सरयू राय ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, कहा-केंद्र से राज्य की जीडीपी के 10% के बराबर सहायता पैकेज मांगे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 27 अप्रैल 2020

सरयू राय ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, कहा-केंद्र से राज्य की जीडीपी के 10% के बराबर सहायता पैकेज मांगे

सरयू राय ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को सलाह देते हुए कहा है कि वो जनता को हो रही आर्थिक क्षति की भरपाई के लिए केंद्र सरकार से राज्य की जीडीपी के 10% के बराबर विशेष आर्थिक सहायता पैकेज की मांग करें
saryu-rai-write-letter-to-center
रांची (आर्यावर्त संवाददाता)  विधायक सरयू राय ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को सलाह दी है कि वैश्विक महामारी कोरोना की रोकथाम के लिए भारत सरकार द्वारा घोषित लॉकडाउन के कारण राज्य की सरकार, जनता और आर्थिक गतिविधियों पर हुए प्रतिकूल प्रभाव के आलोक में केंद्र सरकार से राज्य की जीडीपी के 10% के समतुल्य विशेष आर्थिक सहायता पैकेज मांगे. इसको लेकर सरयू राय ने रविवार को मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है उन्होंने पत्र के माध्यम से कहा है कि कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन से झारखंड राज्य और यहां की जनता को हो रहे आर्थिक क्षति की भरपाई के लिए केंद्र सरकार राज्य की जीडीपी के 10% के बराबर विशेष आर्थिक सहायता पैकेज दे. उन्होंने कहा है कि लॉकडाउन की घोषणा किए हुए 1 महीने से अधिक समय हो गया है. ऐसा लगता है कि लॉकडाउन 3 मई के बाद भी किसी ना किसी रूप में चलने वाला है. लॉकडाउन की वजह से लोग घरों में बंद हैं और आर्थिक गतिविधियां ठप हो जाने के कारण होने वाली राज्य की आमदनी रुक गई है. उन्होंने कहा है कि 20 अप्रैल के बाद से आर्थिक गतिविधियां चालू करने का निर्णय हुआ है. लेकिन अनेक व्यावहारिक कठिनाइयों के कारण यह गतिविधियां रफ्तार नहीं पकड़ पा रही हैं. फिलहाल राज्य सरकार के पास और आम जनता के पास भी नकदी की किल्लत हो गई है. सरकार के सहायता से आंशिक जनसंख्या का केवल पेट पालन हो रहा है. लॉकडाउन का राज्य और यहां की जनता की वित्तीय स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है. जिसके शीघ्र समाप्त होने की उम्मीद नहीं है.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...