देश के 170 ज़िले को हॉटस्पॉट ज़ोन में रखा गया है - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 15 अप्रैल 2020

देश के 170 ज़िले को हॉटस्पॉट ज़ोन में रखा गया है

india-distribute-170-hotspot
नई दिल्ली (आर्यावर्त संवाददाता)  कोरोना को लेकर अपने नियमित प्रेस वार्ता में स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने प्रेस वार्ता कर बताया कि भारत में इस बीमारी से अब तक 11,439 लोग संक्रमित हो चुके हैं। तथा 1305 लोग इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं वहीं 377 लोगों की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश के सभी ज़िलों को तीन कैटेगरी में रखा गया है- हॉटस्पॉट, नॉन हॉटस्पॉट और ग्रीन ज़ोन। तथा देश के 170 ज़िले को हॉटस्पॉट ज़ोन में रखा गया है यानी इन इलाकों में 20 अप्रैल के बाद भी कोई छूट नहीं मिलेगी।स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी कहा है कि देश में कम्यूनिटी ट्रांसमिशन अब तक नहीं हुआ है। तथा ‘हाउस टू हाउस सर्वे’ के जरिए प्रोटोकॉल के हिसाब से एक्शन लेंगे। जितनी भी पीपीई मिली हैं केस लोड के हिसाब से राज्यों को दी जा रहीं हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने आगे कहा कि जहां हॉटस्पॉट नहीं है वहां भी कांटेक्ट ट्रेसिंग, निगरानी की जरुरत है। गैर संक्रमित जिले आगे भी संक्रमण से मुक्त रहें इस पर काम करना है। लव अग्रवाल ने कहा कि सभी जिलों को बताया गया है कि एक भी जगह की विफलता पूरे देश की विफलता होगी। इसलिए इसपर विशेष ध्यान देना है। प्रेसवार्ता में गृह मंत्रालय ने कहा कि लॉकडाउन पर आज नए दिशा निर्देश जारी किए गए हैं, जो भी लॉकडाउन की शर्तें हैं उनका कड़ाई से अनुपालन करना है। गृह मंत्रालय ने कहा कि जिन गतिविधियों को परमिट किया गया है उस विषय के बारे में गाइडलाइन के जरिए जानकारी दी गई है। गृह मंत्रालय ने आगे कहा कि ग्रामीण विकास और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन देने पर जोर दिया जाएगा। तथा मनरेगा के तहत नौकरी के अवसर उपलब्ध होंगे, सिंचाई और जल संरक्षण के कार्य को मनरेगा के तहत प्राथमिकता दी जाएगी। आवश्यक सामग्री की सप्लाई चेन जारी रहेगी, स्वास्थ्य व्यवस्था का पूरा इको-सिस्टम पूरी तरह कार्यरत है।

कोई टिप्पणी नहीं: