मधुबनी : गरीब बच्चों को कमला नदी के रेत पर बना रहे हुनरमंद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 25 फ़रवरी 2020

मधुबनी : गरीब बच्चों को कमला नदी के रेत पर बना रहे हुनरमंद

training-poor-student-madhubani
जयनगर/मधुबनी (अनुराग कुमार गुप्ता)  कहते है कि जब हौसला बना लिया ऊंची उडा़न का फिर देखना फिजूल है कद आसमान का।डरना नही तु यहां किसी चुनौती से बस तुही सिकंद्र है सारे जहांन का ।जिहाँ अगर हौसला बुलंद हो और मेहनत कि लगन हो तो कोई भी काम असानी से किया जा सकता है। ये बिहार के मधुबनी जिला के जयनगर कमला बांध किनारे बसे गरीब परिवार के वह बच्चे है  जिन्की मेहनत और लगन को प्रखा है खेल शिक्षक प्रमोद कुमार ने ।की किस तरह से ये बच्चे बालु के रेत पर अपनी भविषय की तलाश कर रही है।इनके चेहरे पर आई रौनक   को देखकर आप समझ सकते है कि आने वाले यात्रा के लिए कितने एकसाइडीट है।प्रमोद कुमार ने सभी बच्चो को एक वर्ष से भाली बाँल खेल का प्रशिक्षण दे कर बिहार तक पहुंचा ने में अपनी भुमिका नीभाई है।और ये बच्चे नेशनल खेल मे जित कर अपने जिला और गावं का नाम रौशन  किया है लेकिन सरकार द्बारा कोई ध्यान नही दिया जा रहा है।भारत कि भविषय उज्वल करने कि हो जब बात तो हम बच्चो के एलाबा किस्से करे गे शुरुयात। ये बच्चे ने की मेहनत दिन रात तो आज ये उडेंगे बादलो के साथ।आईए उन बच्चो से हम मिलबाते है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...