राष्ट्रपति भवन कूच करने का प्रयास, प्रदर्शनकारी छात्रों पर बल-प्रयोग, 50 हिरासत में - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 9 जनवरी 2020

राष्ट्रपति भवन कूच करने का प्रयास, प्रदर्शनकारी छात्रों पर बल-प्रयोग, 50 हिरासत में

jnu-prostesters-move-president-house-50-arrested
नयी दिल्ली, 09 जनवरी, जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में नकाबपोशों द्वारा की गयी हिंसक घटना के विरोध में गुरुवार काे यहां नागरिक मार्च निकाले जाने तथा छात्र प्रतिनिधियों की मानव संसाधन मंत्रालय के अधिकारी से कुलपति एम जगदीश कुमार को बर्खास्त किये जाने की मांग पर संतोषजनक जवाब नहीं मिलने के बाद राष्ट्रपति भवन की ओर कूच करने की कोशिश कर रहे प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया जिससे कई छात्र घायल हो गये और 50 से अधिक छात्रों को हिरारात में ले लिया गया। इस बीच भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. मुरली मनोहर जोशी ने जेएनयू विवाद के परिप्रेक्ष्य में अपनी टिप्पणी में कहा कि कुलपति एम जगदीश कुमार फीस वृद्धि को लेकर सरकार के प्रस्ताव का क्रियान्वयन नहीं कर रहे हैं और उन्हें पद से हटा दिया जाना चाहिए। डॉ. जोशी ने अपने ट्वीट में कहा, “ यह चौंकाने वाला तथ्य है कि कुलपति सरकार के प्रस्ताव को लागू नहीं करने के लिए अड़ें हुए हैँ। उनका रवैया निराशाजनक है और मेरी राय में ऐसे कुलपति को इस पद पर बने रहने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।” जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आईसी घोष ने कहा कि कुलपति को तत्काल हटाये जाने की मांग पर उच्च शिक्षा सचिव अमित खरे की ओर से कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला इसलिए यह मार्च यहीं खत्म नहीं होगा बल्कि राष्ट्रपति भवन की ओर जायेंगे और विश्वविद्यालय के विजीटर से इस मामले में गुहार लगाएंगे। इस घोषणा के बाद छात्र राष्ट्रपति भवन की बढ़ने लगे। इस दौरान पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर कुछ लोगों को हिरासत में लेकर मंदिर मार्ग ले गई जिन्हें बाद में छोड़ दिया गया। पुलिस ने छात्रों को रोकने की कोशिश की तो कुछ छात्र अलग अलग समूह बनाकर पुलिस की नजरों से बचकर राष्ट्रपति भवन की ओर जाने लगे। कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए पुलिस ने राजपथ को सील कर दिया और बड़ी संख्या में पुलिस बलों को तैनात कर किया गया है। जेएनयू छात्रसंघ ने ट्वीट कर कहा , “ पुलिस की बर्बरता के आगे हमारा शांतिपूर्ण प्रदर्शन नहीं रुकेगा।” इस बीच उच्च शिक्षा सचिव ने जेएनयू शिक्षक संघ के अध्यक्ष डी के लोबियाल और जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष को शुक्रवार को दोपहर बाद तीन बजे चर्चा के लिए बुलाया है। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक प्रदर्शन के दौरान एक युवती ने दूसरे युवक को छुड़ाने के लिए लड़की ने दक्षिणी पश्चिमी दिल्ली के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त आईपीएस इंगित सिंह के हाथ में काट दिया। पुलिस ने हालांकि इसकी पुष्टि नहीं की है। 

कोई टिप्पणी नहीं: