कोरोना खौफ : वाट्सएप पर इस्तीफा भेज कर डॉक्टर हुए फरार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 23 मार्च 2020

कोरोना खौफ : वाट्सएप पर इस्तीफा भेज कर डॉक्टर हुए फरार

  • कोरोना के खौफ से भागे दो डॉक्टर, सिविल सर्जन को वाट्सएप पर इस्तीफा भेज कर हुए फरार

कोरोना वायरस का खौफ के कारण आम लोग के साथ डॉक्टर भी सहमे हुए हैं. बता दें कि चाईबासा सदर अस्पताल के दो डॉक्टरों ने सिविल सर्जन को वाट्सएप पर इस्तीफा भेज कर फरार हो गए हैं.
doctor-resign-on-whatsapp-and-run-away-jharkhand
चाईबासा (आर्यावर्त संवाददाता) : कोरोना वायरस के खौफ से दुनिया के सभी लोग कई तरह के एहतियात बरत रहे हैं. कोई अपने-अपने घरों में दुबके हुए हैं. वहीं पश्चिम सिंहभूम जिला स्थित सदर अस्पताल के दो डॉक्टर कोरोना वायरस से देश दुनिया मे लोगों की हो रही मौत और वायरस के खौफ से सदर अस्पताल सिविल सर्जन को वाट्सएप पर अपना इस्तीफा सौंप कर फरार हो गए हैं. कोरोना वायरस का खौफ इस तरह बढ़ गया है कि आम लोग के साथ डॉक्टर भी सहमे हुए हैं और अपनी जिम्मेदारियों से भागने लगे हैं. चाईबासा सदर अस्पताल में अनुबंध के आधार पर डॉक्टर आलोक तिर्की और डॉक्टर सौम्या तिर्की को बहाल किया गया था. सिविल सर्जन मंजू दुबे ने बताया कि डॉक्टर आलोक तिर्की और डॉक्टर सौम्या तिर्की को चाईबासा सदर अस्पताल में कोरोना के जांच केंद्र में ड्यूटी दी गई थी और दोनों डॉक्टरों ने बिना किसी को कारण बताए हुए व्हाट्सएप के जरिए अपना इस्तीफा भेज दिया है. इन दोनों डॉक्टरों गायब हो जाने के कारण बड़े शहर से चाईबासा पहुंचकर कोरोना वायरस की जांच करवाने वालों की भीड़ बढ़ने लगी है. वहीं जिले मे विभिन्न राज्यों से आए लोग भी कोरोना के भय से सदर अस्पताल चाईबासा पहुंच कर अपनी जांच करवाने को कतार में लगे हुए हैं लेकिन अस्पताल में कोरोना के जांच के लिए बनाए गए कक्ष के बाहर घंटो बैठने के बाद कोई डॉक्टर मरीजों को पूछने तक नहीं आया. जिस कारण बिना जांच करवाए मरीज अपने घर वापस लौट गए. इस संबंध में सदर अस्पताल के सिविल सर्जन मंजू दुबे ने बताया कि व्हाट्सएप के जरिए दोनों डॉक्टरों का इस्तीफा भेजा गया है जो कभी मंजूर नहीं किया जा सकता है. जब तक उनका लिखित इस्तीफा नहीं दिया जाता है और इस्तीफा देने से 1 माह पूर्व उन्हें लिखित रूप में देना चाहिए था इसलिए उनका इस्तीफा फिलहाल नामंजूर किया जाएगा. आपातकाल में इस्तीफा और अपने कर्तव्य से भागने पर उन पर कार्यवाही भी की जा सकती है. उन्होंने बताया कि डॉ आलोक तिर्की के इस्तीफा दिए जाने के बाद लोगों ने एक और डॉक्टर को कोरोना वायरस जांच केंद्र में नियुक्त किया था लेकिन अभी जानकारी मिली कि दूसरे डॉक्टर भी उस जांच केंद्र से चले गए हैं. डॉक्टर तापस महत्व कोरोना वायरस जांच केंद्र में अस्थाई तौर पर बैठेंगे और मरीजों की जांच भी करेंगे.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...