झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 17 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 17 अप्रैल 2020

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 17 अप्रैल

आयुष विभाग ने नगर मे कि रोग प्रतिरोघक बढाने वाली दवाईयां वितरित

jhabua news
पारा। कोरोना कांेविड 19 वायरस  की रोकथाम के लिए आयुष विभाग ने आंगनवाडी कार्यकर्ता आशा कार्यकर्ता व कोटवार कि टिम को लेकर नगर मे घर घर जा कर आम जन मे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने के लिए आयुर्वेदिक व होम्योपेथीक की दवाईयां वितरित कि। प्राप्त जानकारी के अनुसार कोरोना वायरस कि रोकथाम के लिए आज गुरुवार को पारा नगर मे जिला आयुष अधिकारी डाॅ मीना भायल के निर्देशन मे क्षेत्र के आयुष कार्यकर्ताओ ने आशा कार्यकर्ता आंगनवाडी कार्यकर्ता व कोटवार आदि को लेकर पारा नगर मे घर घर जाकर रोग प्रतिरोघक क्षमता बढाने कि होम्योपेथीक दवाई आर्सेनिक एल्ब 30 व आयुर्वेदिक दवाई श्ंासमन वटी व घर पर ही काडा बनाने के लिए त्रिकटु चुर्ण का वितरण किया। नगर मे दवाईयो का वितरण कर रही आयुर्वेद कम्पाउडर अंगुरबाला गेहलोत ने बताया कि उक्त सभी दवाईया पारा क्षेत्र के प्रत्येक गांव मे घर घर जा कर वितरण कि जा रही है । साथ ही शासन द्वारा दिए गए निर्देश के अनुसार सभी लोगो दुर दुर रहने व बार हाथ धोने के साथ मास्क लगा कर बाहर निकलने कि समझाईस भी दि जा रही हे। उक्त सभी दवाईयो का सेवन प्रत्येक नागरीक को तीन दिन अवश्य करना हे जिससे कि उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढे । इस अवसर पर आयुष विभाग की टिम के साथ पारा नगर पटवारी नरेन्द्र संावरिया, पुर्व सरपंच ओकारसिह डामोर उपसरपंच दिपेश जेन ने भी नगर मे दवाईयो के वितरण मे सहयोग किया।

धार अलिराजपुर जिले से लगी सीमाओ को झाबुआ जिला प्रशासन ने किया सील

jhabua news
पारा । समिपस्थ जिला धार व अलिराजपुर जिले के उदयगढ ब्लाक मे कोरोना कोविड 19 का  संक्रमित आदमी के मिलने से झाबुआ जिला प्रशासन ने तत्काल धार व अलिराजपुर जिले से पारा क्षेत्र कि तरफ से झाबुआ जिले मे प्रवेश के तमाम रास्ते सील कर दिए व चप्पे चप्पे पर भारी मात्रा मे पुलिस बल तेनात कर दिया हें। प्राप्त जानकारी के अनुसार गत दिनो धार व अलिराजपुर जिले मे कोरोना वायरस के संक्रमीत मरीज के मिलने पर झाबुआ जिला प्रशासन ने हाई अर्लट करते हुवे दोनो जिले से पारा क्षेत्र कि लगने वाली सीमाओ के चप्पे चप्पे पर पुलिस बल तेनात कर सील कर दिया। जिला प्रशासन रामा ब्लाक के पारा क्षेत्र कि धार जिले से पारा क्षेत्र कि लगने वाली सीमा बावडी दात्याघाटी मार्ग को सील करते हुए बडी संख्या मे वहा पुलिस बल तेनात कर दिया हे। वही अलिराजपुर जिले कि सीमा से लगे गांव बोरी पारा मार्ग को ग्राम दोलतपुरा के समिप कनवादउदल सेमलखेडी नाल को सील कर बोरी तरफ से आवाजाही बंद करदी हे। वही इसी तरह रेहंदा सीलीखोदरी, व्हाया धोल्यावाड व रजला गुलाबपुरा व्हाया धोल्यावाउ उदयगढ मार्ग को भी सील कर दिया हे। ताकि इन दोनो जिलो कि तरफ आने वाले प्रत्येक नागरीक कि विधि सम्मत जांच होकर प्रवेश हो व कोई भी संक्रमीत मरीज प्रवेश न कर सके। प्रशासन ने इसके लिए सभी जगह पर बेरिकेटस लगा कर सुरक्षा व्यवस्था मजबुत कि हे। 

सांसद गुमानसिंह डामोर की संसदीय क्षेत्र के लोगों से अपील, देष के प्रधानमंत्री की 7 बातों का करे पूर्णतः पालन, अफवाहों और बेमतलब की खबरों से रहे सावधान

jhabua news
झाबुआ। रतलाम-झाबुआ-आलीराजपुर क्षेत्र के सांसद गुमानसिंह डामोर ने सोषयल मीडिया पर 16 अप्रेल को दोपहर एक वीडियो वायरल किया है, जिसमें उन्होंने संसदीय क्षेत्र की जनता से अपील की है कि देष के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देष को कोरोना वायरस जैसी महामारी से मुक्त करवाने के लिए जो आगामी 19 दिनों का लाॅकडाउन बढ़ाया है, उसका जनता शत-प्रतिषत पालन करे। मुख्य रूप से प्रधानमंत्री श्री मोदी की 7 बातों का विषेष ध्यान रखे। साथ ही उन्होंने संसदीय क्षेत्र में इन दिनों फैल रहीं जबरन की अफवाहों और बेमतलब की खबरों से सावधान रहने भी आव्हान किया। सासंद श्री डामोर ने अपने घर पर ही रहकर मुंह पर केसरिया गमछा लपेटकर संसदीय क्षेत्र की जनता से वीडियों के माध्यम से अपील की कि कोरोना वायरस जैसी महामारी आज संपूर्ण देष सहित मप्र में भी तेजी से फैल रहीं है, इसके लिए देष के प्रधानमंत्री श्री मोदी एवं मप्र के मुख्यमंत्री षिवराजसिंह चैहान निरंतर प्रयास करते हुए आवष्यक इंतजामात एवं व्यवस्थाएं करने के साथ ही इस वायरस को जड़ से समाप्त करने के लिए देष एवं मप्र की जनता को जागरूक करने की भी पहल कर रहे है। उन्होंने संसदीय क्षेत्र की जनता से अपील की कि आप सभी केंद्र सरकार, राज्य सरकार और जिला प्रषासन तथा पुलिस प्रषासन के सभी निर्देषों और बातों का पूर्णतः पालन करे, इससे ही आप सुरक्षित और स्वस्थ रह सकेंगे।

गुजरात से आकर मजदूरों द्वारा उत्पाद मचाने की अफवाह फोरी
सासंद श्री डामोर ने पिछले दिनों झाबुआ जिले में गुजरात से पिटोल, कुंदनपुर, रानापुर से ग्रामीणों का झुंड आकर हवाई फायरिंग करने, लट्ठ मारने और लूट-घसोट मचाने जैसी अफवाहों को पूरी तरह से गलत बताते हुए कहा कि इस तरह की अफवाएं संपूर्ण लाॅकडाउन के बीच जिले की शांति फिजा को बिगाड़ने के प्रयासों से कुछ शरारती तत्वो द्वारा जबरन फैलाई जा रहीं है, जो फोरी अर्थात पूरी तरह से गलत है। जिला प्रषासन एवं पुलिस प्रषासन जिले की सुरक्षा और कानून व्यवस्था पर पूरी तरह से नजर रखे हुए है। इसके अतिरिक्त बताया कि कुछ इस तरह की अफवाए फैलाई जा रहीं है  कि केंद्र एवं राज्य सरकार से ग्रामीणो और किसानों के खातांे में जो राहत राषि जमा हुई है, यदि वह उन्हांेने समय पर अपने खातों से नहीं निकाली, तो लेस हो जाएगी। सांसद ने इसका भी खंडन करते हुए कहा कि यह खबर भी गलत है। ग्रामीण, किसान, गरीब वर्ग, जिनके खातों में भी राषि जमा हो रहीं है, वह बिल्कुल निष्चिंत रहे। वह जब चाहे तब अपने खातों से राषि निकला सकते है, उनकी राषि डूबेगी नहंी।

बैंकों, कियोस्क सेंटरों के बाहर अनावष्यक भीड़ ना लगाए, सोषल डिस्टेनसिंग का पूर्णतः पालन करे
सांसद श्री डामोर ने आगे कहा कि ग्रामीण, किसान, गरीब वर्ग के लोग एवं अन्य लोग भी बैंकों के बाहर अनावष्यक रूप से भीड़ ना लगाएं। बैंकों के बाहर कतार में सोषल डिस्टेनंसिंग का पालन करते हुए दूरी-दूरी बनाकर आराम से बैठकर अपना नाम आने पर राषि प्राप्त कर सीधे अपने घरों की ओर लौटे। बाजारों में भी अनावष्यक रूप से ना घूमे। घरों से बाहर निकलने पर मुंह पर मास्क पहनकर निकले एवं हाथों को लगातार सेनेटाईज करे तथा साबुन से धोएं।  

रतलाम और आलीराजपुर में कोरोना संक्रमित मरीज मिलने पर जताई चिंता
सांसद ने रतलाम जिले में पिछले कुछ दिनांे से लगातार बढ़ रहीं कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या एवं 15 अप्रेल, बुधवार शाम आलीराजपुर जिले के उदयगढ़ में भी एक कोरोना संक्रमित मरीज पाए जाने पर चिंता व्यक्त की। साथ ही झाबुआ जिलेवासियों के लोगों से अपील की है कि जिले में जहां फिलहाल एक भी कोरोना संक्रमित मरीज की पुष्टि नहंी हुई है, इसलिए जिले के लोग आवष्यक सावधानियां-सुरक्षा बरतने के साथ अपने घरों पर ही सुरक्षित रहे एवं सोषल डिस्टेनसिंग का विषेष ध्यान रखे। 

करोना संक्रमण महामारी से निपटने के लिए देश व्यापी लॉक डाउन के चलते गरीब और असहाय परिवारों को मदद पहुंचाने में सहायता करने वाली समाजसेवी संस्थाओं की हौसला अफजाई करते हुए जिला कांग्रेस नेउन्हें धन्यवाद ज्ञापित किया

झाबुआ । आदिवासी बाहुल्य झाबुआ जिला मे यहां पर करीब 5 लाख की जनसंख्या है करोना वायरस संक्रमण के कारण पिछले 22 मार्च से लगातार लॉकडाउन चल रहा है जिले में इसका   पालन किया किया जा रहा है जिले की जनता भी संक्रमण को लेकर जागरूक है आमजनता को करोना संक्रमण के कारण चलाई जा रही मुहिम के चलते कई परेशानियों का सामना भी करना पड़ रहा है झाबुआ जिले में गरीब और बेसहारा लोगों की सेवा के लिए व्यापारी संगठन समाज सेवी संगठन प्रशासन जनप्रतिनिधि आदि लोग पूरी तरह से सेवा कार्य लगे हुए हैं प्रशासन इस परपूरी तरह से नजर बनाए हुए है करोना संक्रमण से लड़ने के लिए हर समाज सेवी  अपने अपने स्तर से सेवा कार्य पर लगे हुए हैं झाबुआ जिले में स्वास्थ्य कर्मी सफाई कर्मी पुलिसकर्मी व्यापारी संगठन समाज सेवी संगठन जनप्रतिनिधि गण आदि इस कार्य में जी जान से सहयोग कर रहे हैं !१६ अप्रैल तक झाबुआ जिले में भी एक भी करोना वायरस से पीड़ित व्यक्ति नहीं है यह राहत की बात है!  झाबुआ नगर में सकल व्यापारी संघ द्वारा दिनांक 25 मार्च से 14 अप्रैल तक गरीब व बेसहारा लोगों को 51 हजारसे अधिक के भोजन के पैकेट जरूरतमंदों को पहुंचाएं वही पिटोल बॉर्डर पर भी 28000अधिक लोगों को खिचड़ी उपलब्ध करवाई साथ हीग्रामीण क्षेत्र में मास्क और शेनेटाइजर की व्यवस्था भी करवाई गई है! ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में जनप्रतिनिधियों एवंनगरीय एवम  ग्रामीण क्षेत्रों में प्रसाशन जनप्रतिनिधयो एवं विभिन्न सामाजिक संगठनों द्वारा गरीब और असहाय परिवारोंको राशन बांटा जा रहा है सभी की यह कोशिश है कि लोकडाउन के कारण कोई व्यक्ति भूख से वंचित न रहे! क्षेत्रीय विधायक कांतिलाल भूरिया ने झाबुआ नगर के सकल व्यापारी संगठन जिले के स्वास्थ्य कर्मी सफाई कर्मियों पुलिस प्रशासन समाजसेवी संगठनों समाजसेवी संगठनों के कार्यकर्ताओं की भूरी भूरी प्रशंसा करते हुए कहा कि यह विपदा की घड़ी है हम सबको मिलकर कॅरोना संक्रमण महामारी से लड़ाई लड़नी है !इस विपदा की घड़ी पे कांग्रेस पार्टी पूरी तरह आपके व जनता के साथ खड़ीहै जिला कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल मेहताने कहा की देश में जब जब देश में इस तरह का संकट आता है तो पूरा देश एक साथ खड़ा हो जाता है तथा हुम् सब एक साथ मिलकर एक जुटता का परिचय देते हैं  युवा नेता डॉ विक्रांत भूरिया ने कहा कि कॅरोना संक्रमण महामारी से लड़ाई लड़ने के लिए हमे तैयार रहना होगा यह हमारी परीक्षा की घड़ी है हम सब कोबिना किसी भेदभाव के एवम आपसी भाईचारे के साथ गरीबों एवं असहाय मदद करना है यह सेवा ही मानव सेवा माधव सेवा के महामंत्र को साकार करती है विधायक वीर सिंह भूरिया वाल सिंह मेड़ा पूर्व विधायक जेवियर मेडा कांग्रेस पदाधिकारी  सुरेश चंद्र जैन रूप सिंह डामोर हेमचंद्र डामोर प्रकाश राका रमेश दोषी जिला कांग्रेस प्रवक्ता हर्ष भट्ट आचार्य नामदेव संभागीय प्रवक्ता साबिर फिटवेल नगर पालिका अध्यक्ष मनु बेन डोडियार उपाध्यक्ष रोशनी डोडियार ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष कान्हा गुंडिया शहर कांग्रेस अध्यक्ष गौरव सक्सेना कांग्रेस नेता मानसिंग मेडा मनीष व्यास विजय पांडे बन्टू अग्निहोत्री यशवंत पवार अलीमुद्दीन सैयद राजेश भट्ट रशीद कुरेशी अविनाश डोडियार नितेश डामोर विजय भाबोर विनय भाबोर शंकर भूरिया हेमेंद्र कटारा सायरा बानो मालू डोडियार नूरजहां बी उषा येवले धूम डामोर सहित कांग्रेस पदाधिकारियों ने इस विपदा की घड़ी में अपनी ओर से सेवा कार्य करने हौसला अफजाई करते हुए  उन्हें धन्यवाद ज्ञापित किया है

पिटोल में क्वारेंटाईन सैकड़ों ग्रामीणों द्वारा 14 दिनों का क्वांरटाईन पूरा करने के बाद भी जिला प्रषासन एवं पुलिस प्रषासन द्वारा उन्हंे घरों पर नहीं भेजने से आक्रोषित हुए ग्रामीण
ब्रम्हकुमारी जयंती दीदी एवं प्रषासनिक अमले ने की ग्रामीणों से की बातचीत और किया शांत
jhabua news
झाबुआ। मप्र और गुजरात की सीमा पर बने पिटोल बोर्डर पर पिछले दिनों गुजरात से बड़ी संख्या में लौटे ग्रामीणों को सुरक्षा की दृष्टि से जिला प्रषासन एवं पुलिस प्रषासन द्वारा पिटोल में एक भवन में कुछ दिनों के लिए क्वारेंटाईन किया गया। 15 अप्रेल, बुधवार को अचानक से यहां क्वारंटीन सैकड़ों ग्रामीणजनों ने अचानक से अपना विरोध शुरू कर दिया और क्वारेंटाईन सेंटर के बाहर आकर हंगामा करने लगे। इस बीच श्री प्रजापिता ब्रम्हकुमारी ईष्वरीय विष्वविद्यालय गोपालपुरा की बीके जयंती एवं प्रषासनिक दल ने पिटोल पहुंचकर विरोध कर रहे ग्रामीणों से बातचीत की और उन्हंे शांत किया। पूरा मामला ऐसा था कि पिछले दिनों गुजरात से पलायन कर हजारों की संख्या में लौटे ग्रामीणों का पिटोल बैरियर पर स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा कड़ी पुलिस सुरक्षा के बीच स्वास्थ्य परीक्षण किया गया था। जिसमंे ऐसे ग्रामीण महिला-पुरूष, युवा, बच्वे, बुजुर्ग, जिनको हल्की सर्दी-खांसी, जुखाम, बुखार, सांस की तकलीफ आदि की षिकायत थी, उन्हें सुरक्षा की दृष्टि से जिला प्रषासन ने पिटोल में ही एक भवन को क्वारेंटाईन सेंटर बनाकर वहां क्वारंटाईन किया। इस बीच सभी ग्रामीणों को यहां भोजन-पानी आदि की समुचित व्यवस्था प्रषासन की ओर से ही की जा रहीं है।

अचानक से बाहर आकर विरोध करने लगे ग्रामीण
इस बीच 15 अप्रेल, बुधवार को दोपहर अचानक से ही बड़ी संख्या में ग्रामीण क्वारंटाईन सेंटर के बाहर अपना विरोध दर्ज करवाने लगे। ग्रामीणों का कहना था कि उनके 14 दिन के क्वारेंटाईन का समय पूर्ण हो चुका है, फिर भी प्रषासन उन्हें उनके गंतव्य स्थल पर पहुंचाने की व्यवस्था नहीं कर रहा है। इस दौरान एक युवक ने बताया कि उसकी पत्नि गर्भवती है, उसे यहां रहने में काफी तकलीफ हो रहंी है, कभी भी डिलेवरी हो सकती है, ऐसे में वह अपनी पत्नी सहित घर जाना चाहता है। एक महिला ने बताया कि उसका परिवार उसका घर पर इंतजार कर रहा है, आखिर वह कब यहीं भवन में कैद रहे। एक अन्य युवक ने बताया कि उसके घर पर बच्चा अत्यधिक बीमार है, यदि समय पर नहीं गया, तो दिक्कत आ सकती है, इस प्रकार ी तरह-तरह की समस्याएं ग्रामीणों ने इस दौरान बताई।

बीके जयंती दीदी एवं प्रषासनिक अमले ने दी समझाईष
विरोध कर रहे ग्रामीणों को बीके जयंती दीदी एवं प्रषासनिक अमले ने बताया कि फिलहाल कोरोना वायरस से बचाव हेतु संपूर्ण देष में लाॅकडाउन लगा हुआ है। ऐसे में सभी परिवहन सेवाएं पूरी तरह से बंद है, चूंकि आप ग्रामीणजन गुजरात से होकर यहां आए है, तो आपकों सुरक्षा की दृष्टि से कुछ समय के लिए यहां रखना जरूरी है। यह भी आपका अपना ही क्षेत्र है। जिला प्रषासन एवं पुलिस प्रषासन आपको यहां भोजन, पानी आदि प्राथमिक सुविधाएं उपलब्ध करवा रहा है। यदि आप आज यहां से पैदल या किसी भी अन्य साधन से जैसे-तैसे घर पहुंच भी जाते है, तो बायचांस आप में से किसी भी एक व्यक्ति को इस बिमारी का संक्रमण हुआ, जो वह संक्रमण आपके घर जाने पर ना केवल आपके परिवार, समाज, गली-मौहल्लों और पूरे गांव में फैल जाएगा, जो आगे चलकर काफी बड़ी परेषानी का कारण बन जाएंगा, इसलिए आप कुछ दिनों तक ओर यहां आराम से सुरक्षा के साथ रहे। जल्द ही जिला प्रषासन एवं पुलिस प्रषासन द्वारा आपको यहां से आपके गंतव्य स्थल तक भिजवाएं जाने के लिए समुचित व्यवस्था की जाएगी। जिसके बाद ग्रामीण शांत होकर क्वारेंटाईन सेंटर के अंदर चले गए।

नगरपालिका के सुपर फायटरों ने दो अग्निषमन यंत्रों से किया झाबुआ के मध्य बस स्टेंड और राजवाड़ा को पूरी तरह सेनेटाईज, ताकि झाबुआ शहर में ना फैले कोरोना वायरस का संक्रमण

jhabua news
झाबुआ। कोरोना वायरस (कोविड-19) से शहर की रोकथाम हेतु नगरपालिका परिषद् झाबुआ दिन-रात कार्य में जुटी हुई है। नगरपालिका की टीम द्वारा शहर के प्रत्येक वार्डों में गली-मौहल्लों और काॅलोनियों में मकानों, दुकानों, वाहनों, सामान, सार्वजनिक स्थानों को प्रतिदिन सेनेटाईजन किया जा रहा है। इसी बीच 16 अप्रेल, गुरूवार को नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती मन्नूबेन डोडियार एवं सीएलएस डोडिया के निर्देष पर नपा अमले ने एक बार फिर दो अग्नि शमन यंत्रों (फायर ब्रिगेड) से शहर के मध्य बस स्टेंड एवं राजवाड़ा को पूरी तरह से सेनेटाईजन किया, चूंकि इन दोनो मुख्य स्थानों पर संपूर्ण लाॅकडाउन के बीच भी लोगों की आवष्यक वस्तुओं एवं सामग्रीयों की खरीदी के लिए इक्का-दुक्का आवाजाही के साथ इमरजेंसी सेवाओं में लगे लोगों की ड्यूटियां भी यहां लगी हुई है। यह अभी तक बड़ी राहत की खबर है कि झाबुआ जिले में कोरोना वायरस (कोविड-19) का एक भी पाॅजिटीव केस नहीं आया है। इस श्रेय काफी हद तक झाबुआ जिले की जागरूक जनता के साथ मुख्य रूप से जिला प्रषासन एवं पुलिस प्रषासन को जाता है, जोे दिन-रात जिलेवासियों की सुरक्षा के लिए अपने कर्तव्यों का बखूबी पालन कर रहीं है। मुख्य रूप से झाबुआ शहर में नगरपालिका परिषद् झाबुआ जो इन दिनों कार्य कर रहंी है, वह किसी सैल्यूट और तहेदिल से प्रसंषा करने से कम नहीं है। प्रतिदिन सफाई कामगारों द्वारा सड़कों, नाले-नालियों, कूड़ा-कचरे के ढ़ेर के सफाई के साथ सेनेटाईज का कार्य प्राथमिकता से किया जा रहा है। जिन वार्डों में सफाईकर्मी यह कर रहे है, वहां के लोग इनकी सेवाओं से अभिभूत होकर इनका स्वागत एवं इनके सम्मान में तालियां बजाने से भी नहीं चूक रहे है। शहर की सफाई व्यवस्था का जिम्मा मुख्य रूप से सेनेट्री प्रभारी कमलेष जायसवाल एवं सहायक स्वच्छता निरीक्षक टोनी मलिया ने संभाल रखा है। जिनके नेतृत्व में शहर में करीब 150 सफाई कामगार, जिसमें महिला-पुरू्रष एवं युवा प्रतिदिन अपनी सेवाएं दे रहे है।

ट्रेक्टरों, मषीनों के बाद अब फायर ब्रिगेड से सेनटाईजेषन   
नगरपालिका द्वारा इन दिनों शहर को साफ, स्वच्छ और सुंदर रखने के साथ कोरोना जैसी जानलेवा एवं भयावह महामारी से मुक्त रखने के लिए सेनेटाईजषन के कार्य को प्रतिदिन अंजाम दिया जा रहा है। जिसमें सफाईकर्मियों द्वारा पंपों से घर-घर जाकर सेनेटाईज के साथ मुख्य बाजारों, तिराहो-चैराहों पर ट्रेक्टरों, विभिन्न मषीनांे के बाद इस कार्य के लिए अब अग्नि शमन यंत्रों का भी सहारा लिया जा रहा है। नगरपालिका के पास वर्तमान में उपलब्ध 3-4 फायर ब्रिगेड की मद्द से शहर के मुख्य स्थानों बस स्टेंड, राजवाड़ा, राजगढ़ नाका, मेघनगर नाका, दिलीप गेट पर बाछौर कर सेनेटाईज किया जा रहा है।

दो अग्नि शमन यंत्रों से हुआ पूरा बस स्टेंड सेनेटाईज
16 अप्रेल, गुरूवार को दोपहर नगरपालिका की दो फायर ब्रिगेड से नपा की टीम ने पूरे बस स्टेंड को जैसे आग लगने पर बुझाने के लिए अग्नि शमन यंत्रों से तेजी से पानी की बौछार होती है, उसी तरह सेनेटाईज की दवाई की बौछार कर पूरे बस स्टेंड, जिसमें सड़क, यात्री प्रतिक्षालय, समस्त दुकानों को सेनेटाईज किया।   

राजवाड़ा महल और गोपाल महाराजा की प्रतिमा हुई सेनेटाईज
शहर के मध्य राजवाड़ा पर पूरी राजवाड़ा की सड़क, दुकान, रहवासियों के मकानों के साथ मुख्य रूप से पूरा राजवाड़ा महल, बीच में स्थापित गोपाल महाराजा की प्रतिमा के साथ राजवाड़ा के प्रमुख आल-ईज-वेल को भी अग्नि शमन यंत्रों से सेनेटाईज करते हुए बचाव कार्य किया गया। नपा अध्यक्ष श्रीमती मन्नूबेन डोडियार एवं सीएमओ एलएस डोडिया ने बताया कि जिला प्रषासन के निर्देष पर लाॅकडाउन में यह कार्य आगामी दिनों में भी सत्त जारी रखा जाएगा।

राशि लेप्स के भ्रम में कियोस्क सेंटर पर लगी ग्रामीणों की भीड़ नगर में भय का माहौल

jhabua news
थांदला। ग्रामीण अंचल के कियोस्क सेंटर भी नगर में संचालित होने से ग्रामीणों की मुश्किलें बढ़ गई है ऐसे में अफवाहों के गर्म बाजार ने आग में घी डालने का काम किया है। शासन द्वारा जनधन खातों में राशि डालने व समय पर ग्राहक द्वारा उसे नही निकालने पर उक्त राशि वापस चली जाने के भ्रम में अधिकांश कियोस्क सेंटर पर भीड़ देखी जा रही है। सोशल डिस्टेंश का पालन करवाने के लिये किसी भी कियोस्क सेंटर पर कोई व्यवस्था नही है यहाँ तक कि अधिकांश ग्रामीण बिना मास्क पहने ही देखे गए। नगर के मुख्य झाबुआ धार ग्रामीण बैंक जो कि नगर के मध्य अस्पताल चौराहे पर  संचालित होता है व यहाँ से पुलिस थाना भी ज्यादा दूर नही है तथा एक अन्य जिला सहकारी केंद्रीय बैंक जिसके दूसरे छोर पर ही पुलिस थाना है वहाँ पर भी ग्रामीणों की भारी भीड़ देखी गई। नगर के मध्य संचालित कियोस्क के भी यही हाल रहे। गाँधी चौकए जवाहर मार्गए महात्मा गाँधी मार्ग व लक्ष्मीबाई मार्ग पर संचालित कियोस्क पर लगी ग्रामीणों की भीड़ से नगर के रहवासियों को भय होने लगा है। एक तरफ पूरा देश 3 मई तक लॉक डाउन है ऐसे में ग्रामीणों की समस्याओं का उनके गृह ग्राम में समाधान नही होने से व सीमित प्रशासनिक बल के चलते वैश्विक महामारी से अछूते जिलें में कभी भी कोरोना दस्तक दे सकता है। इसलिए बेहतर होगा कि जिला कलेक्टर दखल देते हुए कियोस्क सेंटर व बैंकों में लगने वाली भीड़ पर भी ध्यान देते हुए ग्राम स्तर पर पंजिकृत कियोस्क सेंटर को उनके पंजिकृत स्थान पर ही संचालित करने के आदेश जारी करें अन्यथा उनके लायसेंस निरस्त कर अन्य को अवसर प्रदान करें।

समर्थन मूल्य पर पंजिकृत किसानों का गेँहू खरीदेगी सरकार बाकि किसानों को करना होगा इंतज़ार

jhabua news
थांदला। मुख्यमंत्री समर्थन मूल्य पर पंजिकृत किसान फसल क्रय योजना का शुभारंभ हो चुका है। वैश्विक महामारी के बीच सोशल डिस्टेंश व मास्क की अनिवार्यता के चलते जिला कलेक्टर के निर्देशानुसार  जिले के सभी 20 केंद्रों पर एसएमएस के माध्यम से दिन में दो बार क्रमशः 3.3 किसानों को बुलाया जा रहा है व उनसे फसल क्रय की जा रही है। हालांकि शुरुआती सुस्ती के बीच एक दो छोटे किसानों ने अपनी फसल शासन को विक्रय की है आगे इसमें वृद्धि होने की संभावना जताई जा रही है। पंजिकृत किसानों की फसल तो शासन खरीद लेगी लेकिन बाकि किसानों के लिये अभी तक जिला कलेक्टर की ओर से कोई निर्देश प्राप्त नही होने से किसान अपनी फसल को लेकर असमंजस की स्थिति में है। सूत्रों की माने तो थांदला के दो केंद्रों पर पंजिकृत किसानों की संख्या 13 सौ के करीब है जबकि यहाँ लगभग 70 हजार किसान रहते है वही जिलें में 2 लाख 50 हजार से ज्यादा किसान है जबकि पंजिकृत किसानों की संख्या महज 10 हजार ही है ऐसे में अपंजीकृत किसान ज्यादा है व उनके लिये भी शासन . प्रशासन को कोई दिशा निर्देश दिए जाने चाहिए। कोरोना महामारी ने भारतीय अर्थव्यवस्था पर गहरा आघात किया है लेकिन शासन . प्रशासन द्वारा इस दिशा में यदि उचित निर्णय लिये जाते है तो भारतीय अर्थ व्यवस्था को मजबूत बनाया जा सकता है। यहाँ किसान व व्यापारी दोनों के बीच लॉक डाउन की स्थिति में माध्यस्थता सहित व्यापार का आभाव है लेकिन यदि शासन प्रशासन अन्य व्यवसाय की तरह इन्हें भी अपना व्यापार करने की छूट मिल जाती है तो ग्रामीण अंचल में निर्धारित दर से कम पर किसान फसल क्रय . विक्रय से किसानों के होने वालें शोषण को भी रोका जा सकता है। यहाँ यह भी जानना आवश्यक होगा कि ग्रामीण अंचल का किसान पैसों की आवश्यकता होने पर ही अपनी फसल थोड़ी थोड़ी करके स्थानीय व्यापारी को बेचता है जिससे उसके पास पूरे वर्ष पर्याप्त धान रहता हैए जिसे वह निज उपयोग के साथ बीजवारें में भी प्रयोग कर लेता हैए यदि उनकी इस व्यवस्था को भंग किया जाता है तो किसान अपनी फसल से हाथ धो बैठेगा व उसे आर्थिक संकट भी आ जायेगा इसलिए आगामी 20 अप्रेल से शासन . प्रशासन जो कुछ छूट देने की योजना बना रहा है उसे कुछ नियम आदि बनाते हुए किसान व व्यापारी के लिये भी उचित निर्णय लेने की आवश्यकता है तभी कोरोना की जंग के साथ हम अपनी अर्थव्यवस्था को भी सम्भाल कर रख सकेंगे।

व्यसनीय मादक पदार्थो पर पूर्ण प्रतिबंध . कालाबाजारी पर अंकुश लगाना चुनोती

थांदला। लॉक डाउन में माल की आवक . जावक की पर्याप्त छूट नही मिलने से अधिकांश व्यापारियों ने लूट मचा रखी है। हर व्यक्ति ठगा जा रहा है लेकिन उसके पास पर्याप्त सबूत नही है जिसके चलते कालाबाजारी पर प्रशासन अंकुश लगाने में असमर्थ ही नजर आ रहा है। कालाबाजारी जब हद से ज्यादा होने लगे तो शासन प्रशासन को कुछ अलग प्रकार से निर्णय लेने ही पड़ते है। स्थानीय थांदला में भी जब इस तरह की कालाबाजारी व कोरोना महामारी में मानवता को छोड़ मजबूरी का फायदा उठाने वालों पर शासन . प्रशासन सख्त मुड़ में आ गया है। अब वह सीधे व्यापारियों पर कार्यवाही के मूड में है। सूत्रों की माने तो थांदला एसडीओपी ने इसके लिये मास्टर प्लान भी तैयार कर लिया हैए जिसके चलते अब कालाबाजारी  व लॉक डाउन को तोड़ने वालें व्यापारी बच नही पाएंगे। एसडीओपी ने इसी प्लान के तहत एक किराना व्यापारी पर धारा 151 के तहत प्रतिबंधात्मक कार्यवाही भी कर दी। केंद्र व मध्यप्रदेश शासन ने शराब आदि के बाद अब तंबाकूए बीड़ी .सिगरेटए विमल आदि पाउच को आगामी आदेश तक पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है जिसके चलते इन व्यसनों की कालाबाजारी ओर अधिक बढ़ने की आशंका के चलते स्थानीय किराना व्यापारी संघ ने सभी पंजिकृत किराना दुकानों पर तंबाकू आदि प्रतिबंध के स्टिकर लगा दिए गए है बावजूद इसके कोई भी किराना व्यापारी प्रतिबंधित पदार्थों को बेचते व खाद्य सामानों की कालाबाजारी करते पाया जाता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही करते हुए उसे एसोसिएशन से भी हटा दिया जाएगा। अब देखना यह है कि नगर में हो रही कालाबाजारी पर अंकुश लगता है या फिर व्यापारी ग्राहकों को ठगने का कोई नया तरीका ईजाद कर लेते है। फिलहाल किराना एसोसिएशन ने भी शासन पर दबाव बनाने के लिए अनिश्चितकाल के लिये अपना व्यवसाय बन्द कर दिया है। इनका कहना है जबतक शासन कोई समय निर्धारित नही करता है तब तक कोई किराना व्यापारी अब किसी भी व्यक्ति को सामान नही देगा। हमने किराना एसोसिएशन के सभी व्यापारियों को प्रिंट रेट पर ही माल देने को कहा हैए वही दालए चावल शक्कर तेल आदि खुलें सामानों के रेट की लिस्ट लगाने की तैयारी की जा रही है। किसी भी व्यापारी द्वारा कोई कालाबाजारी नही की जा रही हैए ग्रामीण दुकानों में हो सकता है कोई कर रहा हो तो हम कुछ नही कर सकते वही प्रतिबंधित व्यसनों को भी कोई व्यापारी नही बेचेगा। वही आपको लगता है कि कोई व्यापारी काला बाजारी कर रहा है तो किसी भी प्रकार का एक सबूत देने पर हम उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही कर एसोसिएशन से बाहर कर देंगे। : अनिल भंसाली . अध्यक्ष किराना व्यापारी संघ थांदला।

कोरोना-19के तहत लाॅक डाउन के दौरान आवष्यक सावधानियां, रखने के निर्देष

झाबुआ। राज्य षासन के वन विभाग द्वारा कोरोना संक्रमण के प्रकोप के समय किये जा रहे लाॅकडाउन के समय लघु वनोपज के संग्रहण, प्रसंस्करण, उपचारण, परिवहन, भण्डारण तथा विपणन के कार्यों में संलग्न श्रमिकों, ग्रामीणों को संक्रमण से बचाव के लिए आवष्यक सावधानिया रखने के निर्देष जारी किए है। तेंदुपत्ता क्रेताओं एवं उनके प्रतिनिधियों के लिए वन मण्डल अधिकारी, प्रबंध संचालक जिला यूनीयन द्वारा क्षेत्र विषेष में कार्य सम्पादन करने के लिए पूर्व से निर्धारित फोटो परिचय पत्र जारी किये जावेगे। जारी किये गए ऐसे समस्त फोटो परिचय पत्र को लघुवनोपज के संग्रहण, परिवहन, भण्डारण के लिए मान्य किया जावेगा। राजस्व एवं पुलिस प्रषासन को इन परिचय पत्रों के सम्बन्ध में कलेक्टर द्वारा अवगत कराया जाएगा। न्यूनतम समर्थन मूल्य पर लघुवनोपज के क्रम के लिए लघु वनोपज संघ द्वारा वन विभाग के माध्यम से आवष्यक व्यवस्थाएं की जावेगी।

कानून का उंलघन करने वाले पर विभिन्न विधियों,अधिनियमों तथा धाराओं के तहत कार्यवाही करने का प्रावधान है

झाबुआ । भारत सरकार, राज्य सरकार, जिला प्रषासन द्वारा कोविड 19 की रोकथाम के लिये आवष्यक दिषा निर्देष जारी किये है। जिला दंण्डाधिकारी श्री प्रबल सिपाहा ने अवगत कराया कि विषय आपदा की स्थति के कारण प्रत्येक नागरिक का यह कर्तव्य हो जाता है कि वह आदेष निर्देषों का पालन करें इस विषम स्थिति में कानून का उंलघन करने वाले व्यक्तियों, नागरिकों के विरूध साधारणतः विभिन्न विधियों, अधिनियमों तथा धाराओं के तहत दण्डनिय अपराधों में कार्यवाही की जा सकेगी। धारा 188 भारतीय दण्ड सहिता - किसी लोक द्वारा सम्यक रूप से प्रस्थापित आदेष की अवज्ञा करने पर धारा 188 भारतीय दण्ड सहिता के तहत कार्यवाही की जा सकेगी जो संज्ञेय व अजमानतिय हैं। इस धारा के अंतर्गत छः माह तक कारावास या जुर्मानें का दण्ड हो सकेगा। धारा 269 भारतीय दण्ड संहिता- जो कोई विधिवद रूप से या उपेक्षा से कोई कार्य करेगा। जिसमे जीवन के लिये संकटपूर्ण रोग का संक्रमण फैलाना संभव हो, उस पर धारा 269 भादवि के तहत कार्यवाही की जा सकेगी। जिसमें छः माह तक कारावास या जुर्मानें से दण्ड का प्रावधान है। धारा 270 भारतीय दण्ड सहिता- जो कोई परिद्वेषपुर्ण कार्य करेगा जिसमें जीवन के लिये संकटपूर्ण रोग का संक्रमण फैलाना संभव हो, उस पर धारा 270 भादवि के तहत कार्यवाही की जा सकेगी। जिसमें दो वर्ष तक कारावास या जुर्मानें से दण्ड का प्रावधान है। धारा 271 भारतीय दण्ड सहिता- जो कोई ऐसे स्थानों में जहाॅं संक्रमण रोग फैल रहा हो और अन्य स्थानों के बीच समागम विनियमित करने के लिये सरकार द्वारा बनाये गये नियम अवज्ञा करेगा। उस पर धारा 271 भादवि के तहत कार्यवाही की जा सकेगी। जिसमें छः माह तक कारावास या जुर्मोने से दण्ड का प्रावधान है। धारा 51 (आपदा प्रंबधन अधिनियम 2005)- जो कोई बिना उचित कारण के आपदा प्रंबंधन में लगे केन्द्र सरकार, राज्य सरकार के अधिकारी या केन्द्र,राज्य,जिला प्राधिकरण के किसी अधिकारी को अपने कर्तव्य के निर्वहन में बाधा डालता है तो उस पर धारा 51 आपदा प्रंबधन अधिनियम के तहत कार्यवाही की जा सकेगी। जिसमें एक वर्ष तक कारावास या जुर्माने से दण्ड का प्रावधान है। यदि मानव जीवन को तात्कालिक खतरा या हानी होती है तो दो वर्ष तक कारावास या जुर्मानें से दण्ड का प्रावधान है। इसी प्रकार धारा 54 (आपदा प्रंबधन अधिनियम 2005)- जो कोई आपदा के संबंध में झुटी सूचना, चेतावनी प्रसारित करता है, उस पर धारा 54 (आपदा प्रंबधन अधिनियम 2005) के तहत कार्यवाही की जा सकेगी। जिसमें एक वर्ष तक कारावास या जुर्मोने से दण्ड का प्रावधान है।

कोई टिप्पणी नहीं: