पेट्रोल, डीजल पर शुल्क बढ़ाना जनता के साथ अन्याय : कांग्रेस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 15 मार्च 2020

पेट्रोल, डीजल पर शुल्क बढ़ाना जनता के साथ अन्याय : कांग्रेस

congress-attacks-bjp-on-petrol-diesel-tax-hike
नयी दिल्ली, 14 मार्च, कांग्रेस ने पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में तीन रुपये प्रति लीटर की वृद्धि करने के सरकार के फैसले की कड़ी आलोचना करते हुये कहा है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम गिरने का लाभ देश के उपभोक्ताओं को नहीं देना जनता के साथ अन्याय है। कांग्रेस प्रवक्ता अजय माकन ने शनिवार को यहां पार्टी मुख्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार को बढ़े उत्पादन शुल्क को तुरंत वापस लेना चाहिए और पेट्रोल एवं डीजल को वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) के दायरे में लाकर इनकी कीमत 40 फीसदी तक घटानी चाहिए। उन्होंने कहा कि तेल की कीमत घटनी जरूरी है और कांग्रेस इसके लिए सरकार पर दबाव बनाएगी। उन्होंने कहा कि पार्टी जनता के साथ हो रहे इस अन्याय को लेकर संसद में सरकार से सवाल पूछेगी। संसद तथा संसद से बाहर जनता की आवाज बनकर कांग्रेस इस मुद्दे को बुलंदी के साथ उठाएगी और जब तक देश की जनता की यह मांग पूरी नहीं होती है इस मुद्दे को प्रभावी ढंग से उठाती रहेगी। सरकार के तेल से की जा रही कमाई का पैसा समाज कल्याण के कार्यों में खर्च करने संबंधी बयान पर श्री माकन ने सवाल किया कि जब लोगों का कल्याण ही करना है तो यह काम जनता को सीधे पैसे देकर भी किया जा सकता है मगर ऐसा नहीं किया जा रहा है। जो पैसे सीधे जनता की जेब में जाएगा उससे लोगों का बड़ा कल्याण होगा। समाज कल्याण का मतलब समाज के हर तबके से है और सभी लोग डीजल पेट्रोल का इस्तेमाल करते है। किसान डीजल पंपसेट चलाते हैं इसलिए यह फायदा उन्हें सीधे मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि विश्व बाजार में कच्चे तेल के दाम गिरे हैं, उसी हिसाब से देश में पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस तथा सीएनजी की कीमतें कम होनी चाहिए। सरकार को इन घटी दरों पर अनाप-शनाप लाभ कमाने की बजाए इसका सीधा फायदा देश की जनता को देना चाहिए और पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतें कम करनी चाहिए। विश्व बाजार में कच्चे तेल की कीमत आज 35 डॉलर प्रति बैरल से नीचे आ गयीं हैं लेकिन हमारी सरकार उसका फायदा जनता को देने की बजाय खुद मुनाफा कमा रही है औऱ लोगों की जेब पर बोझ डाल रही है। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि वर्ष 2004 के जून-जुलाई में अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल का मूल्य 35 डॉलर के करीब था तो हमारे यहां डीजल का 22 रुपए 74 पैसा प्रति लीटर तथा पेट्रोल 35 रुपए 71 पैसे लीटर था। एलपीजी का सिलेंडर 281 रुपए 60 पैसे था लेकिन आज उससे लगभग तीन गुना ज्यादा दाम पर डीजल मिल रहा है। डीजल 62 रुपए 81 पैसे और पेट्रोल 70 रुपए प्रति लीटर से ज्यादा पर मिल रहा है। एलपीजी सिलेंडर 858 रुपए का है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...