बिहार : चुनावी साल में मकर संक्रांति की सियासी दमखम दिखाने का मौका - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 15 जनवरी 2020

बिहार : चुनावी साल में मकर संक्रांति की सियासी दमखम दिखाने का मौका

makar-sankranti-politics
पटना,15 जनवरी (आर्यावर्त संवाददाता) । आज बुधवार को महागठबंधन नेताओं का जमावाड़ा पटना के सदाकत आश्रम स्थित प्रदेश कांग्रेस के मुख्यालय में हो रहा है।चुनावी साल में मकर संक्रांति की सियासी दमखम दिखाने का मौका बन रहा है।बिहार प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी शक्तिसिंह गोहिल भी भाग लेने आ गए हैं। राजद नेता तेजस्वी यादव शामिल होंगे। सियासी दमखम दिखाने वाले लोग चाहेंगे कि दही-चूड़ा भोज के माध्यम से अपनी एकजुटता जोरदार से प्रदर्शित कर सके। झारखंड जीत लेने के बाद महागठबंधन नेता बिहार की बारी समझकर दही में चीनी डालेंगे ताकि दही में खटास न रह सके। पटना के सदाकत आश्रम स्थित प्रदेश कांग्रेस के मुख्यालय में महागठबंधन के नेताओं के लिए दही –चूड़ा के भोज का आयोजन है जिसके लिए महागठबंधन के सभी नेताओं को निमंत्रण भेजा गया । इस भोज में महागठबंधन के सभी नेताओं को आमंत्रण पत्र भेजा गया है। हिन्दुस्तान आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी, बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता और राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा, वीआईपी पार्टी के नेता मुकेश सहनी के अलावा राजद नेता अब्दुल बारी सिद्धिकी, कांग्रेस नेता शकील अहमद भी पत्र भेजा गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...