रोजगार के अवसर निरंतर बढ़ रहे हैं : गंगवार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 17 मार्च 2020

रोजगार के अवसर निरंतर बढ़ रहे हैं : गंगवार

employment-increasing-gangwar
नयी दिल्ली, 16 मार्च, श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार ने आज लोकसभा में कहा कि देश में रोजगार के अवसर निरंतर बढ़ रहे हैं तथा सरकार ने ऐसी योजनायें चलाई हैं जिनसे लोग स्वयं रोजगार देने में सक्षम बने हैं हालाँकि उन्होंने भवन निर्माण क्षेत्र में रोजगार में गिरावट की बात स्वीकार की। श्री गंगवार ने लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान एक पूरक प्रश्न के उत्तर में कहा,“ सरकार बेरोजगारी दूर करने के लिए पूरी तरह सक्रिय है। सरकार ने ऐसे कदम उठायें हैं जिससे लोगों में विश्वास बढ़ा है। हमने ऐसी योजनायें चलाई हैं जिससे लोगों को स्वयं रोजगार देने में सक्षम बना सकें। रोजगार के अवसर निरंतर बढ़ रहे हैं। ” उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था के आठ प्रमुख क्षेत्रों विनिर्माण, निर्माण, व्यापार, परिवहन, शिक्षा, स्वास्थ्य, आवास और रेस्त्रां तथा आईटी/बीपीओ में अप्रैल 2016 से अक्टूबर 2017 तक 6.16 लाख कामगारों को रोजगार मिला है। उन्होंने स्वीकार किया कि भवन निर्माण क्षेत्र में रोजगार में कमी आयी है। सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 के बजट में भी रोजगार बढ़ाने के उपाय किये हैं। गणित में स्नातकोत्तर युवती को स्थानीय निकाय में सफाईकर्मी की नौकरी और इंजीनियरिंग तथा प्रबंधन की डिग्री रखने वाले एक युवक को रेलवे में खलासी की नौकरी मिलने का जिक्र करते हुये द्रविड़ मुनेत्र कषगम् के ए. राजा द्वारा पूछे गये एक अन्य पूरक प्रश्न के उत्तर में श्री गंगवार ने कहा,“ शिक्षा प्राप्त करने के बाद लोग वह नौकरी चाहते हैं जो उनके योग्य नहीं है। ” उन्होंने पूछा कि क्या विपक्ष चाहता है कि किसी भर्ती के लिए अधिक योग्य लोगों को आवेदन करने से रोक दिया जाये। मंत्री ने कहा कि ज्यादा योग्य आवेदक आवेदन करते समय अपनी योग्यता छिपाकर आवेदन करते हैं।  

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...