13 साल की उम्र में रोहित बन गया CEO, गुगल, एप्पल समेत कई कंपनियों ने किया सम्मानित - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 28 अप्रैल 2020

13 साल की उम्र में रोहित बन गया CEO, गुगल, एप्पल समेत कई कंपनियों ने किया सम्मानित

जमशेदपुर के 15 वर्षीय रोहित ने इतने कम उम्र में ही एक अपना वेबसाइट बना लिया है, जिसके लिए उन्हें गुगल समेत देश के कई कंपनियों ने सम्मानित किया है. रोहित के इस प्रतिभा को देखकर उनके परिजनों को भी उनपर गर्व है.
jamshedpur-boy-ceo-at-13
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता)  कहते है कि अगर ठान लिया जाए तो कोई भी काम कठिन नहीं हो सकता है. शहर के कदमा के रहने वाले पंद्रह वर्षीय रोहित सिन्हा ने अपनी हुनर से कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. देखें स्पेशल स्टोरीरोहित ने अपने हुनर से इतनी छोटी उम्र में ही आईटी कंपनी बना ली है और उनकी कंपनी अभी तक सौ से ज्यादा साइट बना चुकी है. रोहित को गूगल और एप्पल सहित कई आईटी कंपनी ने इस कार्य के सम्मानित भी किया. रोहित ने जब कंपनी बनाई थी तब उसकी उम्र तेरह वर्ष थी. रोहित कदमा के जुस्को स्कूल में दसवीं की पढ़ाई कर रहे हैं. रोहित ने बताया जब वह छठी क्लास में था तब से ही उसके मन में एक वेबसाइट बनाने की इच्छा हुई और उसने इसके लिए जानकारी जुटाना शुरु किया. रोहित को पता चला कि वेबसाइट बनाने में कम से कम 10 से 12 हजार रुपये खर्च होंगे, लेकिन रोहित के घर की माली हालत ठीक नहीं थी. इसलिए उसने अपने परिजन से पैसे नहीं मांगे और खुद वेबसाइट तैयार करने में जुट गए. उसने सोशल मीडिया के माध्यम से वेबसाइट बनाने की जानकारी ली और और दस नवबंर 2018 को अपनी आईटी कंपनी Tech Mastering के नाम से बना ली. उसके बाद वह 16 दिसंबर 2018 को उस कांपनी का सीईओ बन गया. रोहित की पहचान आज एक वेवडिजाइनर के रुप में होने लगी है. कंपनी बनाने के बाद रोहित के सामने उस कंपनी का पंजीयन की समस्या सामने खड़ी हो गई, क्योंकि कम उम्र होने के कारण कंपनी का पंजीयन नहीं हो पाया, तो उसने अपने पापा के साथ मिलकर बैक में ज्वाइंट एकाउंट खुलवाया और काम शुरु किया. आज रोहित के कंपनी में दस से ज्यादा लड़के काम करते हैं, जिनको रोहित कार्यों के अनुसार पैसा भी देते हैं. वैसे सभी काम रोहित ऑन लाइन ही करते हैं. वहीं रोहित को इस कार्य के लिए गूगल सहित कई आईटी कंपनियों ने सम्मानित किया है. हाल ही में इंडिया रिकॉर्ड ऑफ बुक ऑफ होल्डर ने रोहित को सम्मानित किया है. रोहित के पिता एक व्यावासायी हैं, जबकि मां गृहणी हैं. उसके दो भाई-बहनों में रोहित सबसे बड़ा है. रोहित के पिता उसके काम से खुश तो हैं, लेकिन उन्हें रोहित की पढाई भी चिंता रहती है, हालांकि रोहित अपने सारे कार्यो की जानकारी अपने पापा को जरूर देता है. संयुक्त परिवार में रहने वाला रोहित के दादा भी टाटा स्टील में कार्यरत हैं और वे भी रोहित के कार्यों में मदद करते हैं, लेकिन उन्हें भी रोहित की पढ़ाई न छूट जाए इसके लिए वो हमेशा रोहित को पढ़ाई पर भी ध्यान देने को कहते हैं. रोहित अपने स्कूल में होने वाले हर तकनीकी प्रतियोगिता में भाग लेता है और उसे इसके लिए कई पुरस्कार भी मिल चूका है. GOOGLE-Professional APP Developer, Amazon- Professional APP Developer, Apple -Certified developer, India book of Records-voice assistant skill developer, Tech Mastering -CEO and Founder

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...