कोरोना संकट की चुनौतीपूर्ण घड़ी में मालदीव से साथ खड़ा रहेगा भारत : मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 20 अप्रैल 2020

कोरोना संकट की चुनौतीपूर्ण घड़ी में मालदीव से साथ खड़ा रहेगा भारत : मोदी

india-stand-with-maldives-modi
नयी दिल्ली, 20 अप्रैल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह को भरोसा दिलाया कि कोरोना संकट की इस चुनौतीपूर्ण घड़ी में भारत स्वास्थ्य और आर्थिक चुनौतियों से निपटने में उनके देश का पूरा साथ देगा। मोदी ने सोमवार सुबह सोलिह से बात कर आर्थिक और स्वास्थ्य क्षेत्र के लिये उत्पन्न चुनौतियों पर विचार-विमर्श किया। प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘भारत और मालदीव के बीच विशिष्ट आपसी संबंधों ने दोनों देशों के साझा शत्रु (कोविड-19) से एक साथ लड़ने के हमारे संकल्प को मजबूती प्रदान की है। ’’ प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत, इस चुनौतीपूर्ण समय में अपने तटवर्ती पड़ोसी और करीबी मित्र देश के साथ खड़ा रहेगा। एक आधिकारिक बयान के अनुसार मोदी ने कोरोना संकट के कारण पर्यटन आधारित मालदीव की अर्थव्यवस्था के समक्ष उत्पन्न हुयी चुनौती का जिक्र करते हुये सोलिह को भरोसा जताया कि आर्थिक और स्वास्थ्य क्षेत्र में हुये नुकसान को न्यूनतम करने के लिये भारत, मालदीव का सहयोग करना जारी रखेगा। इस दौरान दोनों नेताओं ने उनके देशों में कोरोना संकट की मौजूदा स्थिति के बारे में एक दूसरे को अवगत कराया। दोनों नेताओं ने कोरोना वायरस की चुनौती से निपटने के लिये दक्षेस देशों के बीच आपसी सहयोग की पूर्व निर्धारित कार्ययोजना के पालन पर संतोष व्यक्त किया। सोलिह ने मोदी को बताया कि भारतीय चिकित्सकों का दल पहले ही मालदीव पहुंच गया था, साथ ही भारत की ओर से सहायता स्वरूप भेजी गयीं जरूरी दवायें भी मिल गयी हैं। इस पर मोदी ने प्रसन्नता व्यक्त की। दोनों नेताओं ने इस बात पर भी सहमति व्यक्त की कि कोरोना वायरस से उपजे स्वास्थ्य संकट और अन्य द्विपक्षीय मुद्दों पर दोनों देशों के अधिकारी आपस में संपर्क कायम रखेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: