मेलानिया ट्रंप के स्कूल भ्रमण में साथ नहीं होंगे केजरीवाल, सिसोदिया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 22 फ़रवरी 2020

मेलानिया ट्रंप के स्कूल भ्रमण में साथ नहीं होंगे केजरीवाल, सिसोदिया

kejriwal-sisodia-will-not-be-with-melonia
नयी दिल्ली, 22 फरवरी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एवं उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के अमेरिकी प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप के राजधानी के एक सरकारी स्कूल के दौरे के समय उनके साथ रहने की संभावना नहीं है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और पत्नी मेलानिया ट्रंप 24 फरवरी को दो दिवसीय भारत दौरे पर आयेंगे। श्रीमती ट्रंप 25 फरवरी को दिल्ली के एक सरकारी स्कूल में ‘हैप्पीनेस क्लास’ का अवलोकन करेंगी। इस दौरान शिक्षा विभाग से जुड़े अधिकारियों के उनके साथ रहने की संभावना है। सूत्रों ने शनिवार को यह जानकारी दी। रिपोर्ट के अनुसार श्री केजरीवाल और श्री सिसोदिया का स्कूलों में होने वाले कार्यक्रम की सूची से नाम हटा दिया गया है। इससे पहले यह दावा किया जा रहा था कि दक्षिण दिल्ली के सरकारी स्कूलों के दौरे के दौरान 25 फरवरी को अमेरिकी प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप के साथ श्री केजरीवाल और श्री सिसोदिया रहेंगे। इस दौरान आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाया है कि भारतीय जनता पार्टी नीत केन्द्र सरकार के दबाव में दोनों नेताओं का नाम इस कार्यक्रम की सूची से हटाया गया है। आप के राष्ट्रीय कार्यकारी सदस्य प्रीति शर्मा मेनन ने ट्वीट किया, “ नरेन्द्र मोदी की संकीर्णता का कोई सानी नहीं है, आप अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया को कार्यक्रम में आमंत्रित नहीं कर सकते हो उनका काम सिर चढ़कर बोलेगा।” कांग्रेस नेता एवं सांसद शशि थरूर ने इस मामले में टिप्पणी करते हुए ट्वीट किया,“ मोदी सरकार का कुछ चुनिंदा आधिकारिक अवसरों के लिए निमंत्रण न भेजना, उनकी सतही राजनीति का परिचायक है जो हमारे लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं हैं। राष्ट्रपति भवन भोज और प्रधानमंत्री के स्वागत से विपक्ष को अलग रखना तुच्छ प्रतीत होता है, इस तरह के कार्यों से भारत की प्रतिष्ठा धूमिल होती है।” 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...