हिन्दी के प्रख्यात लेखक गिरिराज किशोर का निधन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 9 फ़रवरी 2020

हिन्दी के प्रख्यात लेखक गिरिराज किशोर का निधन

hindi-writer-giriraj-kishore
कानपुर 09 फरवरी, हिंदी के प्रख्यात लेखक एवं समाजवादी विचारक गिरिराज किशोर का रविवार को यहां निधन हो गया। वह 82 वर्ष के थे। श्री किशोर के परिवान में पत्नी के अलावा एक बेटा और दो बेटियां हैं। उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में 08 जुलाई 1932 को जन्मे श्री किशोर भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) कानपुर के रजिस्ट्रार पद से सेवानिवृत्त होने के बाद स्वतंत्र लेखन कर रहे थे। पद्मश्री और साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित श्री किशोर कहानीकार उपन्यासकार और नाटककार भी थे। हिंदी के चर्चित कहानीकार एवम् श्री किशोर के सहयोगी प्रियम्बद ने यूनीवार्ता को बताया कि श्री किशोर का निधन आज सुबह साढ़े नौ बजे घर पर सांस अटकने का कारण हुआ। वैसे वह ठीक थे। उनका अंतिम संस्कार सोमवार को यहां दस बजे होगा। श्री किशोर को ख्याति उनके पहले गिरमिटिया उपन्यास से मिली थी जो उन्होंने गांधी जी के दक्षिण अफ्रीका प्रवास पर लिखा था। ढाई घर उपन्यास पर उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था। परिशिष्ट उनका चर्चित उपन्यास था। प्रजा ही रहने दो उनका चर्चित नाटक था। वह कानपुर विश्वविद्यालय में उप कुलसचिव भी रह चुके थे। उन्हें अनेक पुरस्कार सम्मान मिले थे।  

कोई टिप्पणी नहीं: