ओलंपिक टलने से तैयारी का अधिक समय मिलेगा : इरफान - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2020

ओलंपिक टलने से तैयारी का अधिक समय मिलेगा : इरफान

get-time-for-better-prepration-irfan
मुंबई, 10 अप्रैल, पैदल चाल के एथलीट के.टी इरफान को कोविड-19 महामारी के कारण तोक्यो ओलंपिक खेलों के टलने से कोई शिकायत नहीं है क्योंकि इससे उन्हें तैयारी करने का अधिक समय मिल जाएगा। तीस साल के इरफान ने पिछले साल एशियाई पैदल चाल चैम्पियनशिप में 20 किलोमीटर स्पर्धा में चौथा स्थान हासिल करने के बाद दूसरी बार ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया था। इरफान ने कहा, ‘‘ यह अच्छा है कि यह (तोक्यो खेलों) स्थगित हो गये। हम इसके मुताबिक अभ्यास कर सकते हैं और पदक जीतने के करीब पहुंच सकते है। पैदल चाल एक तकनीकी से जुड़ा है इसलिए मुझे इस पर अधिक ध्यान केंद्रित करने का समय मिलेगा। इससे हमें अगले साल बेहतर प्रदर्शन करने में मदद मिलेगी।’’  ओलंपिक में लक्ष्य के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘मेरा मुख्य उद्देश्य पदक जीतना है। रियो ओलंपिक के समय मैं चोटिल हो गया था। लंदन में भी मेरे पास पदक जीतने का मौका था। इरफान ने 2012 लंदन ओलंपिक में 1 घंटा 20 मिनट 21 सेकंड के राष्ट्रीय रिकॉर्ड समय के साथ 10 वां स्थान हासिल किया। वह 2016 ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने में असफल रहे थे। इरफान ने कहा, ‘‘ अगर मैं ज्यादा मेहनत करता हूं तो पदक मिलने की संभावना है। मैंने मानसिक रूप से खुद को तैयार किया है और पदक जीतने का लक्ष्य बनाया है।’’ कोविड-19 महामारी के कारण भारत में 21 दिन का राष्ट्रव्यापी बंद है। इस बीमारी की चपेट में आने से दुनिया भर में 90,000 से अधिक लोग मारे गए हैं जिसमें भारत में मृतकों की संख्या 199 हैं। राष्ट्रव्यापी बंद के कारण इरफान बेंगलुरु के भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) केन्द्र के अपने छात्रावास में तक सीमित है।  केरल के इस खिलाड़ी ने कहा, ‘‘ इस केन्द्र के परिसर के बाहर अभ्यास करने के लिए अच्छी जगह है। राष्ट्रव्यापी बंदी के कारण हम परिसर से बाहर नहीं जा सकतें। उन्होंने कहा, ‘‘ हमें निर्देश दिया गया है कि समूह में अभ्यान ना करे, अकेले अभ्यास करे। मैं घर के अंदर रस्सी कूद से अभ्यास करने के अलावा कभी कभी परिसर के अंदर ही पैदल चाल का अभ्यास करता हूं।’’

कोई टिप्पणी नहीं: