जनता कर्फ्यू कोरोना वायरस के खिलाफ लंबी लड़ाई की शुरुआत : मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 22 मार्च 2020

जनता कर्फ्यू कोरोना वायरस के खिलाफ लंबी लड़ाई की शुरुआत : मोदी

janta-curfew-starts-for-long-war-modi
नयी दिल्ली, 22 मार्च, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को 14 घंटे के ‘जनता कर्फ्यू’ को कोरोना वायरस के खिलाफ लंबी लड़ाई की शुरुआत बताया और कहा कि देशवासियों ने साबित कर दिया है कि एकजुट होकर वे किसी भी चुनौती का सामना कर सकते हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘आज जनता कर्फ्यू रात नौ बजे खत्म हो सकता है लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि हम जश्न मनाएं।’’  उन्होंने कहा कि खुद से लगाए गए कर्फ्यू को ‘‘सफलता नहीं माना जाना चाहिए’’ क्योंकि यह ‘‘लंबी लड़ाई की शुरुआत है।’’  उन्होंने कहा, ‘‘जनता कर्फ्यू लंबी लड़ाई की शुरुआत है। आज देशवासियों ने कहा है कि हम सक्षम हैं और एक बार जब हम निर्णय कर लेते हैं तो हम किसी भी चुनौती का मुकाबला कर सकते हैं।’’  मोदी ने जनता कर्फ्यू को सफल बनाने के लिये देशवासियों का शुक्रिया अदा करते हुए ट्वीट किया, ‘‘ ये धन्यवाद का नाद है, लेकिन साथ ही एक लंबी लड़ाई में विजय की शुरुआत का भी नाद है। इसी संकल्प के साथ, इसी संयम के साथ एक लंबी लड़ाई के लिए अपने आप को बंधनों (सोशल डिस्टेंसिंग) में बांध लें।’’ उन्होंने लोगों से अपील की, ‘‘केंद्र सरकार और राज्य सरकारों द्वारा जारी किए जा रहे निर्देशों का जरूर पालन करें। जिन जिलों और राज्यों में लॉकडाउन की घोषणा हुई है, वहां घरों से बिल्कुल बाहर न निकलें। इसके अलावा जब तक बहुत जरूरी न हो, तब तक घरों से बाहर न निकलें।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई का नेतृत्व करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को देश ने एक होकर धन्यवाद दिया। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री ने बृहस्पतिवार को राष्ट्र के नाम संदेश में लोगों से घर-घर दूध,अखबार, राशन पहुंचाने वालों, पुलिसकर्मी, स्‍वास्‍थ्‍य कर्मी और मीडियाकर्मियों के प्रति आभार जताने की अपील की थी। उन्‍होंने ऐसे लोगों का आभार जताने के लिए 22 मार्च की शाम पांच बजे घर की खिड़की, बालकनी या गेट पर आकर ताली, घंटा-थाली बजाने की अपील की थी।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...