चाईबासा में जिला परिषद की अध्यक्षता में राशन डीलरों की बैठक - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 2 फ़रवरी 2020

चाईबासा में जिला परिषद की अध्यक्षता में राशन डीलरों की बैठक

चाईबासा के सदर प्रखंड में जिला परिषद के नेतृत्व में शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के राशन डीलरों की बैठक हुई. इस दौरान जिला परिषद अध्यक्ष ने कहा कि राशन आपूर्ति में सुधार लाने के लिए प्रत्येक गांव में एक कमेटी का गठन किया जाएगा.
dealar-meeting-jamshedpur
जमशेदपुर (प्रमोद कुमार झा) जिला परिषद सभागार में जिला परिषद अध्यक्ष लालमुनि पूर्ती की अध्यक्षता में सदर प्रखंड के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के राशन डीलरों की बैठक बुलाई गई. इस दौरान बैठक में सदर प्रखंड के सभी राशन डीलर शामिल हुए. बता दें कि कार्ड धारियों की शिकायत पर पिछले दिनों जिला परिषद अध्यक्ष लालमणि पूर्ति ने जिले के विभिन्न प्रखंडों के गोदाम और राशन दुकानों का निरीक्षण किया था. निरीक्षण के क्रम में उन्होंने काफी अनियमितता पाई थी. इससे नाराज होकर लालमणि पूर्ति ने खूब पानी प्रखंड के खाद्यान्न परिवहन अभी करता को हटाने की अनुशंसा की थी, जिसके बाद उन्होंने जिला आपूर्ति पदाधिकारी को राशन डीलरों की बैठक करने का निर्देश भी दिया था. बैठक में शामिल सभी राशन डीलरों ने बारी-बारी से अपनी समस्याओं को गिनाया. बैठक में लगभग शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के सभी राशन डीलरों ने वजन के अनुसार राशन नहीं दिए जाने की शिकायत की. इतना ही नहीं राशन डीलरों ने संबंधित विभागों के पदाधिकारियों ने राशन दुकानदारों को राशन उठाने पर प्रतिमाह पैसे की मांग करने की बात बतायी राशन डीलरों ने बताया कि खाद्यान्न परिवहन अभिकर्ता की ओर से वजन के अनुसार राशन नहीं दिया जाता है. 50 किलो की जगह मात्र 45 से 48 किलो ही राशन दिया जाता है. चीनी प्रति बोरा 2 से 3 किलो कम दिया जाता है, जिसके कारण कार्डधारियों को सही रूप से राशन नहीं मिल पा रहा है. यही नहीं राशन डीलरों से प्रतिमाह 50 से 100 रुपए मांगे जाते हैं. इसके अलावा अलग-अलग एजीएम को 200 रुपये देने पड़ते हैं. ऐसा नहीं करने पर संबंधित विभाग के पदाधिकारी गाली गलौज करते हैं और लाइसेंस रद्द करने की धमकी भी देते हैं. इसके अलावा ग्रामीण इलाकों में इंटरनेट की समस्या उत्पन्न होती है जिस कारण कार्ड धारियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. जिला परिषद अध्यक्ष लालमणि पूर्ति ने कहा कि सभी मिलकर इन सारी समस्याओं को दूर करेंगे खाद्यान्न परिवहन अभी कर्ताओं को इलेक्ट्रॉनिक तराजू से वजन कर राशन देना अनिवार्य है. इसे हर हाल में देना होगा परिवहन अभिकर्ता राशन दुकान तक राशन पहुंचाएंगे और इलेक्ट्रॉनिक तराजू से वजन कर अनाज देंगे. ऐसा नहीं करने वाले परिवहन अभिकर्ता की शिकायत करें. बिना गलती के किसी भी राशन डीलरों का लाइसेंस रद्द नहीं किया जाएगा जिला परिषद अध्यक्ष ने कहा कि राशन आपूर्ति में सुधार लाने के लिए प्रत्येक गांव में एक कमेटी का गठन किया जाएगा, ताकि सभी कार्ड धारियों को उचित समय पर उचित राशन मिल सके. जहां तक पैसे मांगने की बात सामने आ रही है, इसकी जांच करवाई जाएगी उसके बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई भी होगी.

कोई टिप्पणी नहीं: