देश के 325 जिलों में कोरोना का एक भी मामला नहीं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 17 अप्रैल 2020

देश के 325 जिलों में कोरोना का एक भी मामला नहीं

325-district-have-no-corona-case
नयी दिल्ली,16 अप्रैल, केन्द्र सरकार ने कहा है कि देश के विभिन्न राज्यों में कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ से निपटने की जो रणनीति अपनाई जा रही है उसके नतीजे सामने आ रहे हैं और देश के 325 जिलों में अभी तक कोरोना वायरस के संक्रमण का एक भी मामला सामने नहीं आया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता लव अग्रवाल ने गुरुवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में बताया कि केन्द्र सरकार कोरोना वायरस के प्रकोप से निपटने के लिए शुरू से ही सतर्क रही है और इस बीमारी को लेकर उसका नजरिया शुरू से ही ‘प्रिएम्पिटव और एडवांस्ड एक्शन’ का रहा है और यही कारण है कि इस बीमारी पर काफी हद तक सोशल डिस्टेंसिंग के जरिए अंकुश लगाने में कामयाब रहा गया है। उन्होंने बताया कि देश में कोरोना वायरस से पीड़ितों की टेस्टिंग को लेकर जो गाइडलाइन जारी की गई हैं, उन्हीं के आधार पर लोगों का परीक्षण किया जा रहा है और जो भी इस दायरे में आएगा, उसका पूरा परीक्षण किया जाएगा और जो भी मरीज ‘मेडिकल प्रोटोकॉल’ की शर्तों को पूरा करता हैं उसका पूरा परीक्षण किया जाता है। श्री अग्रवाल ने बताया कि कोरोना से निपटने खासकर ‘कलस्टर आउटब्रेक’ और ‘कंटेनमेंट स्ट्रेटिजी’ के लिए स्वास्थ्य मंत्री डाॅ हर्षवर्धन और राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने स्वास्थ्य विशेषज्ञों और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अधिकारियों के साथ एक वीडियो कांफ्रेंसिंग करते हुए एक ‘माइक्रोप्लान’ बनाया है। इस काम में केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय तथा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की राष्ट्रीय पोलियो टीम मिल कर काम करेगी। उन्होंने कहा कि इस काम में स्टेट रैपिड रेस्पांस टीम और डब्ल्यूएचओ की राष्ट्रीय पोलियो टीम कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में एक साथ मिलकर काम करेगी। राष्ट्रीय पोलियो सर्विलांस प्रोजेक्ट (डब्ल्यूएचओ-एनपीएसपी) ने पोलियो को खत्म करने के लिए अहम भूमिका निभाई थी और अब उस अनुभव, जानकारी और प्रतिभा को फिर से उसी क्षमता और अनुशासन से इस्तेमाल किया जाएगा। श्री अग्रवाल ने बताया कि देश में अभी तक कोरोना वायरस के कुल 12380 मामले सामने आए हैं और इनमें से 76 विदेशी हैं। अब तक 414 लोगों की कोरोना संक्रमण से मौत हो चुकी है और इनमें से कल 37 लोगों की मौत हुई थी। देश में कोरोना के कुल 1489 मरीज ठीक हो गये हैं और कल एक ही दिन में 183 मरीज ठीक हुए थे। कोरोना वायरस के प्रकोप से देश में मरने वालों का प्रतिशत आंकड़ा 3़ 3 प्रतिशत है जबकि इससे ठीक होने वालों का आंकड़ा 12़ 02 प्रतिशत है।

कोई टिप्पणी नहीं: