया है। रोहिणी पश्चिम चंपारण के मझौलिया थाना क्षेत्र के सेनवरिया पंचायत के दुबौलिया गांव की निवासी थी। उसके पिता प्रदीप कुमार सिंह एलआइसी से जुड़े हुए हैं। उसकी मौत की खबर मिलते ही उसके माता-पिता दिल्ली रवाना हो गए हैं। दुबौलिया निवासी उसके पड़ोसी अनुज कुमार सिंह ने बताया कि रोहिणी आठ जनवरी की सुबह कोचिंग जाने के लिए घर से निकली थी। घने कोहरे के बीच रेलवे लाइन क्रास करने के क्रम में ट्रेन की चपेट में आने से उसकी मौत हो गई। रोहिणी रानी संतरेसा विद्यालय बेतिया की छात्रा थी। मई 2019 में आयोजित इंटर कला परीक्षा में 500 में से 463 अंक लाकर वह बिहार टॉपर बनी थी। रोहिणी के टॉपर होने उसके परिवार समेत पूरे गांव के लोग खुश थे, लेकिन इस घटना के बाद पूरा सभी सदमे में है।  वहीं उनके गांव और इलाके में मातम का माहौल है। बिहार बोर्ड में आर्ट्स से टॉप कर बेतिया जिले का नाम रोशन करने वाली रोहिणी ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने के लिए दिल्ली चली गई थीं। 2019 की इंटरमिडिएट परीक्षा में रोहिणी रानी ने 500 में से 463 अंक प्राप्त कर राज्य में प्रथम स्थान हासिल की थी। रोहिणी एक सामान्य परिवार से ताल्लुक रखती थीं। टॉपर ने अपनी सफलता के बारे में बताया था कि उसने कोई कोचिंग या ट्यूशन क्लास नहीं ली। वह सेंट टेरेसा गर्ल्स हाई स्कूल के शिक्षकों के मार्गदर्शन और स्कूल के नोट्स से ही पढ़कर पूरे राज्य में टॉप किया। रोहिणी की मां एक आंगनवाड़ी शिक्षिका हैं और उनके पिता एलआईसी एजेंट हैं। रोहिणी और उनके परिजन इस कामयाबी से बेहद खुश थे लेकिन इस खबर को सुनने के बाद दोनों का रो रोकर बुरा हाल है।

कोई टिप्पणी नहीं: