जनता कर्फ्यू से पहले बिहार में पसरा सन्नाटा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 22 मार्च 2020

जनता कर्फ्यू से पहले बिहार में पसरा सन्नाटा

patna-silent-before-janta-curfew
पटना 21 मार्च, कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण के मद्देनजर ‘जनता कर्फ्यू’ से पूर्व राजधानी पटना समेत बिहार के अधिकांश शहरों में आज सन्नाटा पसरा रहा। राजधानी के भीड़-भाड़ वाले ऐतिहासिक गांधी मैदान, पटना जंक्शन, पाटलिपुत्र जंक्शन, राजेंद्रनगर टर्मिनल, बस अड्डा, बुद्ध स्मृति पार्क, गोलघर, गंगा रीवर फ्रंट, बेली रोड, बोरिंग रोड चौराहा और पटना की हृदयस्थली डाकबंगला चौराहा पर जहां आम दिनों में मेले जैसा माहौल रहा करता था लेकिन लोगों के घर से बाहर नहीं निकलने से सन्नाटा पसरा रहा। इन इलाकों में आम दिनों में वाहन तो रेंगते नजर आते ही थे, पैदल चलना भी दुश्वार हुआ करता था। वहीं, पटना विश्वविद्यालय के छात्रों के अपने-अपने घर जाने से विश्वविद्यालय परिसर के साथ ही छात्रावासों, बैंकिंग, मेडिकल, इंजीनियरिंग एवं सिविल सेवा प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों का गढ़ कहे जाने वाले महेंद्रू, भिखना पहाड़ी, खजांची रोड, अशोक राजपथ और नया टोला में अधिकांश निजी छात्रावास बंद किए जाने से इन इलाकोें में कहीं भी चहल-पहल नहीं दिखी। आम दिनों में इन इलाकों के चौक-चौराहों पर छात्र-छात्राओं के जमघट के कारण शाम ढलने के बाद पैदला चलना भी मुश्किल हो जाता था। अब इक्के-दुक्के छात्र-छात्रा ही नजर आ रहे हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...