पीएमसी बैंक घोटाले में तीन और गिरफ्तार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 12 मार्च 2020

पीएमसी बैंक घोटाले में तीन और गिरफ्तार

3-more-arrested-in-pmc-bank
मुम्बई, 12 मार्च, पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (पीएमसी) बैंक के कथित घोटाले की जांच कर रही मुम्बई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने बृहस्पतिवार को एक पूर्व निदेशक समेत तीन व्यक्तियों को गिरफ्तार किया ।  आर्थिक अपराध शाखा के एक अधिकारी ने बताया कि जसविंदर सिंह बनवैत, विश्वनाथ श्रीधर प्रभु और श्रीपद गोविंद जेरे को गिरफ्तार किया गया। इसी के साथ इस मामले में गिरफ्तार किये गये लोगों की संख्या 15 हो गयी है। अधिकारी के मुताबिक जब 4,355 करोड़ रूपये का हाउसिंग डेवलपमेंट एंड इंफ्रास्टक्चर लिमिटेड (एचडीआईएल) से जुड़ा कथित घोटाला हुआ था तब बनवैत बैंक के निदेशक और उसकी ऋण, निवेश एवं कार्यकारी समिति के सदस्य थे । उन्होंने बताया कि आर्थिक अपराध शाखा के अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को बनवैत से पीएमसी बैंक द्वारा एचडीआईएल समूह की कंपनियों को दी गयी ऋण सुविधाओं तथा उसकी वसूली के लिए की गयी कोशिशों के बारे में पूछताछ की। उन्होंने बताया कि प्रभु और तेरे यार्दी प्रभु कंसलटेंट एंड वैल्युअर्स प्राइवेट लिमिटेड में मूल्यांकनकर्ता (संपत्तियों का मूल्यांकन करने वाला) हैं। वे भारतीय रिजर्व बैंक की शर्त के अनुसार पूंजी पर्याप्तता दर्शाने के लिए 2012 और 2015 में पीएमसी बैंक की संपत्तियों के मूल्य को बढ़ा चढ़ाकर पेश करने में कथित रूप से शामिल थे। दोनों बैंक के तत्कालीन प्रबंध निदेशक जॉय थॉमस के इशारे पर काम कर रहे थ। तीनों आरोपियों को यहां एक अदालत में पेश किया गया। अदालत ने उन्हें सोमवार तक के लिए आर्थिक अपराध शाखा की हिरासत में भेज दिया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...