मधुबनी : कैंप लगा को किया गया कोरोना वायरस के प्रति जागरूक - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 1 फ़रवरी 2020

मधुबनी : कैंप लगा को किया गया कोरोना वायरस के प्रति जागरूक

awareness-for-corona-virus-madhubani
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता)  : इंडो-नेपाल सीमावर्ती क्षेत्रों में खतरनाक कारोना वायरस से बचाव एवं लोगों को जागरूक करने के लिए भारत नेपाल-सीमा स्थित देवधा चेक पोस्ट पर स्वास्थ्य विभाग की टीम को नियुक्त कर दिया गया है।  स्वास्थ विभाग की एक टीम स्थानीय जनप्रतिनिधि के द्वारा नेपाल से आने वाले व्यक्तियों से पुछताछ कर वायरस के लक्षणों को परखा जा रहा है। हालांकि अभी तक एक भी ऐसा पेशेंट पीएचसी नहीं पहुंचा है। इस बाबत जानकारी देते हुए चिकित्सक डॉ० जयसुदन झा ने बताया की इस वायरस का प्रकोप चीन के रास्ते नेपाल देश में हो चुका है। नेपाल देश से भारत का सीमा सटे होने के कारण दोनों देशों के नागरिक आते जाते रहते है। जिससे संभावना है  कि इस वायरस से ग्रसित व्यक्ति भारत आए और भारत के नागरिक भी वायरस के शिकार हो जाए। इसी को लेकर विभाग के द्वारा स्थानीय मुखिया योगेन्द्र पूर्वे के सहयोग से पुरे पंचायत में लोगों को जागरूक किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस से होने वाली बिमारी का अभी तक कोइ इलाज नहीं है। ऐसे मरीजों में बीमारी से होने वाले सिर्फ  लक्षणों का ही उपचार किया जा सकता है। वैसे स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार, विश्व स्वास्थ्य संगठन एवं अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों के सहयोग से इस वायरस के बारे में पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने बताया की कोरोना वायरस के लक्षण खांसी, बुखार, निमोनिया, सांस लेने में तकलीफ, दस्त, उल्टी होना आदि इनके प्रमुख लक्षण है। उन्होंने बताया की संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में जाने से संक्रमित व्यक्ति के खांसने व ठीक से निकले तरल पदार्थों से एवं रोगी के उपकरणों को छूने के बाद अपने नाक, मुंह व आखों को छूने से हो सकता है। इस बावत सीओ संतोष कुमार ने कहा की जिला पदाधिकारी के निर्देश पर नेपाल से सटे पंचायतों के सभी मुखिया को पत्र भेज दिया गया है। इस पत्र  अपने-अपने पंचायतों में आमसभा का आयोजन करें, जहां पीएचसी प्रभारी के द्वारा लोगों को इस वायरस से बचाव के बारे में जानकारी दी जाएगी। कोरोना वायरस के बचाव के सम्बंध को लेकर देवधा उत्तरी पंचायत में एक बैठक का आयोजन किया गया, जिसमें जयनगर कोरोना वायरस के बारे में तथा उनके बचाव के बारे में भी लोगो को जानकारी दिया। उन्होंने ने कहा कि कोरोना वायरस विषाणु के एक बड़ा समूह है, जो कि  मानव एवं पशु दोनों में सर्दी-जुकाम से सम्बंधित बीमारी का संक्रमण करता है। इससे बचने के लिए नियमित रूप से हम अपने हाथों को साबुन से हाथ धोये। खांसते समय अपने मुंह व नाक को ढके। 

कोई टिप्पणी नहीं: