कांग्रेस-ममता एंड कंपनी ने सीएए के विरोध में देश में दंगे कराये : शाह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 16 जनवरी 2020

कांग्रेस-ममता एंड कंपनी ने सीएए के विरोध में देश में दंगे कराये : शाह

congress-and-mamta-oppose-caa-amit-shah
हाजीपुर 16 जनवरी, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज आरोप लगाया कि कांग्रेस और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर लोगों को गुमराह किया और देश में दंगे कराये जबकि यह कानून सताये जाने के कारण पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बंग्लादेश से आए लोगों को नागरिकता देने का है, किसी की नागरिकता छीनने का नहीं। श्री शाह ने आज यहां वैशाली में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि सीएए के विरोध में कांग्रेस-ममता एंड कंपनी ने देश में दंगे कराए। ये लोग अपना राजनीतिक उल्लू सीधा करने के लिए लोगों को गुमराह कर रहे हैं। सीएए नागरिकता देने का कानून है, लेने का नहीं। वह बिहार के मुसलमानों को बताने आये हैं कि सीएए से किसी की नागरिकता नहीं जाएगी। उन्होंने कहा कि सीएए में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बंग्लादेश से सताये जाने के कारण यहां शरण लेने आए लोगों को नागरिकता देने की व्यवस्था है। केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने धर्म के आधार पर देश का विभाजन कराकर गलत किया। पाकिस्तान और बंग्लादेश में हिंदुओं के धर्मपरिवर्तन कराए गए, उनकी हत्याएं हुईं। पाकिस्तान में पिता के सामने बेटी से पति के सामने पत्नी से बलात्कार हुए। मंदिर-गुरुद्वारे तोड़े गए। इसलिए, वहां से प्रताड़ित होकर लोग यहां आए हैं। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने 26 सितंबर 1947 को कहा था कि पाकिस्तान में रहने वाला हर हिंदू और सिख भारत आ सकता है। उसे नौकरी और आश्रय देना आजाद भारत की जिम्मेदारी है। गांधी जी की इस बात को पंडित जवाहर लाल नेहरू, डाॅ. राजेंद्र प्रसाद, आचार्य जे. बी. कृपलानी और मौलाना अबुल कलाम आजाद ने भी दोहराया। उन्होंने कहा, “कांग्रेस वाले हमारी नहीं मान रहे, अपने नेताओं की तो मान लें।” 

कोई टिप्पणी नहीं: