देश में अभी तक कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं, अप्रैल में सभा और जुलूस की नहीं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2020

देश में अभी तक कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं, अप्रैल में सभा और जुलूस की नहीं

no-comunity-transmission-in-india
नई दिल्ली (आर्यावर्त संवाददाता)  : कोरोना को लेकर अपने नियमित प्रेस वार्ता में भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश भर में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या अब तक 6412 हो चुकी है, अब तक 503 लोग ठीक हो चुके हैं तथा 199 लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले चौबीस घंटे में कोरोना के 678 नए मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि केंद्र सरकार की ओर से राज्यो की मदद के लिए 15 हजार करोड़ का पैकेज की घोषणा की गई है। ब्लड बैंक में रक्त की कमी न हो इसके लिए मंत्रालय की ओर से विशेष गाइड लाइन जारी की गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि गुरुवार को कोरोना के 16 हजार टेस्ट किए गए। इसमें से 2 फीसदी संक्रमित मिले हैं। तथा देश में अभी तक कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं हुआ है। घबराने की जरूरत नहीं है, लेकिन जागरूक और सतर्क रहें। विदेश मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि केंद्र सरकार ने 20 हजार 473 लोगों को उनके देश वापिस भेजा। तथा विदेश में फंसे लोगों को हर हाल में वापिस लाएंगे। विदेश मंत्रालय ने कहा कि बहुत सफल तरीके से लोगों को निकालने के इस अभियान को चलाया गया। हमारे राजनयिक अपने नागरिकों के लगातार संपर्क में है। हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन (HCQ) की काफी वैश्विक मांग है, हमारी जरूरतों के मुताबकि पर्याप्त मात्रा में घरेलू स्टॉक उपलब्ध है। गृह मंत्रालय ने कहा कि अप्रैल महीने में कोई भी राज्य किसी भी सभा और जुलूस निकालने की इजाजत नहीं दे। तथा लॉक डाउन को प्रभावी ढंग से लागू किया जाए। हॉट स्पॉट को चिन्हित कर उचित समाधान करे। आज देश में 37 हजार 978 रीलीफ कैंप और शेल्टर्स द्वारा 14.3 लाख प्रवासी मजदूरों एवं अन्य लोगों को आश्रय प्रदान किया जा रहा है। तथा देश में लगभग 26 हजार 225 फूड कैंप भी लगाए गए हैं, जिनमें एक करोड़ से ज्यादा लोगों को भोजन दिया जा रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं: