अमेरिकी आयोग की टिप्पणी तथ्यात्मक तौर पर गलत : विदेश मंत्रालय - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 27 फ़रवरी 2020

अमेरिकी आयोग की टिप्पणी तथ्यात्मक तौर पर गलत : विदेश मंत्रालय

usa-councel-wrong-ravish-kumar
नयी दिल्ली, 27 फरवरी, विदेश मंत्रालय ने दिल्ली के उत्तर-पूर्वी इलाकों में फैली हिंसा को लेकर अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता से संबंधित अमेरिकी आयोग (यूएससीआईआरएफ) की तरफ से जतायी गयी चिंता काे खारिज करते हुए गुरुवार को कहा कि आयोग की टिप्पणी तथ्यात्मक तौर पर गलत और भ्रामक हैं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने दिल्ली के उत्तर-पूर्वी इलाकों में फैली हिंसा को लेकर की जा रही टिप्पणियों के बारे में मीडिया के सवालों के जवाब देते हुए कहा, “मैंने यूएससीआईआरएफ, मीडिया के कुछ वर्गों और कुछ अन्य लोगों द्वारा की गयी टिप्पणियों को देखा है। ये टिप्पणियां तथ्यात्मक तौर पर पूरी तरह गलत और गुमराह करने वाली हैं और मुद्दे का राजनीतिकरण करने के मकसद से की गयी हैं।” यूएससीआईआरएफ की आयुक्त अरुणिमा भार्गव ने दिल्ली में हिंसा को लेकर टिप्पणी करते हुए कहा, “पूरी दिल्ली में क्रूर और अनियंत्रित हिंसा जारी नहीं रह सकती है। भारत सरकार को अपने सभी नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए शीघ्र कार्रवाई करनी चाहिए।” इस पर प्रतिक्रिया देते हुए प्रवक्ता ने कहा कि इस तरह की टिप्पणियों से लगता है कि इस मुद्दे का राजनीतिकरण किया जा रहा है। उन्होंने कहा, “हमारी कानून-व्यवस्था बनाये रखने वाली एजेंसियां प्रभावित इलाकों में हिंसा को रोकने और भरोसा एवं सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए काम कर रही हैं।” प्रवक्ता ने कहा कि सरकार के शीर्ष प्रतिनिधि स्थिति को सामान्य करने की पूरी प्रक्रिया में शामिल है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सार्वजनिक तौर पर शान्ति और सौहार्द बनाये रखने की अपील की है। उन्होंने कहा, “हम अनुरोध करते है कि इस संवेदनशील माहौल को देखते हुये कोई भी गैर जिम्मेदाराना बयान न दे।” 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...