विश्व को आतंकवाद की चुनौती से निपटने के लिए आकलन करना होगा : जयशंकर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 15 जनवरी 2020

विश्व को आतंकवाद की चुनौती से निपटने के लिए आकलन करना होगा : जयशंकर

to-fight-with-world-terror-jayshankar
नयी दिल्ली, 15 जनवरी, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बुधवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद के कारण परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और दुनिया को इस समस्या से कैसे निपटना है इसका आकलन करना होगा। श्री जयशंकर ने रायसिना डायलॉग में कहा,“दुनियाभर में कई सामान्य चुनौती है जिसमें आतंकवाद, अलगाववाद और प्रवासी एक सामान्य चुनौती है। इसलिए यह मत सोचिए कि ये समस्याएं भारत के लिए अनोखी हैं।” जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और कश्मीर नीति के अन्य पहलुओं पर मोदी सरकार के रुख पर वैश्विक प्रतिक्रिया को लेकर सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “यह दुनिया के विभिन्न हिस्सों में सामना की जा रही चुनौतियों का एक हिस्सा है और मुझे लगता है कि जब लोग इसे देखते हैं, इसका आकलन करते हैं और इसका विश्लेषण करते हैं, तो उन्हें निष्पक्षता से खुद से पूछना चाहिए कि वह इसका किस तरह से इसका जवाब देंगे।” विदेश मंत्री ने कहा, “कई बड़े देश हैं जिनके पड़ोस में अशांति है। जैसे यूरोप ने इसे उत्तरी अफ्रीका में देखा है। ज्यादातर लोगों ने इसे 9/11 के समय देखा तो उन सभी ने इस पर क्या प्रतिक्रिया दी। जब आप भारत जैसे देश को देखते हैं, जो इन सामान्य चुनौतियों से निपट रहा है, तो इसे संभालने के अपने पूरे तरीके पर विचार करना महत्वपूर्ण है।” 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...