जमशेदपुर : साहसिक पर्यटन महोत्सव' का समापन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 3 मार्च 2020

जमशेदपुर : साहसिक पर्यटन महोत्सव' का समापन

  • वरीय पुलिस अधीक्षक तथा जिले के अन्य वरीय पदाधिकारी कार्यक्रम में हुए शामिल
  • बच्चों ने साझा किया अनुभव, सरकार तथा जिला प्रशासन को कहा धन्यवाद*
sahasik-paryatan-mahotsav-jamshedpur
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता) जमशेदपुर स्थित डिमना लेक परिसर में आयोजित तीन दिवसीय 'साहसिक पर्यटन महोत्सव' का आज समापन हो गया। समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में वरीय पुलिस अधीक्षक श्री अनूप बिरथरे शामिल हुए। इस अवसर पर विभिन्न साहसिक खेल गतिविधियों में प्रतिभाग करने वाले स्कूली बच्चों ने अपने अनुभव साझा किए।  वरीय पुलिस अधीक्षक श्री अनूप बिरथरे ने कहा कि साहसिक खेल गतिविधियों का अनुभव लेने के लिए लोग बाहर जाते हैं ऐसे में यहां के लोगों के लिए यह आयोजन अच्छा अनुभव रहा होगा। बच्चों ने तीन दिन के कैम्प में बहुत कुछ नया सीखा होगा, नए दोस्त बनाये होंगे तथा पर्यावरण से जुड़ी गतिविधियों में भाग लिया जो निश्चित ही उनके व्यक्तित्व को और सबल करेगा। उन्होने कहा कि इस तरह के आयोजन से दुनिया के प्रति आपकी जानकारी बढ़ती है, जीवन का विकास होता है। बच्चों में डर दूर होता है, हिम्मत तथा आत्मविश्वास बढ़ता है। वरीय आरक्षी अधीक्षक ने 'साहसिक खेल महोत्सव' के आयोजन में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले जिले के प्रशासनिक एवं पुलिस पदाधिकारियों, सुरक्षा में लगे जवानों को बधाई दिया। उन्होने कहा कि जिला प्रशासन का प्रयास होगा कि हस साल 'साहसिक खेल महोत्सव' का आयोजन हो। 

14 साल में जो नहीं सीखा उसे तीन दिन में सीख लिया... 
बहरागोड़ा के छात्र आकाश दास ने अपना अनुभव साझा करते हुए कहा कि साहसिक खेल के गतिविधियों में भाग लेकर वो सब कुछ सीखने को मिला जो अब तक नहीं सीखा था। आकाश ने कहा कि 14 साल में जो नहीं देखा, सीखा उसे तीन दिन में सीख लिया। जमशेदपुर की छात्रा सुलोता भूमिज ने बताया कि वॉटर स्पोर्ट्स से जहां पानी का डर खत्म हुआ वहीं पारासेलिंग से आकाश में उड़ने का सपना पूरा हुआ। जमशेदपुर की ममता महतो, डुमरिया के परमजीत सिंह ने भी अपने तीन दिन के अनुभव साझा किए। साहसिक खेल गतिविधियों में सम्मिलित होकर सभी स्कूली बच्चे काफी प्रसन्न दिखे। उन्होने कहा कि यह एक अविस्मरणीय अनुभव था सभी के लिए। जिले के सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों से आए बच्चों ने इस तरह के आयोजन हर साल करने की बात कही।  तीन दिनों तक चले 'साहसिक पर्यटन महोत्सव' में पूर्वाह्न 8 बजे से संध्या 5 बजे तक स्कूली बच्चों तथा जिलेवासियों ने Banana Ride, Wake Boarding/Ringo, Water Roller, Kayaking, Crossing/Zip Line, Climbing, Rappling, Rope Course 4 Types, Trekking(Dalma Hill Trek), Parasailing, Paramotor आदि का आनंद लिया।  समापन समारोह में निदेशक डीआरडीए श्रीमति अनिता सहाय, निदेशक एनईपी श्रीमति ज्योत्सना सिंह, जिला योजना पदाधिकारी श्री अजय कुमार, जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी श्री कानू राम नाग, जिला शिक्षा पदाधिकारी शिवेन्द्र कुमार, जिला शिक्षा अधीक्षक विनित कुमार, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी श्री रोहित कुमार तथा अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...