मधुबनी : वातावरण निर्माण के लिए संस्कृत प्रचार रथ को झंडी दिखा किया रवाना - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 16 जनवरी 2020

मधुबनी : वातावरण निर्माण के लिए संस्कृत प्रचार रथ को झंडी दिखा किया रवाना

- संस्कृत प्रचार रथ को डीएम, एसपी ने झंडी दिखाकर रवाना किया मानव श्रृंखला में वातावरण निर्माण के लिए संस्कृत गीत जारी- संस्कृत भाषा में मानव श्रृंखला का नारा एवं गीतों के द्वारा लोगों को कर रहे हैं जागरूक-डॉ.भारती मेहता के मार्गनिर्देशन में संस्कृत भारती के प्रान्त प्रचार प्रमुख डॉ.रामसेवक झा तैयार किये है संस्कृत गीत
sanskriti-prachar-rath-madhubani
मानव श्रृंखला में वातावरण निर्माण के लिए मधुबनी समाहरणालय से जिलाधिकारी शीर्षत कपिल अशोक एवं एसपी डॉ.सत्यप्रकाश ने  संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखाकर रवाना किये। यह संस्कृत प्रचार रथ जिले के सभी अनुमंडल में भ्रमण कर लोगों से मानव श्रृंखला को सफल बनाने का आह्वान करेंगे। ज्ञात हो कि माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी बिहार सरकार के नेतृत्व में 19 जनवरी को राज्यव्यापी मानव श्रृंखला का निर्माण किया जा रहा है। मानव श्रृंखला को सफल बनाने के लिए बिहार संस्कृत शिक्षा बोर्ड की अध्यक्षा डॉ भारती मेहता के मार्ग निर्देशन में संस्कृत भारती बिहार प्रांत के प्रांत प्रचार प्रमुख डॉ रामसेवक झा द्वारा मानव श्रृंखला को सफल बनाने तथा माननीय मुख्यमंत्री के द्वारा बिहार में किए जा रहे कार्यों का चित्रण संस्कृत गीतों के माध्यम से किया गया है। डॉ.रामसेवक झा ने कहा कि बिहार सरकार द्वारा जल-जीवन- हरियाली, बाल विवाह रोकथाम एवं दहेज प्रथा उन्मूलन तथा शराबबंदी के समर्थन में राज्यव्यापी मानव श्रृंखला का निर्माण 19 जनवरी 2020 को प्रातः 11:30 से 12 बजे तक किया जाएगा। इस कार्यक्रम को सफल बनाने तथा वातावरण निर्माण के उद्देश्य से लोगों में जागरूकता उत्पन्न करने के लिए डॉ.भारती मेहता जी के आग्रह पर मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी से संस्कृत गीतों की स्वीकृति प्राप्त हुई । संस्कृत भारती के कार्यकर्ताओं द्वारा तीन संस्कृत गीतों एवं मानव श्रृंखला का नारा संस्कृत में लिखा गया। 15जनवरी को मुख्यमंत्री कार्यालय से बिहार के सभी जिलों में संस्कृत गीतों को भेज दिया गया है। डॉ.भारती मेहता ने बताया कि सभी जिलाधिकारियों से आग्रह किया गया है जो व्यापक रूप से संस्कृत गीतों के माध्यम से भी अधिक से अधिक लोगों को मानव श्रृंखला में सम्मिलित होने तथा सफल बनाने का आह्वान करने को कहा गया है। इस संस्कृत अभियान को सफल बनाने के लिए डॉ.भारती मेहता , डॉ.रमेश झा , डॉ.प्रियव्रत मिश्र, डॉ. शशिकांत तिवारी, डॉ.योगानन्द झा का महत्वपूर्ण योगदान है। प्रचार‌ रथ रवाना के समय अपर समाहर्ता दुर्गानंद झा,सदर एसडीओ सुनील कुमार, डीईओ नसीम अहमद,एसजीआर उमेश कुमार सहित जिले के कई वरीय पदाधिकारीगण उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: