जनता कर्फ्यू में रेलवे करेगा 3700 ट्रेनें बंद, कैटरिंग भी बंद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 20 मार्च 2020

जनता कर्फ्यू में रेलवे करेगा 3700 ट्रेनें बंद, कैटरिंग भी बंद


3700-train-close-on-22
नयी दिल्ली 20 मार्च, कोरोना विषाणु की वैश्विक महामारी से बचने के लिए रेलवे ने इतिहास में पहली बार अभूतपूर्व कदम उठाते हुए रविवार 22 मार्च को चार हजार से अधिक सेवाओं को नहीं चलाने का ऐलान किया है जिनमें मेल एक्सप्रेस, सुपरफास्ट, पैसेंजर गाड़ियों के अलावा उपनगरीय सेवाएं भी शामिल हैं। रेलवे बोर्ड के एक परिपत्र के अनुसार यह कदम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा जनता कर्फ्यू के आह्वान के मद्देनज़र उठाया गया है। रेलवे बोर्ड ने यह भी साफ किया है कि दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कुछ बड़े शहरों में लोकल ट्रेनों को न्यूनतम संख्या में चलाया जाएगा, पूरी तरह बंद नहीं किया जाएगा। लेकिन कौन-कौन सी ट्रेनें रद्द होंगी यह जोनल रेलवे स्थानीय परिस्थितियों एवं आवश्यकता के आधार पर तय करेगी। रेलवे बोर्ड के परिपत्र के अनुसार 21 मार्च को रात 12 बजे से 22 मार्च की रात 10 बजे तक यानि 22 घंटे कोई भी ट्रेन की उसके आरंभिक स्टेशन से की रवानगी नहीं की जाएगी। हालांकि जो ट्रेनें शाम 7 बजे तक गंतव्य के लिए निकल चुकी होंगी, उन्हें नहीं रोका जाएगा। रेलवे के इस फैसले से 2400 पैसेंजर, 1300 मेल/एक्सप्रेस ट्रेनें प्रभावित होंगी। रेलवे के एक प्रवक्ता के मुताबिक ट्रेनों के रद्द किये जाने के संदर्भ सभी जोनल रेलवे मुख्यालयों को सूचित कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि लंबी दूरी की गाड़ियां 22 मार्च को सुबह 04.00 से रात 22.00 बजे तक रद्द रहेगीं। इसी प्रकार पैसेंजर ट्रेनों को 21 मार्च की मध्यरात्रि से ही रद्द कर दिया जायेगा जो दूसरे दिन रात 10 बजे तक प्रभावी रहेगी। गंतव्य के लिए रवाना हो चुकी ट्रेनों को आगे बढ़ने दिया जायेगा और जोनल रेलवे आवश्यकता एवं स्थिति के अनुसार गाड़ियों बीच में ही समाप्त कर सकता है। प्रवक्ता के अनुसार ट्रेनों में खानपान सेवाएं उपलब्ध कराने वाले उपक्रम भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) ने भी सभी मेल एवं एक्सप्रेस ट्रेनों में कैटरिंग सेवा नहीं देने का फैसला किया है जो तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है। रेलवे स्टेशनों पर फूड प्लाजा, रिफ्रेशमेंट रूम, जन आहार और बेस किचेन भी बंद कर दिए गए हैं। रेलवे के इस कदम से रेलवे स्टेशनों और ट्रेनों पर यात्रियों की आवाजाही में भारी कमी होने की संभावना है। अब ट्रेनों में जाने वालों को भोजन, नाश्ते, चाय पानी आदि के इंतजाम भी खुद करना होगा। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...