बिहार : भगवान बुद्ध मन्दिर के गुम्बद की सफाई कार्य स्थगित। - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 16 मार्च 2020

बिहार : भगवान बुद्ध मन्दिर के गुम्बद की सफाई कार्य स्थगित।

no-cleaning-in-mahabodhi-temple-gaya
पटना (आर्यावर्त संवाददाता) भगवान बुद्ध मन्दिर गया से सूत्रों द्वारा प्राप्त सूचना के आलोक में,कोरोना वायरस को मद्देनजर रखते हुए विश्व प्रसिध्द या यूँ भी कहा जा सकता है कि विश्व धरोहर की सूची में शामिल गया स्थित महाबोधि भगवान बुद्ध मन्दिर में लगे सोने के गुम्बद की सफाई पर रोक लगा दी गई है।आपको बताते चलें कि इस गुम्बद की सफाई के लिए विदेश थाईलैंड से कारीगर आते हैं,जो कि आ भी चुके थे।।किन्तु ये कोरोना वायरस को लेकर सफाई का कार्य स्थगित कर उन्हें वापस भेजा जा रहाहै।इतना ही नहीं भगवान बुद्ध पर चढनेवाला चीवर पर भी फिलहाल रोक लगा दी गई है।जानकारी के लिए ये भी बता दूँ की बौद्ध सन्यासियों मेंऊपर के वस्त्र को चिवर और नीचे के वस्त्रको निवास कहते हैं।बौद्ध गया के मुख्य पुजारी भन्ते चालिन्दा का कहना है कि मन्दिर के गुम्बद की सफाई का कार्य करने का समय पूर्व से ही तय था।इसके लिए थाईलैंड से 20 कारीगरों का जत्था भी बौद्धगया पहुँच चुका है।किन्तु कोरोना वायरस की वजह से इस कार्य को कुछ दिनों के लिए स्थगित कर दिया गया है,और कारीगरों को वापस थायलैंड भेजाजा रहा है।

महाबोद्धि मन्दिर का गुम्बद 290 किलोग्राम का है।
गौरतलब है कि थाईलैंड के श्रद्धालुओं ने 2013 में महाबोधि मंदिर पर सोने का गुंबद लगवाया था।इसमें 290 किलो सोना लगाया गया है।पत्थरों से बने मन्दिर के गुम्बद को सोने के प्लेट से लपेटा गया है जिससे मंदिर की सुंदरता चार चाँद लग गयी है।मन्दिर के गुम्बद की सफाई हर तीन साल पर करायी जाती है,इस साल इसी महीने में सफाई होनी तय थी लेकिन उसे मौजूदा हालात को देखते हुए कुछ दिनों के लिए टाल दिया गया है।

भगवान बुद्ध पर चीवर चढ़ाने पर भी लगा रोक
बोधगया में भगवान बुद्ध की प्रतिमा पर वस्त्र चढ़ाने की भी परंपरा रही है।इसे चीवर कहा जाता है।मंदिर के मुख्य पुजारी भंते चालिंदा ने कहा कि कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए चीवर चढ़ाने पर भी रोक लगा दिया गया है।

मन्दिर में एक साथ दो से अधिक लोगों के प्रवेश पर भी लगा प्रतिबंध
महाबोधि मन्दिर ट्रस्ट ने सरकार और गया जिला प्रशासन की सलाह को मानते हुए महाबोधि मन्दिर में एक साथ दो से ज्यादा लोगों के प्रवेश पर भी रोक लगा दिया है।मन्दिर के मुख्य पुजारी के मुताबिक सरकार के आदेशों का मन्दिर परिसर में पूरी तरह पालन किया जा रहा है।फिलहाल सभी तरह की पाबंदियाँ 31 मार्च तक लगायी गयी हैं।31 मार्च के बाद सरकार के निर्देशानुसार आगे की कार्यवाही पर ध्यान दिया जायेगा।

गया हवाई अड्डे पर सरकार की खास नजर
हालांकि कोरोना वायरस के खतरे के बाद गया हवाई अड्डे पर विदेशी पर्यटकों का आना लगभग बंद हो चुका है. पिछले कई दिनों से हवाई मार्ग से एक भी पर्यटक नहीं पहुंचा है. पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया कि मंदिर में किसी विदेशी या देशी श्रद्धालु के आने पर रोक नहीं लगायी गयी है लेकिन हवाई मार्ग से आने जाने वालों की स्क्रिनिंग की पूरी व्यवस्था की गयी है.

मंदिर के पास भी हो रही जांच
बोधगया के महाबोधि मंदिर के पास भी डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों की टीम को तैनात कर दिया गया है।यहाँ हर विदेशी पर्यटक की जाँच की जा रही है।उनसे पूरी जानकारी भी ली जा रही है कि वे कहाँ से आये हैं, बोधगया में कहाँ ठहरे हैं।क्या वे पहले सर्दी-खांसी या बुखार से पीड़ित भी रहे हैं आदि पूछताछ के बाद पूर्ण रुप से संतुष्ट होने पर ही उन्हें जाने की इजाजत मिलती है अन्यथा उन्हें सरकार द्वारा सुनियोजित स्वास्थ्य केंद्र पर जाँच के लिए भेज दिया जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...