किसी भी कर्मचारी की कोरोना से मौत पर एक करोड़ देगी सरकार :केजरीवाल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 19 अप्रैल 2020

किसी भी कर्मचारी की कोरोना से मौत पर एक करोड़ देगी सरकार :केजरीवाल

kejriwal-announce-one-crore-for-corona-warior
नयी दिल्ली, 18 अप्रैल, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली सरकार अब कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से किसी भी कोरोना योद्धा की मौत पर उनके परिवार को एक करोड़ रुपये की सम्मान राशि देगी। श्री केजरीवाल ने संवाददाता सम्मेलन में इसकी घोषणा करते हुए शनिवार को कहा कि अब तक इस योजना के तहत अस्पतालों के डाॅक्टर, नर्स, सफाई कर्मचारी, लैब टैक्निशियन और अन्य कर्मचारियों को सहायता देने का प्रावधान था, जिसे संशोधित किया गया है। अब यदि ड्यूटी करते हुए किसी पुलिसकर्मी, सिविल डिफेंस, प्रिंसिपल, शिक्षक आदि की भी कोरोना वायरस की वजह से मौत होती है तो उनके परिवार को एक करोड़ रुपये की सम्मान राशि दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, ऐसे करीब 31 लाख गरीब लोगों ने मुफ्त राशन प्राप्त करने के लिए आवेदन किया है। दिल्ली सरकार सभी को राशन मुहैया कराएगी। लाॅकडाउन की वजह से आर्थिक तंगी से जूझ रहे पब्लिक सर्विस व्हीकल (पीएसवी) चालकों के अभी तक करीब एक लाख आवेदन आए हैं जिनके खाते में पांच-पांच हजार रुपये की राहत राशि भेजी जा रही है। उन्होंने कहा कि पिछले दो-तीन दिनों में दिल्ली में कोरोना वायरस से लोगों के संक्रमित होने का सिलसिला कम हुआ है। इससे पहले एक दिन 180, एक दिन 300 से अधिक और एक अन्य दिन 150 से अधिक मामले आ गए थे। मरीजों की संख्या बढ़ने से बीच में थोड़ी घबराहट बढ़ गई थी कि क्या दिल्ली में कोरोना तेजी से बढ़ रहा है? लेकिन पिछले तीन दिन में ऐसे मामले थोड़े कम हुए हैं। अभी इसे और कम करना है। मैं उम्मीद करता हूं कि अगले कुछ दिनों में बढ़ने की बजाय कोरोना वायरस के मामले कम होंगे। कल दिल्ली में 67 मामले आए थे। यह 67 मामले 2274 नमूनों की जांच में आए हैं। इसका मतलब है कि कोरोना अभी बहुत तेजी से नहीं बढ़ रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में अब कुल 71 कंटेनमेंट जोन हो गए हैं। कंटेनमेंट जोन पूरी तरह से सील कर दिए गए हैं। अंदर से कोई बाहर और बाहर से कोई अंदर नहीं आ सकता है। जोन के अंदर भी रहने वाले लोगों को अपने घर में ही रहना होता है, उन्हें भी घर के बाहर निकलने की अनुमति नहीं है। उनकी रोजमर्रा की जरूरतों को सरकार पूरी कराती है। वहां पर पुलिस एवं स्थानीय प्रशासन बहुत अच्छा काम कर रहे हैं और लोगों की सभी जरूरतें पूरी कराते हैं। मुख्यमंत्री ने कंटेनमेंट जोन में रहने वाले लोगों से अपील करते हुए कहा कि कंटेनमेंट जोन में बाहर से अंदर और अंदर से बाहर जाने वाले लोगों को हम रोक रहे हैं, लेकिन इन सारी कोशिशों के बावजूद भी कुछ कंटेनमेंट जोन के अंदर रहने वाले लोग गली में निकल जाते हैं और एक-दूसरे के घर चले जाते हैं। उन्होंने बताया कि जहांगीरपुरी में एक कंटेनमेंट जोन है। वहां कल एक एक ही परिवार के 26 लोगों में कोरोना मिला है। इस परिवार का आसपास ही कई सारे मकान हैं और वे कंटेनमेंट के बावजूद भी एक-दूसरे के घर जा रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरा देश इस वक्त लाॅकडाउन में है। कितनी मुसीबतों का सभी लोग सामना कर रहे हैं। ऐसे में सभी लोग अनुशासन नहीं बरतेंगे, तो तकलीफ होगी। उन्होंने कहा, “हमें आप की जान की चिंता है। इसीलिए मैं आप सभी लोगों से बार-बार अपील कर रहा हूं। आप खुद सोचिए कि एक ही परिवार के 26 लोगों को कोरोना हो गया है, यह अच्छी बात नहीं है। मैंने पहले भी कई बार कहा था कि आपको कोरोना होगा या नहीं होगा, यह आप पर निर्भर करता है। यदि आप अपने को बचाकर रखेंगे, तो कोरोना नहीं होगा। यदि लापरवाही बरतेंगे, तो कोई भी नहीं बचा सकता है। यदि किसी के मन में यह है कि उसे कोरोना नहीं होगा, तो यह आप भूल जाइए। यह कोरोना न तो किसी मंत्री को छोड़ता है और न तो किसी चपरासी को छोड़ता है। कोई जाति, धर्म, अमीर एवं गरीब आदि इससे कोई भी नहीं बचा हुआ है। इसलिए आप इस गलत फहमी में मत रहिए कि आपको कोरोना नहीं हो सकता है। यह कहीं पर भी किसी को भी हो सकता है और कहीं से भी आ सकता है, किसी को पता भी नहीं चलेगा। इसलिए आप सभी अपने आपको बचा कर रखिए। सरकार ने कहीं पर कंटेन्मेंट घोषित किया है, तो बहुत सोच समझ कर किया है। कम से कम वहां पर बड़ी सख्ती के साथ अपने घर पर रहिए।” श्री केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार ने एक महत्वपूर्ण फैसला लिया है। अभी कुछ दिन पहले हमने फैसला लिया था कि कोई भी डाॅक्टर, नर्स या अस्पताल में काम करने वाले सफाई कर्मचारी, लैब टैक्निशियन आदि को कोरोना का इलाज करते समय उन्हें भी कोरोना हो जाता है और उसकी वजह से उनकी मौत हो जाती है, तो दिल्ली सरकार उनके परिवार को एक करोड़ रुपये की सम्मान राशि देगी।

उन्होंने कहा, “हम देख रहे हैं कि बहुत सारे दूसरे कर्मचारी भी हैं, जो कोरोना के मरीजों की सेवा करने में लगे हुए हैं। मसलन, पुलिसकर्मी रात-दिन कोरोना के मरीजों की जगह-जगह सेवा करने में लगे हुए हैं। उसी तरह, सिविल डिफेंस के लोग भी रात-दिन सेवा कर रहे हैं। हमारे बहुत सारे प्रिंसिपल और शिक्षक लोगों को खाना बांट रहे हैं। यदि कोरोना के लोगों की सेवा करने की वजह से किसी भी कर्मचारी को कोरोना हो जाता है और उनकी मौत हो जाती है, तो ऐसे सभी कर्मचारियों पर भी यह योजना लागू होगी। उनकी मौत के बाद उनके परिवार को भी एक करोड़ रुपये की सम्मान राशि दी जाएगी1” श्री केजरीवाल ने बताया कि आज एक आॅटो चालक का फोन आया। वह बहुत भाव-विभोर हो रहा था। उसका गला बिल्कुल भरा हुआ था। मैंने उससे पूछा, “क्या हुआ?’ उसने बताया कि उसके बैंक खाते में पांच हजार रुपये आ गए। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि मैं आपका किन शब्दों में शुक्रिया करूं। उसने कहा कि आज तक किसी भी सरकार ने ड्राइवरों का इतना ख्याल नहीं रखा। इतनी मुसीबत की घड़ी में आपने हमारा ख्याल रखा और मदद की। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं किसी पर एहसान नहीं कर रहा हूं। यह आपका ही पैसा है। आपके ही काम आना चाहिए। मेरा यह फर्ज बनता है, जो कुछ मैं कर रहा हूं। आज मुझे यह खुशी है कि हमारे आॅटो, ग्रामीण सेवा, टैक्सी और ई-रिक्शा समेत जितने भी पीएसवी चालक हैं, उन सभी के खाते में पैसे पहुंचने शुरू हो गए हैं। अभी तक सरकार के पास करीब एक लाख आवेदन आए हैं। अभी भी वेबसाइट चालू है और आवेदनों के आने का सिलसिला जारी है। सत्रह अप्रैल से उनके खाते में पैसे पहुंचने शुरू हो गए हैं। जो लोग भी आवेदन कर रहे हैं, उनके डाक्यूमेंट की यथाशीघ्र जांच कर रहे हैं और उसके बाद उनके खाते में पैसे भेज रहे हैं। सभी के खाते में 5-5 हजार रुपये भेजे जा रहे हैं।” मुख्यमंत्री ने बताया कि पूरी दिल्ली के अंदर सेनिटाइजेशन करने के लिए कुल 60 मशीनें लगी हैं। अभी तक दिल्ली के काफी इलाकों में सेनिटाइजेशन हो चुका है। जगह-जगह मशीनें जा रही हैं। इसके बावजूद यदि किसी इलाके में पहले सेनिटाइजेशन कराना है, तो जानकारी मिलने पर उस इलाके में मशीनों द्वारा सेनिटाइजेशन करा दिया जायेगा। उन्होंने कहा, “दिल्ली में 71 लाख लोगों के पास राशन कार्ड हैं। उन सभी लोगों को राशन मिल चुका है। प्रत्येक कार्ड धारकों को 7.5 किलोग्राम राशन दिया गया है। इसके अलावा बहुत से ऐसे गरीब हैं, जिनके पास राशन कार्ड नहीं है। उन्हें राशन देने के लिए हमने वेबसाइट शुरू की है। उन्हें हमने कहा था कि आपके पास राशन कार्ड नहीं है, आप गरीब हैं और सरकार से मुफ्त में राशन प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप आवेदन करें। अभी तक 31 लाख लोगों ने आवेदन किया है। उन सभी लोगों को हम राशन देंगे। अब तक 3.5 लाख लोगों को राशन दे चुके हैं। स्कूलों में राशन बांटा जा रहा है।” श्री केजरीवाल ने कहा, “इन सबके अलावा मैं कहना चाहता हूं कि यह बहुत बड़ी त्रासदी है। जब तक आप सभी का साथ नहीं मिलेगा, अकेले हम कुछ नहीं कर सकते हैं। मुझे बहुत खुशी है कि हमारी पार्टी और दूसरी पार्टी के साथ समाज सेवी संस्थाओं के लोग अच्छे काम में लगे हुए हैं। किसी को कहीं पता चलता है कि वहां पर कोई भूखा है, तो वहां कोई न कोई व्यक्ति पहुंच कर मदद कर रहा है। यह पुण्य का काम है। यही इंसानियत है। यही सच्ची पूजा और देशभक्ति है। इस समय कोई भी व्यक्ति दुखी मिले, उसकी मदद करें। जो लोग भी इस दुख की घड़ी में मदद कर रहे हैं, मैं उन सभी लोगों को सलाम करना चाहता हूं। मैं भी 24 घंटे आपकी सेवा में हाजिर हूं। हम लोग 24 घंटे लगे हुए हैं। कभी भी आपको किसी चीज की जरूरत हो, बेहिचक आप मुझसे संपर्क कर सकते हैं।”

कोई टिप्पणी नहीं: