केजरीवाल का दिल्ली की जनता को शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचने का न्योता - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 13 फ़रवरी 2020

केजरीवाल का दिल्ली की जनता को शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचने का न्योता

kejriwal-invite-delhi-oath-ceremony
नयी दिल्ली,13 फरवरी, आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने राजधानी की जनता से रविवार को उनके मुख्यमंत्री पद के शपथ ग्रहण समारोह में अधिक से अधिक संख्या में रामलीला मैदान पहुंचने का न्योता दिया है। श्री केजरीवाल को कल यहां नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक में विधायक दल का नेता चुना गया। दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों के लिए 11 फरवरी को आए परिणामों में श्री केजरीवाल की आम आदमी पार्टी (आप) ने एक बार फिर ऐतिहासिक विजय हासिल की है। पार्टी ने 62 सीटें जीती हैं जबकि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को आठ पर संतोष करना पड़ा। पिछले विधानसभा चुनाव की तरह कांग्रेस की झोली इस बार भी पूरी तरह खाली रह गई है। श्री केजरीवाल ने गुरुवार ट्वीट कर कहा,“ दिल्लीवासियों, आपका बेटा तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री की शपथ लेने जा रहा है। अपने बेटे को आशीर्वाद देने जरूर आना है। रविवार सुबह 10 बजे, रामलीला मैदान।” मुख्यमंत्री के रूप में रविवार को शपथ लेने के बाद श्री केजरीवाल पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत शीला दीक्षित के तीन बार लगातार दिल्ली का मुख्यमंत्री रहने के रिकार्ड की बराबरी करेंगे। वह 1998 से 2013 तक लगातार तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं थी। श्री केजरीवाल के नेतृत्व वाली आप पहली बार किसी चुनाव में दिल्ली विधानसभा के लिए मैदान में उतरी थी और पहले ही प्रयास में 70 में से 28 सीटों पर जीत हासिल की थी। कांग्रेस के आठ विधायकों के सहयोग से श्री केजरीवाल मुख्यमंत्री बने थे लेकिन लोकपाल के मामले पर मतभेद होने के बाद 49 दिन बाद ही इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद 2015 में हुए चुनाव में आप को 70 में से 67 सीटों पर प्रचंड जीत मिली और भाजपा तीन पर सिमट कर रह गई। कांग्रेस शून्य रही।  

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...