एम्स में जांच पूरी होने के बाद नागरिकों को समनपुरा स्थित बेलाल मस्जिद में भेजा गया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 25 मार्च 2020

एम्स में जांच पूरी होने के बाद नागरिकों को समनपुरा स्थित बेलाल मस्जिद में भेजा गया

पटना के दीघा थानान्तर्गत कुर्जी के गेट नंबर 74के पास गंगा किनारे मस्जिद है। रविवार को बिहार सरकार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लाॅकडाउन घोषित किया। जब मोहल्ले के लोगों को इसकी सूचना मिली तो उनलोगों ने सुबह-सुबह हंगामा करने लगे। हंगामे की सूचना पर दीघा थाना की पुलिस आई और सभी विदेशी नागरिकों को अपने साथ ले गई...
test-in-aiims-sent-belal-maszid
पटना,24 मार्च। दीघा स्थित कुर्जी गेट नंबर 74 स्थित मस्जिद में रह रहे तजाकिस्तान के 10 नागरिकों को पुलिस ने एम्स भेजा। दरअसल, स्थानीय लोगों ने पुलिस को इस मस्जिद में विदेशियों के होने की खबर दी थी। कोरोना वायरस जैसी महामारी और इलाके में विदेशियों के रुकने को लेकर लोग खौफजदा थे। इधर, मोहल्ले वालों से विदेशियों की खबर मिलते ही पुलिस आनन-फानन में पहुंची और सभी को जांच के लिये एम्स भेज दिया। एम्स में जांच पूरी होने के बाद नागरिकों को समनपुरा स्थित बेलाल मस्जिद में भेजा गया। जांच में सभी निगेटिव निकले।अप्रैल के पहले हफ्ते में ये सभी भारत से वापस जायेंगे। धर्म प्रचार के लिये ये सभी चार मार्च को ही पटना में आये थे। अलग-अलग जगहों पर रहने के बाद ये कुर्जी स्थित मस्जिद में पहुंचे। चार माह पहले पहुंचे थे भारत पुलिस ने इन सभी का पासपोर्ट व वीजा चेक किया। अब तक की तफ्तीश में यह बात सामने आयी है कि चार महीने पहले ये सभी भारत आये थे। इसके बाद मुंबई और दिल्ली में ठहरने के बाद कुछ दिनों पहले सभी पटना में पहुंचे। फुलवारीशरीफ सहित कई जगहों पर ये विदेशी लोग गये और धर्म प्रचार किया। तबलीगी जमायत नाम की संस्था के द्वारा सभी भारत आये थे। पटना में उसका मुख्यालय अशोक राजपथ पर है। यहीं से सभी को अलग-अलग जगहों में जाकर धर्म प्रचार करने को कहा जाता है। मारुती वैन और टेंपो से भेजे गये एम्स कोई सुविधा नहीं होने के कारण सभी विदेशियों को मारुती वैन और टेंपो से एम्स भेजा गया। इन सभी में किसी ने भी मास्क नहीं पहना था। लोगों का कहना है कि जब कोरोना जैसी भयानक महामारी फैली हुई है तब इन विदेशियों को आना ही नहीं चाहिये था।

भयभीत हैं स्थानीय लोग
कोरोना जैसे खतरनाक वायरस के फैलने को लेकर और विदशियों के इलाके में होने से स्थानीय लोग खौफजदा थे। कुर्जी मजिस्द में 10 विदेशी नागरिकों को छुपाकर रखने का मामला तुल पकड़ने लगा और स्थानीय लोग आक्रोशित हो उठे। कुछ दबंग किस्म के और नेता टाइप के लोग हिंदू-मुस्लिम खेल खेलने लगे। धन्यवाद हो दीघा थाना पुलिस को जिसने फिल्मी स्टाइल में विलम्ब से न आकर तुरंत आकर मामला सलटा देने में कामयाब हो गयी। मौके पर आकर कुर्जी मस्जिद में छिपाकर रखने वाले विदेशियों को कब्जा में ले लिया। पुलिस ने मस्जिद से 10 विदेशी धार्मिक उपदेशकों सहित 12 लोगों को हिरासत में लेकर कोरोना वायरस संबंधी जांच के लिए सोमवार सुबह एम्स भेजा। दीघा थाना प्रभारी मनोज कुमार ने बताया कि जिन लोगों को हिरासत में लिया गया है, उनमें तजाकिस्तान से आए 10 धार्मिक उपदेशक और उत्तर प्रदेश निवासी दो रहबर शामिल हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...