शिवसेना ने जम्मू-कश्मीर पर किया सरकार का समर्थन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 19 मार्च 2020

शिवसेना ने जम्मू-कश्मीर पर किया सरकार का समर्थन

shivsena-support-government-on-jandk
नयी दिल्ली 18 मार्च, केंद्र में सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से नाता तोड़कर कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस के साथ महाराष्ट्र में सरकार बनाने वाली शिवसेना ने बुधवार को लोकसभा में जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर केंद्र सरकार का समर्थन किया और स्पष्ट किया वह इस मामले में आज भी अपने पुराने रुख पर कायम है। शिवसेना के अरविंद सावंत ने सदन में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख से संबंधित वित्त वर्ष 2019-20 की अनुपूरक अनुदान माँगों और वित्त वर्ष 2020-21 की अनुदान माँगों पर चर्चा के दौरान कांग्रेस को जहाँ जमकर आड़े हाथों लिया, वहीं कुछ बातों को लेकर भारतीय जनता पार्टी की भी आलोचना की। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर संबंधी अनुच्छेद 370 को हटाना उनकी पार्टी के संस्थापक बाला साहब ठाकरे का सपना था। मोदी सरकार के इस कदम से सबसे ज्यादा खुशी शिवसेना को हुई। आज परिस्थितिवश जम्मू-कश्मीर का बजट वहाँ की विधानसभा की बजाय संसद में पेश किया जा रहा है, लेकिन यह कोई अभिमान की बात नहीं है। कांग्रेस की सीटों की तरफ इशारा करते हुये उन्होंने कहा कि जब जम्मू-कश्मीर में तिरंगा जलाया जाता है तो इधर कोई दर्द नहीं व्यक्त करता, 40 हजार लोग मरे लेकिन किसी ने दु:ख दर्द व्यक्त नहीं किया। जब बच्चे पुलिस पर पथराव करते हैं तो कोई दु:ख व्यक्त नहीं करता। एक आतंकवादी मारा जाता है तो उसे ‘हीरो’ बना दिया जाता है और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में उसके नाम के नारे लगते हैं। उन्होंने कहा “मैं चाहता हूँ कि वहाँ (कश्मीर में) जब तिरंगा लहराया जाता है तो हमारे कांग्रेस के साथी साथ में खड़े रहें। भारत माता की जय बोलने के लिए भी आपको उनकी (सरकार की) अनुमति चाहिये क्या?” शिवसेना सदस्य ने स्पष्ट किया कि पार्टी राज्य में कांग्रेस के साथ है, लेकिन उसने अपने सिद्धांतों को नहीं छोड़ा है।  

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...