कोरोना से बचने के लिए अमिताभ बच्चन ने सुनाई कविता - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 13 मार्च 2020

कोरोना से बचने के लिए अमिताभ बच्चन ने सुनाई कविता

amitabh-sing-song-for-corona
नयी दिल्ली 13 मार्च, सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ने देश में कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुये एक कविता के जरिये लोगों से सावधान रहने की अपील की है। श्री बच्चन ने गुरुवार रात को अपने टविटर हैंडल से एक वीडियो साझा किया जिसमें वह अवधी भाषा में कविता के जरिये कोरोना से एहतियात बरतने के लिये संदेश दे रहे हैं। श्री बच्चन ने कविता में कहा, “बहुतेरे इलाज बतावैं, जन जनमानस सब। केकर सुनैं केकर नाहीं कौन बाताई ई सब। क्येऊ कहेस कलौंजी पीसौ, केऊ आंवला रस। केऊ कहेस घर मां बैठओ हिलो न टस से मस। ईर कहिन औ बीर कहिन कि अइसा कुछ भी करौ ना। बिन साबुन के हाथ धोइ के, केऊ के भैया छुअव ना। हम कहा चलौ हमहू कर देत हैं जैसन बोलैं सब। आवै देव कोरोना फिरौना ठेंगवा देखाउब तब।” गौरतलब है कि कर्नाटक के कलबुर्गी में कोरोना वायरस के संक्रमित एक बुजुर्ग की मौत के बाद गुरुवार को देश में इस संक्रमण से मौत का पहला मामला सामने आया है। देश में फिलहाल कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या 73 है जबकि विश्व में इस वायरस से अबतक 4600 से अधिक लोगों की मौत हो गयी है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...