लॉक डाउन में दूसरे राज्य में फंसे 500 से अधिक बिहारी मजदूर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 26 मार्च 2020

लॉक डाउन में दूसरे राज्य में फंसे 500 से अधिक बिहारी मजदूर

500-bihar-labour-lock-in-lock-down
पटना (आर्यावर्त संवाददाता) कोरोना वाइरस के बढ़ते प्रकोप को लेकर देशभर में लॉकडाउन किया गया है। ऐसे में बिहार के श्रमिक देशभर के विभिन्न राज्यों में फंस गये है।मंगलवार और बुधवार को तमिलनाडु, दिल्ली और बंगाल से कुछ एक श्रमिकों श्रम विभाग के दफ्तराें में फोन आया था।जिसके बाद श्रम अधिकारियों ने पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु के लेबर कमिश्नर से बात कर उनके खाने-पीने और सुरक्षा के संबंध में आग्रह किया है।श्रम संसाधन मंत्री विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि विभाग गुरुवार को टाल फ्री नंबर जारी करेगा। जिससे कोई भी बाहर फसा व्यक्ति विभाग से मदद मांग सकेगा। श्रम संसाधन विभाग, बिहार सरकार ने दिल्ली में बिहार के श्रम पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि दिल्ली सरकार और श्रम विभाग से बात कर श्रमिकों के खाने-पीने की व्यवस्था वहीं करे ।ताकि लॉकडाउन के दौरान श्रमिकों को दिल्ली में परेशानी नहीं हो।श्रम मंत्री विजय कुमार सिन्हा के मुताबिक दिल्ली में 250 से अधिक जरूरतमंद श्रमिकों की संख्या है, जो अभी भी दिल्ली में है। बिहार में कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आनेवाले मरीजों की संख्या छह तक पहुंच गयी है बुधवार को मरीजों की आयी जांच रिपोर्टें में दो पॉजिटिव हैं।आरएमआरआइ के निदेशक डॉ पीके दास के मुताबिक, बुधवार को 90 संदिग्धों के सैंपलों की जांच रिपोर्टें आयीं। इनमें दो रिपोर्ट पॉजिटिव हैं। डॉ दास ने कहा कि अभी और 38 सैंपलों की जांच हो रही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...